अपराधों के बदलते तौर तरीकों से निपटने के लिये सभी प्रशिक्षु पुलिस अधिकारी नवीनतम तकनीक से सुसज्जित रहें-मुख्य सचिव

भारतीय पुलिस सेवा के 14 प्रशिक्षु अधिकारियों ने मुख्य सचिव से भेंट की।शासकीय सेवाकाल के शुरुआती वर्षों में किये गये कार्यों से ही अधिकारियों की छवि समाज में बनती है।अपनी छवि को बेहतर बनाने हेतु अपनी बेहतर सेवायें प्रदान करने पर ध्यान केन्द्रित करते हुये निष्पक्षता एवं पारदर्शिता से कार्य करना चाहिये। अपराधों के बदलते तौर तरीकों से निपटने के लिये सभी प्रशिक्षु पुलिस अधिकारी नवीनतम तकनीक से सुसज्जित रहें।

लखनऊ, उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी से आज लोक भवन स्थित कार्यालय कक्ष के सभागार में भारतीय पुलिस सेवा के 72वें आर0आर0 (2018 एवं 2019 बैच) के 14 परिवीक्षाधीन अधिकारियों ने भेंट की।

इस अवसर पर मुख्य सचिव ने कहा कि शासकीय सेवाकाल के प्रारम्भ के 4-5 वर्ष में किये गये कार्यों से ही अधिकारियों की छवि समाज में बनती है। प्रशिक्षु आई0पी0एस0 अधिकारियों को अपनी छवि को उज्ज्वल बनाकर प्रदेश एवं देश में अलग पहचान बनानी चाहिये। आमजन की समस्याओं को धैर्य एवं शालीनता के साथ सुनकर उनकी समस्याओं का निराकरण करें।

मुख्य सचिव ने कहा कि तैनाती के दौरान समाज में अपनी छवि को बेहतर बनाने हेतु अपनी उत्कृष्ट सेवायें प्रदान करने पर ध्यान केन्द्रित करते हुये निष्पक्षता एवं पारदर्शिता से कार्य करना चाहिये। लोगों में जिम्मेदारी की भावना पैदा करें, ताकि लोग सामाजिक दायित्वों के प्रति जागरूक रहें और नियम-कानून का शत-प्रतिशत पालन करें।

मुख्य सचिव ने कहा कि अपराधों के बदलते तौर तरीकों से निपटने के लिये सभी प्रशिक्षु पुलिस अधिकारी नवीनतम तकनीक से सुसज्जित रहें। अधिकारियों को नवीनतम सूचनाओं से अपडेट रहना चाहिये। ज्ञान अगर अपने अधीनस्थ से मिले तो भी ज्ञान प्राप्त करने में संकोच न करें।
इस मौके पर पुलिस महानिदेशक (प्रशिक्षण) सुजान वीर सिंह तथा अपर पुलिस महानिदेशक (प्रशिक्षण) एस0एन0तरडे भी उपस्थित थे।