इंतजार खत्म,राम मंदिर निर्माण की शुभ घड़ी आज

अयोध्या आस्था और उत्साह में सराबोर रामभक्तों का सदियों पुराना सपना आज साकार होने जा रहा है जब शंखनाद और घंटा घड़ियाल की ध्वनि और वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पौराणिक नगरी अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भव्य राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। भाद्रपद में शुक्ल पक्ष की द्वितीया काे अयोध्या नरेश दशरथ के महल में भगवान विष्णु के अवतार श्रीराम ने मां कौशाल्या के गर्भ से जन्म लिया था।

सदियों का इंतजार खत्म, आ गई राम मंदिर निर्माण की शुभ घड़ी-आज।

आज भूमि पूजन का माह तिथि श्रीराम के जन्म के समय की होगी जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भव्य राम मंदिर का भूमि पूजन वैदिक मंत्रोच्चार के बीच करेंगे और इसी के साथ 500 वर्षों के लंबे इंतजार के बाद राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा। मंदिर का यथार्थ स्वरूप देने में शिल्पकारों को करीब ढाई वर्ष का समय लगने की संभावना है   इस ऐतिहासिक घड़ी के लिए अयोध्या नगरी सज-संवर कर तैयार हो गई है। बाईपास राम पैड़ी से लेकर पूरे नगर को रंग बिरंगी झालरों और भगवा झण्डे से सजाया गया है, जिसकी शोभा देखती ही बन रही है। समूचे पौराणिक नगर को शुभ के प्रतीक पीले रंग से रंगा गया है। दीवारों पर रामायण कालीन चित्र उकेरे गए हैं जो त्रेता युग को अदभुत वर्णन कर रहे हैं। अयोध्या में चहुंओर रामनाम की धुन बज रही है। अनेकाें स्थान पर अखंड रामचरित मानस का पाठ चल रहा है। श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आगमन को लेकर रामनगरी में काफी उत्साह है। चारों ओर इस खुशी में दीपक जलाए जा रहे हैं। जगह-जगह अनुष्ठान चल रहा है। हर कोई इस खुशी के पल में शामिल होना चाहता है।

शुभ घड़ी आज…….

आज दोपहर 12 बजकर 15 मिनट 15 सेकंड।
प्रतीक्षा समाप्त 492 वर्ष के इंतजार के बाद अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का भूमिपूजन।अभिजीत मुहूर्त भगवान श्रीराम ने जिस अभिजीत मुहूर्त में लिया था जन्म, भूमिपूजन उसी मुहूर्त में
32 सेकंड का शुभ मुहूर्त।
श्रीगणेश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चांदी की ईंट रखकर मंदिर निर्माण का करेंगे शुभारंभ।
5 नक्षत्रों की परिचायक 5 चांदी की शिलाओं समेत कुल 9 शिलाएं रखेंगे पीएम।12 बजकर 15 मिनट 15 सेकंड से 12 बजकर 15 मिनट 47 सेकंड तक।
राज्यपाल आनंदी बेन, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, संघ प्रमुख भागवत समेत कई विशिष्ट हस्तियां बनेंगी साक्षी।

अयोध्या में लाउडस्पीकर लगाए गए हैं जिससे जन्मभूमि पर भूमि पूजन की आवाजें हर व्यक्ति के कान में गूंजती रहें। शहर में जगह-जगह पर लड्डू बनाए जा रहे हैं। भूमि पूजन के बाद इस लड्डू को पूरे देश में बांटा जाएगा। लोगों में इतनी खुशी है कि अपने-अपने घरों में राम महोत्सव के पर्व पर दीपावली भी मना रहे हैं।  मोदी आज सुबह विशेष विमान ने यहां 11-30 बजे कामता सुंदरलाल साकेत महाविद्यालय में बने अस्थायी हेलीपैड पर उतरेंगे और 11-40 पर प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी मंदिर पहुंचकर पूजा करेंगे। दस मिनट पूजा करने के बाद 12-00 बजे सीधे रामजन्मभूमि परिसर पहुंचेंगे जहां अस्थायी मंदिर में विराजमान रामलला का दर्शन-पूजन करेंगे। सवा 12 बजे वह रामजन्मभूमि परिसर में पारिजात के पौधे का रोपण करेंगे जिसके बाद भूमि पूजन कार्यक्रम का शुभारंभ किया जायेगा। इसके बाद 12ः40 पर प्रधानमंत्री मंदिर की आधारशिला रखी जाएगी। मोदी दो बजकर पांच मिनट पर पुन: साकेत कालेज में हेलीकाप्टर के लिए प्रस्थान करेंगे जहां पर वह 14ः 20 पर लखनऊ के लिये रवाना हो जाएंगे।

जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने राम नगरी अयोध्या को रामराज्य का स्वरूप दिया है, जिसके लिए उन्होंने जब से घोषणा हुई है कि अयोध्या में श्रीराम मंदिर का भूमि पूजन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया जाएगा तब से वह दिन रात मेहनत कर अयोध्या को राम राज्य की तरह  सजाने को कटिबद्ध  रहे हैं।

प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को देखते हुए अयोध्या की सीमाओं को सील कर दिया गया है। लोकल आईडी दिखाकर स्थानीय लोगों को शहर में प्रवेश दिया जा रहा है। बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश पर रोक है। अयोध्या में व्यवस्था बहुत चाक-चौबंद है जहां परिंदा भी पर नहीं मार सकता। प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिये चप्पे-चप्पे पर भारी पुलिस बल तैनात हैं। आरएएफ के जवान लगातार गश्त दे रहे हैं। खुफिया विभाग और डाग स्कवायड की टीमें नजरें बनाये हुए है। रामनगरी में जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे भी लगाये गये हैं जिससे किसी अनहोनी घटना से निपटा जा सके। साकेत महाविद्यालय से लेकर हनुमानगढ़ी के दोनों तरफ बैरीकेटिंग कर दी गयी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आगमन को लेकर प्रशासन इसमें कोई कोताही नहीं बरतना चाहता।

जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने राम नगरी अयोध्या को रामराज्य का स्वरूप दिया है। 

अयोध्या की पूरी सुरक्षा व्यवस्था एसपीजी के हवाले हो गयी है। बुधवार को हनुमानगढ़ी और रामजन्मभूमि की ओर कोई नहीं जा पाएगा। रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चम्पत राय ने बताया कि राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित 175 गणमान्य लोग शामिल होंगे। इनमें 36 परम्पराओं के 135 संत-धर्माचार्य रहेंगे। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम में नेपाल के जनकपुर के महंत को भी आमंत्रित किया गया है। जनकपुर भगवान राम का ससुराल है इसलिए माता सीता के कारण अयोध्या और जनकपुर का बहुत पुराना सम्बन्ध है।  उन्होंने बताया कि मंच पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष एवं मणिराम दास छावनी के महंत नृत्यगोपाल दास, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद रहेंगे। राय ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी का प्रकोप ज्यादा है इसलिये पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी व पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह भूमि पूजन में नहीं सम्मिलित होंगे। उन्होंने कहा कि इनसे मेरी बातचीत हो गयी है क्योंकि इस समय वैश्विक महामारी का प्रकोप ज्यादा है और यह लोग नब्बे वर्ष की आयु से अधिक हैं, कार्यक्रम में नहीं शामिल होंगे।