उमा भारती का अयोध्या दौरा आज,

 उमा भारती का अयोध्या दौरा आज,पीएम,अन्य लोगों के जाने के बाद पहुंचेंगी, 
अन्य लोगों के जाने के बाद दर्शन करेंगी, रामलला के दर्शन करेंगी उमा भारती, 
भोपाल से अयोध्या पहुंचेंगी उमा भारती,भूमि पूजन कार्यक्रम में नहीं शामिल होंगी।

अयोध्या में 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन के लिए तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं। सुरक्षा के अभूतपूर्व इंतजाम किए गए हैं। इस बीच, रामलला के एक अन्य अर्चक भी कोरोना पॉजिटिव सोमवार को रामलला के एक अन्य अर्चक प्रेमचंद्र तिवारी भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए। गत 30 जुलाई को सहायक पुजारी प्रदीप दास के कारोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद से ही रामलला के मुख्य अर्चक आचार्य सत्येंद्रदास पर भी भूमिपूजन अनुष्ठान में शामिल होने को लेकर संशय मंडराने लगा है। सहायक पुजारियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद मुख्य अर्चक को क्वारंटाइन कर दिया गया था। हालांकि उनकी जांच रिपोर्ट दो बार निगेटिव आ चुकी है, पर रामलला के दरबार तक जाने के लिए उन्हें जिलाधिकारी अनुज कुमार झा से हरी झंडी मिलने का इंतजार है।

श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसके तहत गौरी-गणेश की आराधना के साथ 21 पुरोहित अन्य पूजन संपन्न करा रहे हैं। सोमवार को सॉलिड स्टोन की नौ शिला का पूजन किया गया। मंदिर का नक्शा पास होने के बाद जहां पर रामलला विराजमान हों, वहां की नींव के नीचे इन नौ शिलाओं की स्थापना होगी।

भूमिपूजन के लिए बना आमंत्रण पत्र खास किस्म के सिक्योरिटी कोड से लैस है, जो केवल एक बार ही काम करेगा। कार्ड की नंबरिंग भी की गई है। आयोजन स्थल पर प्रवेश के समय कार्ड पर पड़े नाम व नंबर को सुरक्षा अधिकारी क्रॉस चेक करेंगे। एक बार प्रवेश लेने के बाद यदि कोई व्यक्ति परिसर से निकलकर दोबारा जाने करने की कोशिश करेगा तो उसे प्रवेश नहीं मिल सकेगा। वहीं रामलला के लिए लखनऊ की मुस्लिम महिला चांदनी शाहबानो ने डाक से राखी भेजी है। भगवान राम से प्रेम धर्म की सीमाओं से परे हैं।

भूमि पूजन में शामिल होने के लिए अतिथियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहुंचने से 2 घंटे पहले ही स्थल पर पहुंचना होगा। अतिथियों के वाहन सिर्फ रंगमहल बैरियर तक ही जाएंगे। वहां से अतिथियों को पैदल ही कार्यक्रम स्थल तक जाना होगा। अमावा मंदिर परिसर में वाहनों की पार्किंग की जाएगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को श्रीराम जन्मभूमि परिसर के साथ हनुमानगढ़ी का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि 5 अगस्त का दिन हमारे लिए काफी गौरवशाली है। इसके महत्व को समझते हुए मैं यहां अयोध्या में कार्यों का अवलोकन करने के लिए आया हूं। अयोध्या के साथ-साथ देश और दुनिया के लिए एक ऐतिहासिक क्षण होगा, जब प्रधानमंत्री मोदी अयोध्या में लगभग 500 वर्षों की इस परीक्षा के परिणाम के साथ भगवान श्री राम के भव्य मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखेंगे।