क्या ब्रिटिश सैनिकों ने अफ़ग़ानिस्तान में निहत्थे लोगों को मारा था….?

BBC.COM

2011 में अफ़ग़ानिस्तान में जब जंग चरम पर थी, उसी दौरान ब्रिटिश सेना की स्पेशल फोर्सेज़ के दो सीनियर अफ़सर ब्रिटेन के डोरसेट में ख़ुफ़िया तौर पर मिले.इन्हें आशंका थी कि यूके के सबसे प्रशिक्षित सैनिकों में से कुछ जानबूझकर निहत्थे लोगों की हत्या कर रहे हैं. अब जो चीज़ें सामने आ रही हैं उनसे ज़ाहिर हो रहा है कि इन अफ़सरों की आशंका गलत नहीं थी.

ये दोनों वरिष्ठ अफ़सर अफ़ग़ानिस्तान के हेलमंद प्रांत के धूल और खतरे के माहौल से हज़ारों मील दूर बैठे थे.इनमें से एक अफ़सर की हाल में ही युद्ध से वापसी हुई थी जहां उनके सैनिकों ने बताया था कि स्पेशल फोर्सेज़ के लोग सज़ा देने के लिए लोगों की हत्या करने की नीति पर चल रहे हैं.

दूसरे अफ़सर हेडक्वार्टर में तैनात थे जहाँ युद्ध के मैदान से जिंताजनक रिपोर्ट आ रही थीं. उन्हें स्पेशल फोर्सेज़ की कार्रवाई में मारे गए दुश्मनों (एनिमी किल्ड इन एक्शन या एकिया) की संख्या में तेज़ बढ़ोतरी दिखाई दी थी.