जयंत चौधरी ने फूंका चुनावी बिगुल

उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव 2022-पूर्व प्रधान मंत्री चौधरी चरण सिंह की जन्मस्थली हापुड़ के नूरपुर में हुई जन आशीर्वाद सभा के दौरान जयंत चौधरी ने कहा कि समाजवादी पार्टी से गठबंधन 2022 की बात है, उसकी बात 2022 में ही करेंगे. अभी फिलहाल राष्ट्रीय लोक दल पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पूरे अक्टूबर सर्व समाज का आशीर्वाद लेने के लिए जन आशीर्वाद सभा करेगा.

जयंत ने लखीमपुर की घटना को लेकर भी सरकार पर वार किया. उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार से मिलने के लिए मुझे काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा, लेकिन मैं मृतक के परिजन से मिलकर ही आया. मैं किसान महापंचायत में पुष्प वर्षा करना चाहता था, लेकिन सरकार डर गई और उसने अनुमति नहीं दी.

जयंत ने कहा कि हमें अपनों को मजबूत करना होंगा और जो भूल पहले हुई उसे भूला दो मैं आपके सामने नसमस्तक हूं. चौधरी साहब के जाने के बाद मेरी जिम्मेदारी बढ़ गई है.जयंत चौधरी ने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों की दमन नीति के तहत कार्य कर रही है और उसका उदाहरण लखीमपुर की घटना है. इशारों इशारों में चौधरी जयंत सिंह ने यह जरूर कह दिया राष्ट्रीय लोकदल अपने पुराने लय में लौट रही है जिसका रिजल्ट 2022 में देखने को मिलेगा. जयंत चौधरी ने कहा कि उनकी ताकत उनका परिवार है और पश्चिमी उत्तर प्रदेश का हर शख्स उनके परिवार का सदस्य है. इस बार देश उनके परिवार की ताकत देखेगा.

जयंत चौधरी ने कहा कि सरदार पटेल की जयंती पर राष्ट्रीय लोकदल अपना घोषणापत्र जारी करेगा जिसमें साफ होगा कि किसानों को ₹6000 नहीं बल्कि ₹12000 दिए जाएंगे. साथ ही असहाय किसानों को ₹15000 की सहयोग राशि देने की घोषणा इस घोषणापत्र में की जाएगी. उन्होंने कहा कि आरएलडी किसानों की पार्टी है और इस पार्टी का हर एक सदस्य कार्यकर्ता एक किसान हैं इसलिए यह पार्टी किसानों का दर्द समझती है. इस बार 2022 में किसानों का मुद्दा पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा हावी होगा.

जयंत चौधरी ने चुनावी बिगुल फूंक दिया है

वहीं एबीपी गंगा ने सभा में आए हुए लोगों से बात कर इस रैली के मकसद के बारे में जानने की कोशिश की तो उन्होंने कहा कि वह जयंत के साथ हैं और इस बार जयंत को बड़ी जीत दिलाने के लिए वह हर संभव प्रयास करेंगे. यह कहना गलत नहीं होगा कि राष्ट्रीय लोक दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी ने अपना यह बयान जारी किया