नानपारा पीस कमेटी की बैठक में सोशल व फिजिकल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां

अखिलेश श्रीवास्तव

लखनऊ, बकरीद के त्यौहार को लेकर नानपारा में शुक्रवार को एसडीएम व पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में हुई पीस कमेटी की बैठक के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाई गयीं।
कस्बे के बीच स्थित राजाबाजार पुलिस चौकी में आयोजित पीस कमेटी की बैठक में उपजिलाधिकारी नानपारा, अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण, सीओ नानपारा व कोतवाली प्रभारी तथा कस्बे के तमाम संभ्रांत लोग शामिल थे।बैठक में इतनी भीड़ थी कि दो गज तो क्या दो फुट की शारीरिक दूरी तक नहीं बनाई जा सकी। तमाम लोग बगैर मास्क के मौजूद थे तो मास्क वाले भी मास्क ठोढ़ी तक उतार कर सभा में निडरता से बैठे दिख रहे थे।
जिन अधिकारियों ने नानपारा में बढ़ते कोरोना केसों के नाम पर देश व प्रदेश के तय मानकों का उल्लंघन करते हुए 250 मीटर की बजाय 500 मीटर के हाॅटस्पाट कंटेनमेंट जोन बना रखे हैं वही अधिकारी शायद बैठक में कोरोना के सामाजिक/ शारीरिक दूरी के मानकों को भूल चुके थे।
बैठक में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने बकरीद के दिन पारंपरिक सार्वजनिक स्थानों पर कुर्बानी की मांग रखी। मुस्लिम उलेमाओं ने परंपरा के तौर पर पारंपरिक सार्वजनिक स्थल पर बकरों व भैंसे की कुर्बानी की मांग रखी जिसे अधिकारियों ने अस्वीकार कर दिया। निर्देश दिए गये कि छोटे पशु बकरों की कुर्बानी सिर्फ घरों में ही दी जा सकती है।
प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि बकरीद पर किसी भी स्थान पर भीड़ नहीं एकत्र होगी। मस्जिदों व ईदगाह में कोविड -19 की लाइन का पालन करते हुए  सिर्फ पांच लोगों के परिसर में मौजूदगी के निर्देश दिए गये।