प्रधानमंत्री के अयोध्या दौरे से हाई अलर्ट पर उत्तर प्रदेश

 अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन से पहले कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। राम जन्मभूमि के पुजारी प्रदीप दास के अलावा 16 पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। पीएम नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या में जब राम मंदिर की नींव रखेंगे तो वह एक ऐतिहासिक लम्हा होगा। पीएम मोदी के आगमन के लिए अयोध्या का सुंदरीकरण किया जा रहा है तो वहीं सुरक्षा व्यवस्था भी चाक-चौबंद है। इसके अलावा आतंकी हमले के मिले इनपुट के मद्देनजर अयोध्या में हाई अलर्ट कर दिया गया है। आइए जानते हैं अयोध्या में क्या तैयारियां चल रही हैं-

लखनऊ, अयोध्या में विराजमान रामलला के मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को भूमि पूजन है, मगर इससे पहले ही यूपी में जारी आतंकी हमले के अलर्ट ने प्रशासन की नींद उड़ा दी है। पांच अगस्त को पाक आतंकवादी हमले को अंजाम देने की फिराक में हैं, ऐसा गृह मंत्रालय से यूपी सरकार के इंटेलिजेंस को इनपुट मिला है। इंटेलिजेंस के अलर्ट में कहा गया है कि अफगानिस्तान में ट्रेन किए गए पाकिस्तान के आतंकी भारत में वीआईपी मूवमेंट को निशाना बना सकते हैं। क्योंकि पांच अगस्त को राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल होने वाले हैं, इसलिए सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। राम मंदिर भूमि पूजन पर मंडरा रहा आतंकी हमले का साया, हाई अलर्ट पर पूरा उत्तर प्रदेश सूत्रों की मानें तो खुफिया एजेंसियों को 5 अगस्त के मौके पर फिदायीन आतंकी हमले के इनपुट मिले हैं, जिसके बाद अयोध्या और आस-पास के क्षेत्रों में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। इतना ही नहीं, यूपी में पांच अगस्त तक सभी पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं।

प्रधानमंत्री मोदी  के दौरे लिए सुरक्षा का प्लान तैयार किया गया है। खास तौर पर उन रास्तों पर जहां से पीएम मोदी राम जन्मभूमि परिसर में जाकर राम मंदिर निर्माण का शुभारंभ करेंगे। सुरक्षा का दायरा बढ़ा कर 7 जोन में कर दिया गया है। वहीं खुफिया एजेंसियों को 5 अगस्त के मौके पर फिदायीन हमले के इनपुट मिले हैं जिसके बाद अयोध्या और आस-पास के क्षेत्रों में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। विशेष निगरानी के लिए स्निफर डॉग भी तैनात किए गए हैं। मोदी के अयोध्या दौरे की तैयारियों को लेकर हर रोज समीक्षा बैठक हो रही है। डीएम और आला अधिकारियों की बैठक में सुरक्षा इंतजाम के साथ-साथ बाकी इंतजामों की चर्चा की गई। प्रशासन भूमि पूजन समारोह के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता है। इसके मद्देनजर रोज बैठकों का दौर जारी है।

फील्ड में सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की जा रही है।जानकारी के अनुसार 5 अगस्त का दिन काफी महत्वपूर्ण दिन है। एक तो इसी दिन कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाया गया था, जिसकी पहली बरसी है और दूसरा कि पांच अगस्त को ही इस साल अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन होना है और इसी दिन पीएम मोदी अयोध्या भी आ रहे हैं। इसलिए ऐसी आशंका जताई जा रही है कि आतंकी हमले की का प्लान कर सकते हैं। आर्टिकल 370 हटाए जाने की पहली बरसी और अयोध्या में भूमि पूजन को देखते हुए पूरे उत्तर प्रदेश को हाईअलर्ट जारी कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी आईएसआई ने लश्कर-ए-तैयब्बा और जैश-ए-मोहम्मद के टॉप आतंकियों को हमले का आदेश दिया है। माना जा रहा है कि इसके लिए घुसपैठ की भी कोशिश होगी। हालांकि, यूपी के आधिकारिक सूत्रों की मानें तो भूमि पूजन के दौरान सुरक्षा व्यवस्था अपने चरम पर होगा और यही व्यवस्था 15 अगस्त तक बनी रहेगी। सूत्रों की मानें तो पिछले साल कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के वक्त और अयोध्या में राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले वाले दिन जिस तरह की सुरक्षा व्यवस्था थी, उसी तरह की सुरक्षा घेराबंदी इस पांच अगस्त को भी देखने को मिलेगी। मेरठ जोन में रक्षा संस्थानों मसलन एयरफोर्स और आर्मी को भी अलर्ट पर रखा गया है। एक अगस्त को बकरीद, तीन अगस्त को रक्षा बंधन और पांच अगस्त को भूमि पूजन और आर्टिकल 370 को हटाए जाने की बरसी है। इसलिए इन सभी बातों को ध्यान में रखकर सरकार सुरक्षा व्यवस्था को लेकर काफी गंभीर है।