बबासीर/ पाइल्स

44

डॉ. रोहित गुप्ता [आयुर्वेदिक]

बवासीर यानी पाइल्स एक गंभीर बीमारी है, जिसमें व्यक्ति को अपने नित्यकर्म में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। किसी पुरानी कब्ज और टाइट दस्त के कारण बवासीर की समस्या हो सकती है। मलाशय और मलमार्ग में फोड़ों को बवासीर के रूप में जाना जाता है।बवासीर (Hemorrhoids) के कई कारण हो सकते हैं ,लेकिन बवासीर में व्यक्ति को मलत्याग में बड़ी समस्या होती है। यह एक आम समस्या है और हर चार में से तीन को कभी न कभी बवासीर की समस्या से गुजरना पड़ता है।

बवासीर या पाइल्स एक ऐसी बीमारी है जिसमें एनस के अंदर और बाहरी हिस्से की शिराओं में सूजन आ जाती है। इसकी वजह से गुदा के अंदरूनी हिस्से में या बाहर के हिस्से में कुछ मस्से जैसे बन जाते हैं, जिनमें से कई बार खून निकलता है और दर्द भी होता है। कभी-कभी जोर लगाने पर ये मस्से बाहर की ओर आ जाते है। अगर परिवार में किसी को ऐसी समस्या रही है तो आगे की जेनरेशन में इसके पाए जाने की आशंका बनी रहती है। 

पाइल्स और फिशर का फर्क जानें कई बार पाइल्स और फिशर में लोग कंफ्यूज हो जाते हैं। फिशर भी गुदा का ही रोग है, लेकिन इसमें गुदा में क्रैक हो जाता है। यह क्रैक छोटा सा भी हो सकता है और इतना बड़ा भी कि इससे खून आने लगता है। 

इस बीमारी मे इंसान का जीना मुश्किल हो जाता है….

निम्न कारणों व लक्षणो के कारण..

लक्षण….

1 गुदा के आस-पास कठोर गांठ जैसी महसूस होती है। …

2 शौच के बाद भी पेट साफ ना हेने का आभास होना।

3 शौच के वक्त जलन के साथ लाल चमकदार खून का आना।

4 शौच के वक्त अत्यधिक पीड़ा होना।
गुदा के आस-पास खुजली, एवं लालीपन, व सूजन रहना।

5 शौच के वक्त म्यूकस का आना।

6 बार-बार मल त्यागने की इच्छा होना, लेकिन त्यागते समय मल न निकलना।

अच्छी बात ये है कि बवासीर का इलाज है और आधुनिक चिकित्सा में इसका ऑपरेशन भी होता है, जबकि आयुर्वेद के जरिए बवासीर की समस्या से निजात मिल सकती है.

आयुर्वेदिक पाइल्स किट….

1 =पाइल्स पाउडर
2 =कब्ज पाउडर
3= मस्सा लेप

सिर्फ इस किट से पाइल्स पेशेंट अपनी प्रॉब्लम को जड़ से ठीक कर पायेगा…

इसी कोर्स से आपकी पाइल्स की प्रॉब्लम पूरी तरह ठीक हो जाती है..

परहेज…..

बादी वाली चीजे और गर्म चीज..

उडद की दाले बंद काली और सफ़ेद उडद वाली दाल..

गर्म मसाले लाल मिर्च कम इस्तेमाल कीजिये..

फ़ास्ट फ़ूड + जंक फ़ूड ना खाये या कम खाये….

अचार + खट्टी चीजे कम खाये…

अगर इन 6 चीजों को रातभर भिगोकर खाएंगे, तो बीमारियों से रहेंगे कोसों दूर….

  1. मुनक्का

इसमें मैग्नीशियम, पोटेशियम और आयरन काफी मात्रा में होते हैं। मुनक्के का नियमित सेवन कैंसर कोशिकाओं में बढ़ोतरी को रोकता है। इससे हमारी स्किन भी हेल्दी और चमकदार रहती है। एनीमिया और किडनी स्टोन के मरीजों के लिए भी मुनक्का फायदेमंद है।

  1. काले चने

इनमें फाइबर्स और प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा होती हैं जो कब्ज दूर करने में सहायक होते है।

  1. बादाम

इसमें मैग्नीशियम होता है जो हाई बीपी के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है। कई अध्ययनों में पाया गया है कि नियमित रूप से भीगी हुई बादाम खाने से खराब कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम हो जाता है।

  1. किशमिश

किशमिश में आयरन और एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं। भीगी हुई किशमिश को नियमित रूप से खाने से स्किन हेल्दी और चमकदार बनती है। साथ ही शरीर में आयरन की कमी भी दूर होती है।

  1. खड़े मूंग

इनमें प्रोटीन, फाइबर और विटामिन बी भरपूर मात्रा में होता है। इनका नियमित सेवन कब्ज दूर करने में बहुत फायदेमंद होता है। इसमें पोटेशियम और मैग्नेशियम भी भरपूर मात्रा में होने की वजह से डॉक्टरस हाई बीपी के मरीजों को इसे रेगुलर खाने की सलाह देते है।

  1. मेथीदाना

इनमें फाइबर्स भरपूर मात्रा में होते हैं जो कब्ज को दूर कर आंतों को साफ रखने में मदद करते हैं। डायबिटीज के रोगियों के लिए भी मेथीदाने फायदेमंद हैं। साथ ही इनका सेवन महिलाओं में पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द को भी कम करता हैं।