लापरवाह इंजीनियरों पर कार्यवाही

192
योगी सरकार में सबको नल से जल
योगी सरकार में सबको नल से जल

लापरवाह इंजीनियरों पर कार्यवाही की मार, पेयजल परियोजनाओं में शिथिलता बरतने वाले अभियंताओं पर जल निगम(ग्रामीण) के एमडी की सख्त कार्रवाई। जल निगम (ग्रामीण) बलिया के अधिशासी अभियंता अजीत कुमार सिंह किये गये निलंबित। अलग-अलग जिलों के 5 अधिशासी अभियंता और 5 सहायक अभियंता हटाए गये। 3 इंजीनियरों को दिया गया अन्य जिलों का अतिरिक्त कार्यभार।एमडी डॉ. बलकार सिंह के सख्त रुख से जल निगम में मचा हड़कम्प,लगभग दर्जन भर से अधिक इंजीनियर इधर से उधर। लापरवाह इंजीनियरों पर कार्यवाही

लखनऊ। जल जीवन मिशन की निर्माणाधीन योजनाओं में देरी करने, ग्रामवासियों को समय से पेयजल उपलब्ध न करा पाने, आम जनता के बीच बेहतर छवि न पेश करने, कार्यदायी संस्थाओं के भुगतान में अनावश्यक लेट लतीफी करने वाले इंजीनियर पर जल निगम (ग्रामीण) प्रबंधन ने कड़ी कार्रवाई की है। जल जीवन मिशन परियोजना को गति देने में नाकाम बलिया के अधिशासी अभियंता अजीत सिंह को निलंबित कर दिया है। जल निगम (ग्रामीण) के एमडी डॉ. बलकार सिंह ने 5 अधिशासी अभियंताओं और 5 सहायक अभियंताओं को भी हटा दिया है। उनकी जिम्मेदारियों में बदलाव किया गया है। 2 अधिशासी अभियंताओं और एक अधीक्षण अभियंता को दूसरे जनपद का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा है।

डॉ. बलकार सिंह ने अभियंताओं से पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ समय पर योजनाओं को पूरा करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर योजनाओं में देरी को वो बर्दाश्त नहीं करेंगे। चेतावनी देते हुए कहा है कि योजना की प्रगति की रफ्तार धीमी पाए जाने पर जिम्मेदार अभियंतओं पर कार्यवाई की जाएगी। बता दें निलंबित किये गये बलिया के अधिशासी अभियंता अजीत सिंह पर अपने पदीय दायित्वों का निर्वहन न करने, निर्माणाधीन पेयजल योजनाओं विशेष रूप से विश्व बैंक सहायतित योजनाओं के कार्य लम्बी अवधि के बाद भी अपूर्ण रखने, नलकूप निर्माण हेतु भूमि उपलब्ध न कराने, नलकूपों के विद्युत संयोजन के लिए बिजली विभाग से समन्वय स्थापित न करने, एफएचटीसी कार्यों में प्रगति न देने, कार्यों के पर्यवेक्षण में शिथिलता बरतने, ग्राम वासियों को समय से पेयजल उपलब्ध न कराने, सरकारी कार्मचारी आचरण नियमावली-1956 के प्रावधानों का उल्लंघन करने जैसे कई आरोप हैं। उनके आरोपों की जांच के लिए जल निगम (ग्रामीण) गोरखपुर के मुख्य अभियंता सौरभ सुमन को नामित किया गया है।


स्थानान्तरित किये गए अभियंता-

जल निगम (ग्रामीण) के एमडी ने प्रदेश की निर्माणाधीन पेयजल योजनाओं को और गति प्रदान करने के लिए अधीक्षण अभियंता ओमवीर सिंह को आगरा से प्रधान कार्यालय जल निगम (ग्रामीण) लखनऊ में स्थानान्तरित किया गया है। अधिशासी अभियंता संजीत कुमार कटियार को खण्ड कार्यालय बलरामपुर से परियोजना प्रबंधक नमामि गंगे इकाई मुजफ्फरनगर, अधिशासी अभियंता संदीप सिंह को जल निगम (ग्रामीण) लखनऊ से खण्ड कार्यालय बलरामपुर और सहायक अभियंता कृष्ण कांत शर्मा को परियोजना प्रबंधक नमामि गंगे इकाई मुजफ्फरनगर से कार्यवाहक व्यवस्था के तहत अधिशासी अभियंता, खण्ड कार्यालय मथुरा स्थानान्तरित किया गया है। अधिशासी अभियंता मुकीम अहमद ग्रामीण अनुभाग प्रधान कार्यालय लखनऊ से खण्ड कार्यालय बलिया स्थानान्तरित किया गया है।

अधिशासी अभियंता अबिचल सिंह को ग्रामीण अनुभाग प्रधान कार्यालय लखनऊ से खण्ड कार्यालय बस्ती और सहायक अभियंता अजय कुमार उपाध्याय को खण्ड कार्यालय बस्ती से ग्रामीण अनुभाग प्रधान कार्यालय लखनऊ स्थानान्तरित किया गया है। सहायक अभियंता अमित कुमार सिंह को खण्ड कार्यालय बस्ती से खण्ड कार्यालय हरदोई स्थानान्तरित किया गया है। सहायक अभियंता (सिविल) दीपक कुमार को खण्ड कार्यालय बदायूं से बागपत, बलजीत सिंह को लखनऊ से खण्ड कार्यालय बदायूं स्थानान्तरित किया गया है।


अभियंताओं को अतिरक्त कार्यभार


अधिशासी अभियंता सै.मो. असजद को खण्ड कार्यालय श्रावस्ती को अधिक्षण अभियंत मण्डल कार्यालय गोण्डा का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया है। इसी प्रकार से आगरा के मण्डल कार्यालय में तैनात अधीक्षण अभियंता प्रदीप कुमार को मुख्य अभियंता आगरा का अतिरिक्त कार्यभार दिया गया है। हाथरस के अधिशासी अभियंता मो. इमरान को कार्यवाहक व्यवस्था के तहत अधीक्षण अभियंता मण्डल कार्यालय अलीगढ़ का अतिरिक्त कार्यभार सौपा है। लापरवाह इंजीनियरों पर कार्रवाई