सबसे बड़ा सवाल

सरकार ने आधार कार्ड को पैन से जोड़ दिया, आधार कार्ड को बैंक खाते से जोड़ दिया, आधार कार्ड को रसोई गैस से जोड़ दिया, आधार कार्ड को सामाजिक फायदे की सभी स्कीम से जोड़ दिया, लेकिन आश्चर्य की बात है कि आधार कार्ड को वोटरआई डी कार्ड (EPIC) से क्यों नहीं जोड़ा? आधार कार्ड को EVM मशीन से क्यों नहीं जोड़ा ? अगर आधार कार्ड को वोटिंग मशीन से जोड़ दिया गया तो सभी सिर्फ FINGER PRINT MATCH होने से ही मतदान कर सकेंगे जिससे नकली मतदान पर अंकुश लगेगा।

इससे कुछ राजनीतिक दलों की पोल भी खुल जाएगी क्योंकि

1. इससे उनके मरे हुए मतदाता मतदान नहीं कर सकते।

2. जाली मतदान नहीं कर सकते।

3. एक नाम के एकाधिक पहचान पत्र काम नहीं आएँगे।

4. गैर कानूनी विदेशी घुसपैठियों द्वारा मतदान नहीं होगा।

5. माओवादी जिनके पास आधार कार्ड नहीं है वो मतदान नहीं कर सकते।

6. काश्मीरी अल्गाववादी जो भारत के नागरिक नहीं बनना चाहते वो मतदान नहीं कर सकते।

इस प्रकार के बहुत सारे फायदे हैं अगर आधार कार्ड को EPIC से जोड़ दिया जाए ।स्वच्छ भारत की सही जरूरत है कि मतदान के तरीके को पहले स्वच्छ किया जाए ।परंतु सबसे बड़ा सवाल, क्या हम ऐसा होता देख पाएँगे ?क्या हमारी सरकार ऐसा करेगी ….?