सिद्दिविनायक मंदिर दर्शन की जानकारी

मुंबई में स्थित सिद्दिविनायक मंदिर भारत में श्री गणेश के सबसे प्रमुख मंदिरों में से एक है। इस मंदिर की दुनिया भर में अपनी एक अलग पहचान है जिसकी वजह से देश-विदेश से लोग श्री गणेश भगवान के दर्शन के लिए आते हैं। इस मंदिर में भगवान गणेश की एक मूर्ति स्थापित है जिसके पीछे एक बहुत खास कहानी है। इस मंदिर का नाम सिद्दिविनायक इसलिए पड़ा क्योंकि इस मंदिर में गणेश जी की मूर्ति की सूड दाई ओर मुड़ी होती हैं और सिद्धि पीठ से जुड़ी है। भगवान के शरीर से ही इस मंदिर का नाम सिद्दिविनायक हुआ है। इस मंदिर में आने वाले भक्तों को गणेश के ऊपर अटूट विश्वास होता है उनका मानना है कि भगवान उनकी मनोकामना पूरी करेंगे। बता दें कि यह मंदिर मुंबई के सबसे धनी मंदिरों में से एक है, जहां पर प्रतिदिन भारी संख्या में लोग आते हैं। माना जाता है कि इस मंदिर में भगवान गणेश की प्रतिमा स्वयंभू है।

सिद्धिविनायक मंदिर में श्री गणेश जी की जो मूर्ति है वो ढाई फीट चौड़ी है और काले रंग के पत्थरों के टुकड़ों से बनी हुई है। बता दें कि मंदिर में श्री गणेश की मूर्ति की सूंड दाईं ओर झुकती है और उनकी चार भुजाएँ हैं और जिसकी वजह से उन्हें ‘चतुर्भुज’ भी कहा जाता है। श्री गणेश जी की मूर्ति के ऊपरी दाहिने हाथ में एक कमल, अपने ऊपरी बाएं हाथ में एक छोटी कुल्हाड़ी और नीचे वाले बाएं हाथ में एक माला और अपने पसंदीदा  ‘मोदक’ से भरा एक कटोरा है। अगर आप भी सिद्दिविनायक मंदिर के दर्शन करने के बारे में विचार बना रहे हैं तो यहां जाने की पूरी जानकारी हमने इस लेख में दी है।

सिद्धिविनायक मंदिर खास क्यों है-

सिद्धिविनायक मंदिर भारत का एक ऐसा प्रसिद्ध मंदिर है जो भगवान गणेश को समर्पित है। महाराष्ट्र राज्य के मुंबई शहर के प्रभादेवी में सबसे महत्वपूर्ण और व्यस्त मंदिर है, जिसका निर्माण वर्ष 1801 में लक्ष्मण विठू और देउबाई पाटिल ने करवाया था। कहा जाता है कि इस दंपत्ति की कोई संतान नहीं थी और उन्होंने फिर द्धिविनायक मंदिर बनाने का फैसला किया ताकि यहां बांझ महिलाओं की इच्छा पूरी हो सके।

सिद्धिविनायक मंदिर का इतिहास-

सिद्धिविनायक मंदिर को बनवाने के पीछे एक कहानी है जिसके बारे में शायद आप नहीं जानते होंगे। बता दें कि लक्ष्मण विठू और देउबाई पाटिल दंपत्ति की कोई संतान नहीं थी तो उन्होंने साल 1801 में भगवान गणेश का एक मंदिर बनाने का फैसला लिया ताकि उस मंदिर में आकर निःसंतान दंपतियों की इच्छायें पूरी हो सके और उन्हें आर्शीर्वाद के रूप में बच्चा प्राप्त हो।

इस मंदिर की मूल संरचना चौकोर नुकीला एक गुंबद के आकार के शिखर से सजी है। बता दें कि एक बार रामकृष्ण जम्भेकर महाराज ने हिंदू संत अक्कलकोट स्वामी समर्थ के एक शिष्य अपने गुरु की आज्ञा का पालन करते हुए पर मंदिर के इष्टदेव के सामने दो दिव्य मूर्तियों को गढ़ा दिया था। स्वामी समर्थ की भविष्यवाणी के अनुसार 21 वर्षों की अवधि के बाद दफन मूर्तियों से एक मंदार का पेड़ उग आया जिसकी इसकी शाखाओं में स्वयंभू गणेश की छवि सामने आई।

सिद्धिविनायक मंदिर वास्तुकला –

सिद्धिविनायक मंदिर की भव्य संरचना में एक प्राथमिक ‘कलश’ शामिल है, जो 12 फीट की ऊँचाई तक, तीन 5 फीट तक और 33 अन्य जो 3.5 फीट की ऊंचाई पर खड़े हैं। इस तरह यह 37 गुंबद मुख्य मंदिर परिसर को आकर्षित करते हैं। सिद्धिविनायक मंदिर के पुराने भाग में एक हॉल, मुख्य गर्भगृह, एक बरामदा और एक पानी की टंकी है। इस मंदिर की भव्यता को बढाने के लिए एक नया मंदिर परिसर बनाया गया है जिससे कि इस मंदिर की भव्यता को बढाया जा सके।

बुधवार से सोमवार आरती का समय

काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:30 बजे से शाम 6 बजे तक
श्री दर्शन – सुबह 6:00 बजे से दोपहर 12:15 बजे तक
नैवेद्य – दोपहर 12:15 बजे से 12:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 12:30 बजे से शाम 7:20 बजे तक
आरती या शाम की प्रार्थना अनुष्ठान – शाम 7:30 बजे से 8:00 बजे तक
श्री दर्शन – रात्रि 8:00 बजे से 9:50 बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले शेज आरती या अंतिम आरती – सुबह 9:50 बजे

मंगलवार को आरती का समय

श्री दर्शन – सुबह 3:15 से  4:45 तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक
श्री दर्शन – प्रातः 5:30 से 12:15 बजे
नैवेद्य – दोपहर 12:15 बजे से 12:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 12:30 बजे से 8:45 बजे तक
आरती या रात की प्रार्थना -9:30 बजे से रात 10:00 बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले शेज आरती या अंतिम आरती – 12:30 पूर्वाह्न

काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:30 बजे से शाम 6:00 बजे तक
श्री दर्शन – सुबह 6:00 बजे से शाम 6:30 बजे तक
अभिषेक, नैवेद्य और पूजा आरती – सुबह 7:30 बजे से दोपहर एक बजे तक (इस दौरान मंदिर में भक्तों को प्रवेश की अनुमति नहीं है)
श्री दर्शन – दोपहर 1:30 से 7:20 तक
आरती या शाम की प्रार्थना – शाम 7:30 बजे से 8:00 बजे तक
श्री दर्शन – रात्रि 8:00 बजे से 9:50 तक
मंदिर बंद होने से पहले शेज आरती या अंतिम आरती – रात 9:50 बजे

4.4 संकष्टी चतुर्थी

श्री दर्शन प्रातःकालीन दर्शन- सुबह 4:00 बजे से 4:45 बजे तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक
श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – सुबह 5:30 बजे से 90 मिनट रात में चन्द्रोदय से पहले
पूजा, अभिषेक, नैवेद्य – चंद्रोदय से 90 मिनट पहले (इस दौरान मंदिर में भक्तों को अनुमति नहीं है)
रात में आरती या प्रार्थना – चंद्रोदय के बाद (अभिषेक के बाद पूजा)
मंदिर के बंद होने से पहले शेज आरती या अंतिम आरती – चंद्रोदय के 90 मिनट बाद शेजार्ट

4.5 माघी श्री गणेश जयंती

श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – सुबह 4:00 बजे से 4:45 बजे तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक
श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – प्रातः 5:30 से प्रातः 10:45 तक
पूजा, अभिषेक, नैवेद्य और आरती – सुबह 10:45 बजे से दोपहर 1:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 1:30 से 7:20 तक
आरती या प्रार्थना – शाम 7:30 बजे से 8:00 बजे तक
श्री दर्शन या रात दर्शन: शाम 8:00 बजे से शेजारती तक
मंदिर बंद होने से पहले दिन की शेज आरती या अंतिम आरती – रथ-शोभा यात्रा के बाद शेज आरती

4.6 भाद्रपद श्री गणेश चतुर्थी

श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – सुबह 4:00 बजे से 4:45 बजे तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक
श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – प्रातः 5:30 से प्रातः 10:45 तक
पूजा, अभिषेक, नैवेद्य और आरती – सुबह 10:45 बजे से दोपहर 1:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 1:30 से 7:20 तक
शाम को आरती या प्रार्थना – शाम 7:30 बजे से 8:00 बजे तक
श्री दर्शन या रात्रि दर्शन – रात्रि 8:00 बजे से 10:00 बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले दिन की शेज आरती या अंतिम आरती – रात 10:00 बजे

कैसे पहुंचे सिद्धिविनायक मंदिर-

अगर आप सिद्धिविनायक मंदिर जाना चाहते हैं तो आपको दादर से प्रभादेवी तक पहुंचने के लिए मुंबई शहर के किसी भी कोने से बीईएसटी द्वारा संचालित बस मिल जायेंगी। दादर पहुंचने के लिए आप लोकल ट्रेन की मदद भी ले सकते हैं, इसके साथ ही दादर से प्रभादेवी तक के लिए कैब सेवाएं भी उपलब्ध हो जाती है। आप कैब की मदद से शहर के किसी भी हिस्से से प्रभादेवी तक पहुंच सकते हैं। अगर आप देश या विदेश से सिद्धिविनायक मंदिर के दर्शन करने के लिए मुंबई आ रहे हैं तो मुंबई कैसी पहुंचे इसकी जानकारी हम आपको देने जा रहे हैं।

हवाई जहाज से सिद्धिविनायक मंदिर कैसे पहुंचे –

अगर आप मुंबई हवाई जहाज से सिद्धिविनायक मंदिर के दर्शन करने आ रहे हैं तो बता दें कि मुंबई देश के साथ-साथ दुनिया से हवाई मार्ग की मदद से अच्छी तरह कनेक्टेड है। छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा शहर से लगभग 30 किलोमीटर उत्तर में स्थित है यहां पहुंचने के बाद आप किसी कैब या बस की मदद से  प्रभादेवी पहुंच सकते हैं।

ट्रेन से सिद्धिविनायक मंदिर कैसे पहुंचे –

मुंबई शहर भारत से रेलगाड़ियों द्वारा बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। मध्य, पूर्व और पश्चिम भारत से आने वाली ट्रेनें छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, या वीटी पर आती है। और उत्तर भारत से ट्रेनें मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर आती हैं।

सड़क मार्ग से सिद्धिविनायक मंदिर कैसे पहुंचे –

भारत के कई राज्यों और शहरों से बसें मुंबई सेंट्रल बस स्टेशन पर आती हैं। ज्यादातर अंतर-महाराष्ट्र बसें इस स्टेशन पर आती हैं। लेकिन पुणे और नासिक से चलने वाले लोग दादर रेलवे स्टेशन के पास एएसआईएडी बस स्टैंड पर पहुंच सकते हैं।