डोलो-650 टैबलेट के लिए 1000 करोड़ के मुफ्त उपहार

116

डोलो- 650 टैबलेट निर्धारित करने के लिए फार्मा कंपनियों ने डॉक्टरों को 1000 करोड़ के मुफ्त उपहार दिए :- एफएमआरएआई ने सुप्रीम कोर्ट को बताया।

⚫ फेडरेशन ऑफ मेडिकल एंड सेल्स रिप्रेजेंटेटिव एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि सेंट्रल बोर्ड फॉर डायरेक्ट टैक्स ने फार्मा कंपनी पर डोलो टैबलेट, जो बुखार कम करने वाली दवा है, उसकी 650mg की खुराक निर्धारित करने के लिए के लिए डॉक्टरों को 1000 करोड़ रुपये के मुफ्त उपहार वितरित किए हैं।

? जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और जस्टिस ए एस बोपन्ना पीठ के समक्ष एसोसिएशन की ओर से पेश सीनियर एडवोकेटसंजय पारिख ने कहा कि 500mg तक डोलो का बाजार मूल्य विनियमित है, हालांकि 500mg से अधिक की खुराक की कीमत निर्माता की इच्छा पर रखी जा सकती है। अधिक लाभ सुनिश्चित करने के लिए 650mg की खुराक निर्धारित करने के लिए डॉक्टरों के बीच मुफ्त उपहार वितरित किए गए, जिसे पारिख ने “तर्कहीन खुराक संयोजन” के रूप में संदर्भित किया।

? जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ नेमामले की गंभीरता से चिंतित टिप्पणी की – “आप जो कह रहे हैं वह मेरे कानों के लिए संगीत नहीं है। जब मुझे कोविड हुआ था तब मुझे भी यही दी गई। यह एक गंभीर मुद्दा है।”

? बेंच केंद्र को फार्मास्युटिकल मार्केटिंग प्रैक्टिस (कोड) के समान कोड को वैधानिक आधार देने और निगरानी तंत्र, पारदर्शिता, जवाबदेही के साथ-साथ उल्लंघन के परिणामों को सुनिश्चित करके इसे प्रभावी बनाने के लिए निर्देश देने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई कर रही थी। गुरुवार को इसने केंद्र सरकार को अपना जवाब दाखिल करने और याचिकाकर्ता को अपना जवाबी हलफनामा दाखिल करने का समय दिया।

पारिख ने पीठ को सूचित किया कि वर्तमान मामले में मुद्दा छोटा है –

“मेरे अनुसार बिंदु बहुत छोटा है, कोड पहले से ही है, इसलिए यह केवल स्वैच्छिक या वैधानिक प्रकृति का होना चाहिए।”

जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा –

“हम यह आदेश नहीं दे सकते कि संसद एक कानून बनाए।”

? याचिका में दलील दी गई थी कि फार्मास्युटिकल कंपनियां कारोबार लाने और अत्यधिक और/या तर्कहीन दवाएं लिखने और उच्च लागत और/या अधिक कीमत वाले ब्रांडों को बढ़ावा देने के लिए डॉक्टरों को रिश्वत दे रही हैं।

? इसने एक निर्देश मांगा है कि जब तक कोड को एक कानून का रंग नहीं दिया जाता है, तब तक न्यायालय दवा कंपनियों द्वारा अनैतिक विपणन प्रथाओं को नियंत्रित और विनियमित करने के लिए दिशानिर्देश निर्धारित कर सकता है।

⏺️ विकल्प में, इसने न्यायालय से मौजूदा कोड को ऐसे संशोधनों/ परिवर्तनों के साथ बाध्यकारी बनाने के लिए भी अनुरोध किया है जो न्यायालय को उचित और सही लगे, जिसका पालन सभी प्राधिकरणों अदालतों द्वारा संविधान के अनुच्छेद 32, 141, 142 और 144 के तहत किया जाना चाहिए।

[मामला : फेडरेशन ऑफ मेडिकल एंड सेल्स रिप्रेजेंटेटिव एसोसिएशन ऑफ इंडिया और अन्य बनाम भारत संघ और अन्य। डब्ल्यूपी (सी) नंबर 323/2021]