2000 के नोट होंगे सर्कुलेशन से बाहर..!

711
दो हजार के नोट इनकम टैक्स और कानून
दो हजार के नोट इनकम टैक्स और कानून

कब तक लाईनों में लगेगा आम आदमी फिर से नोटबंदी। RBI ने बैंकों को 23 मई से 30 सितंबर तक 2000 के नोट लेकर बदलने के निर्देश दिए हैं। एक बार में अधिकतम बीस हजार रुपए कीमत के नोट ही बदले जाएंगे। लेकिन, अकाउंट में इन नोटों को जमा करने पर लिमिट नहीं होगी। 2000 के नोट होंगे सर्कुलेशन से बाहर..!

विनोद यादव
विनोद जनवादी

फिर नोटबंदी मानी जाए या इसे सरकार की सोची समझी साजिश ! 2000 का नोट वापस लेगा RBI, 30 सितंबर तक बैंक में जमा करा सकेंगे लोग अपने नोट। खैर भारतीय रिजर्व बैंक ने सबसे बड़ी करेंसी 2000 रुपये के नोट पर बड़ा फैसला लिया है। भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों को सलाह दी है कि वे तत्काल प्रभाव से 2000 रुपये के नोट जारी करना बंद कर दें।आरबीआई ने कहा कि 30 सितंबर तक ये नोट सर्कुलेशन बने रहेंगे। भारतीय रिजर्व बैंक ने सबसे बड़ी करेंसी 2000 रुपये के नोट पर बड़ा फैसला लिया है। रिजर्व बैंक के अनुसार, 2000 रुपये का नोट लीगल टेंडर तो रहेगा, लेकिन इसे सर्कुलेशन से बाहर कर दिया जाएगा। भारतीय रिजर्व बैंक ने देश के बैंकों को सलाह दी है कि 2000 रुपये के मूल्य के नोट को तत्काल प्रभाव से जारी करना बंद कर दिया जाए।

‘क्लीन नोट पॉलिसी’ के तहत रिजर्व बैंक ने ये फैसला लिया है। 30 सितंबर 2023 तक 2000 रुपये के नोटों को बैंक में जमा कराया जा सकता है।रिजर्व बैंक अनुसार, 23 मई 2023 से किसी भी बैंक में एक समय में 2000 रुपये के नोटों को अन्य मूल्यवर्ग के नोटों से बदले जा सकते हैं। नोट बदलने की सीमा 20,000 रुपये है।रिजर्व बैंक ने साल 2016 में हुई नोटबंदी के बाद रिजर्व बैंक ने 2000 रुपये के नोट को जारी किया था। पिछले कुछ महीने से मार्केट में 2000 रुपये के नोट कम नजर आ रहे थे। लोगों का कहना था कि एटीएम से भी 2000 रुपये नोट नहीं निकल रहे हैं। इस संबंध में सरकार ने संसद में भी जानकारी दी थी। खैर यह भारतीय नोट 2000 रुपये का इसे 8 नवंबर 2016 को ₹ 500 और ₹ 1000 बैंकनोटों की बंदी के बाद भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी किया गया था और 10 नवंबर 2016 से परिसंचरण में रहा है। यह पूरी तरह से नए डिजाइन के साथ बैंकनोट्स की महात्मा गांधी नई श्रृंखला का हिस्सा रहा है। नवंबर 2016 में एक रात अचानक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच सौ और हज़ार रुपए के नोट बंद करने की घोषणा कर दी। फिर सरकार गुलाबी रंग का दो हज़ार रुपए का नया बड़ा नोट लेकर आई।

2000 के नोट होंगे सर्कुलेशन से बाहर..!

23 मई से बदलवा सकेंगे नोट— 2,000 रुपये के नोटों को 23 मई, 2023 से बैंकों में जाकर बदल सकते हैं। हालांकि परिचालन सुविधा सुनिश्चित करने के लिए आरबीआई ने कहा है कि एक बार में 20,000 रुपये ही जमा कराए या बदले जा सकते हैं।

30 सितंबर तक का है टाइम लाइन– आरबीआई ने कहा है कि लोग 2000 रुपये के नोट अपने बैंक अकाउंट में जमा करा सकते हैं। या फिर वे बैंक में जाकर इन नोटों को बदलवा भी सकते हैं। इन्हें बिना किसी प्रतिबंध के सामान्य तरीके से ही बैंकों में जमा कराया जा सकता है। आप एक निश्चित अवधि तक ही इन 2000 रुपये के नोट्स को बदलवा सकते हैं। आरबीआई के अनुसार, सभी बैंक 30 सितंबर, 2023 तक 2000 रुपये के नोट को बदलेंगे। अर्थात आप 30 सितंबर, 2023 तक इन नोटों को बैंक में जमा करा सकते हैं या बदलवा सकते हैं।

भारतीय 2000 रुपये का नोट (₹ 2000) भारतीय रुपये का मूल्य है। इसे 8 नवंबर 2016 को ₹ 500 और ₹ 1000 बैंकनोटों की बंदी के बाद भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी किया गया था और 10 नवंबर 2016 से परिसंचरण में रहा है। यह पूरी तरह से नए डिजाइन के साथ बैंकनोट्स की महात्मा गांधी नई श्रृंखला का हिस्सा है। भारतीय ₹ 2000 रुपये का नोट आरबीआई द्वारा मुद्रित उच्चतम मुद्रा नोट है जो सक्रिय परिसंचरण में है, इस नोट को नवंबर 2016 में 1,000 रुपये के नोट का विमुद्रीकरण के वाद लागू किया गया था। वर्ष 2016 को भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नए 2,000, ₹ 500, ₹ 200, ₹ 50, और ₹ 1 के नोटों की घोषणा की गई थी।

2000 नोट के करीब 3360 करोड़ नोट rbi ने छापे थे। एक नोट छापने में करीब 3.54 rs खर्च होते हैं। यानी कुल 11894 करोड़ रुपए।

रिजर्व बैंक 2000 का नोट सर्कुलेशन से वापस लेगा, लेकिन मौजूदा नोट अमान्य नहीं होंगे। 2 हजार का नोट नवंबर 2016 में मार्केट में आया था। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए थे। इसकी जगह नए पैटर्न में 500 का नया नोट और 2000 का नोट जारी किया गया था। RBI साल 2018-19 से 2000 के नोटों की छपाई बंद कर चुका है।

अब धीरे-धीरे ये नोट भी बाज़ार से ग़ायब हो रहा है। हमने इसकी वजह समझने की कोशिश की।8 नवंबर की उस रात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा करते हुए कहा कि रात 12 बजे के बाद से पांच सौ और हज़ार रुपए के नोट बंद हो जाएंगे और इनकी जगह भारतीय रिज़र्व बैंक दो हज़ार रुपए और पांच सौ रुपए के नए नोट जारी करेगी।तब से नया 500 का नोट तो ख़ूब चल रहा है। हालांकि बीते दो सालों में दो हज़ार के नए नोट पहले एटीएम और फिर बैंकों से ग़ायब हो गए। जिस नोट को लेकर तमाम टीबी चैनलों के बडे़ एंकर रात दिन पानी पी पी कर दो हजार की नोटों में नौनों टिप की कहानियां सुना रहें थें कि कोई इसे जमा नहीं कर सकता न ही कोई इसे दबाकर रख सकता हैं खैर ऐसा नहीं हुआ लगातार सीबीआई और ईडी ने भर्ष्टाचार में संलिप्त लोगों के यहां जब छापेमारी की तो बडी़ मात्रा में दो हजार और पांच सैं के नोट देखने को मिले थें खैर धीरे धीरे यह चलन से बाहर होती चली गयी और चंद पूजीपतियों और उद्योगपतियों के हाथ में ही रह कर सिमट गयीं कहीं न कहीं नेताओं की राजनीति की भेट चढी थी दो हजार की नोटे।

कांग्रेस ने क्या कहा…?– कांग्रेस ने सरकार पर निशाना साधते हुए इसे तुगलकी फरमान बताया है।कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि हमारे स्वयंभू विश्व गुरु की विशेषता है कि पहला करते हैं और फिर दूसरा सोचते हैं। उन्होंने कहा कि 8 नवंबर 2016 को तुगलकी फरमान के बाद इतनी धूमधाम से 2000 रुपये के नोट लाए गए और अब वापस ले रहे हैं।

एक तरफ जहां नोटबंदी कर सरकार आतंकवाद और कालेधन की जमाखोरी करने वालों की कमर तोड़ना चाहती थी वहीं दूसरी तरफ जगह इस नोट का महिमामंडन गोदी मीडिया ने जमकर किया था आरबीआई के पास दो हजार कि कितनी छपी इस बात का प्रयाप्त आंकड़ा शायद स्पष्ट नहीं हो सका था लेकिन इस बात को जरूर माना जा सकता हैं हर बार गरीब और मध्यम वर्गीय व्यापारी और किसानों को ही इस नोटबंदी की लाईन में लगना हैं जांच हुई तो नोटबंदी सदी का सबसे बड़ा घोटाला साबित होगा,कालेधन पर हमले के नाम पर 1000 रुपये का नोट बंद कर 2000 रुपया का नोट जारी कर मात्र अपने भगोड़े पूंजीपति मित्रों का ही काम आसान किया । नोट बंदी से पहले देश का पैसा लेकर भागते तो मित्रों (भाइयों) को दुगने बोरों में पैसा भर भागना पड़ता, परेशानी होती, नोट बंदी के बाद और 2000 रुपये का नोट जारी करने से मित्रों का काम हुआ आसान, उससे आधे में ही काम हो गया।अब ना भगोड़े मित्र आए आयेंगे, ना ही कालाधन वापस आयेगा और अब तो 2000 रुपया का नोट भी बाजार से गायब होने जा रहा है। 2000 के नोट होंगे सर्कुलेशन से बाहर..!