पूरा देश आजादी के अमृत महोत्सव का साक्षी बना-मुख्यमंत्री

128

प्रधानमंत्री ने आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम से आमजन को जोड़कर इसे एक राष्ट्रीय उत्सव बनाया। मुख्यमंत्री ने 76वें स्वतंत्रता दिवस पर विधान भवन के समक्ष ध्वजारोहण किया। पूरा देश आजादी के 75 वर्षों की यात्रा का साक्षी बन रहा है। विगत ढाई वर्षाें से प्रधानमंत्री के नेतृत्व में सदी की सबसे बड़ी महामारी का देश ने जिस जज्बे के साथ सामना किया, उसे दुनिया ने सराहा। ‘ईज़ ऑफ लिविंग’ डबल इंजन की सरकार की विभिन्न योजनाओं का केन्द्र बिन्दु,सुदृढ़ कानून-व्यवस्था, सेक्टरवार आकर्षक नीतियों तथा भरोसेमन्द अवस्थापना सुविधाओं की उपलब्धता से प्रदेश, देश व दुनिया में निवेश के ‘ड्रीम डेस्टिनेशन’ के रूप में उभरा।

लखनऊ। पूरा देश आजादी के 75 वर्षों की यात्रा का साक्षी बन रहा है। इन 75 वर्षों के आत्मावलोकन का सौभाग्य सभी को प्राप्त हो रहा है। देश ने इन वर्षों में एक लम्बी यात्रा तय की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज का अवसर हमारे लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है।यह अवसर हमें नए संकल्पों के साथ अमृतकाल की नई कार्ययोजना के साथ आगे बढ़ने की प्रेरणा प्रदान कर रहा है। उन्होंने देश की आजादी को अक्षुण्ण रखने के लिए आजादी की लड़ाई को एक नई ऊंचाई तक पहुंचाने के लिए अपना मार्गदर्शन प्रदान करने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी तथा उन सभी ज्ञात-अज्ञात अमर सेनानियों तथा वीर सपूतों, जिन्होंने देश की आजादी की लड़ाई में सर्वस्व न्योछावर करते हुए अपना बलिदान दिया, को स्मरण करते हुए उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।


मुख्यमंत्री ने 76वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आज यहां विधान भवन के समक्ष ध्वजारोहण करने के बाद अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। प्रदेशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम से आमजन को जोड़कर इसे एक राष्ट्रीय उत्सव बनाया है। इसके अन्तर्गत विगत 05 दिनों से विभिन्न कार्यक्रमों से जुड़ने का हम सबको अवसर प्राप्त हुआ है। 11 से 17 अगस्त, 2022 तक स्वतंत्रता सप्ताह, हर घर तिरंगा कार्यक्रम तथा कल विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के अवसर पर देश में मौन पैदल यात्रा के माध्यम से उस त्रासदी को स्मरण करने के कार्यक्रमों से सभी जुड़े हैं। हर घर तिरंगा कार्यक्रम के माध्यम से 135 करोड़ भारतवासी ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की परिकल्पना को साकार करते हुए आन-बान और शान के प्रति तिरंगे को हर घर, सरकारी, गैर सरकारी कार्यालयों तथा व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर फहराते दिखाई दे रहें है। प्रत्येक भारतवासी को इस पर गर्व की अनुभूति करनी चाहिए। उन्हें आज स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों, वीरता पुरस्कार से अलंकृत भारत के वीर सैनिकों व उनके परिजनों तथा पद्म पुरस्कारों से अलंकृत प्रदेश की विभूतियों को सम्मानित करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि आज का सुहावना मौसम इस बात की गवाही दे रहा है कि प्रकृति परमात्मा के साथ मिलकर हमें आशीर्वाद प्रदान कर रही है।

राज्य की अर्थव्यवस्था को 01 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी बनाने के वृहद लक्ष्य को लेकर कार्य प्रारम्भ। प्रदेश को 01 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने के लिए सभी विभागों को 10 सेक्टर में समायोजित करते हुए कार्य किया जा रहा। किसानों के उत्पादन में चार गुना वृद्धि की कार्ययोजना को आगे बढ़ाया जा रहा। विगत 05 वर्षों में राज्य को निवेश के बेहतरीन गंतव्य स्थल के रूप में स्थापित करते हुए लगभग 04 लाख करोड़ रु0 के निवेश को प्राप्त करने में सफलता प्राप्त हुई। ‘एक जनपद, एक उत्पाद’ तथा ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान’ योजनाओं द्वारा प्रदेश से निर्यात को 88 हजार करोड़ रु0 से बढ़ाकर 1.56 लाख करोड़ रु0 तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन।जनवरी-फरवरी, 2023 में ‘यू0पी0 ग्लोबल इन्वेस्टर समिट’ का आयोजन किया जाएगा, इसके माध्यम से 10 लाख करोड़ रु0 के नये निवेश का लक्ष्य। विद्युत से वंचित 01 लाख 21 हजार गांवों में बिजली पहुंचाई गई।


प्रदेश की अनन्त सम्भावनाओं को आगे बढ़ाने के लिए विगत 05 वर्षों में राज्य को निवेश के बेहतरीन गंतव्य स्थल के रूप में स्थापित करते हुए लगभग 04 लाख करोड़ रुपये के निवेश को प्राप्त करने में सफलता प्राप्त हुई है। प्रदेश के परम्परागत उद्यमों के उन्नयन के लिए ‘एक जनपद, एक उत्पाद योजना’ तथा ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के माध्यम से कारीगरों, हस्तशिल्पियों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। इन योजनाओं ने प्रदेश से निर्यात को 88 हजार करोड़ रुपये से बढ़ाकर 1.56 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया है।


प्रदेश में रोजगार तथा नौकरियों की सम्भावनाओं को आगे बढ़ाते हुए विगत 05 वर्षों में पांच लाख नौजवानों को सरकारी नौकरियां प्रदान की गई है। 01 करोड़ 61 लाख नौजवानों को विभिन्न प्रकार के रोजगारों से जोड़ा गया है। 60 लाख से अधिक परम्परागत उद्यमियों, हस्तशिल्पियों तथा कारीगरों को स्वरोजगार से भी जोड़ा गया है। प्रदेश डेटा सेन्टर के हब के रूप में स्थापित हो रहा है। डिफेंस इण्डस्ट्रियल कॉरिडोर के माध्यम से प्रदेश, देश की सुरक्षा व्यवस्था और रक्षा उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लक्ष्य को प्राप्त करने में योगदान दे रहा है। उभरते उद्यमियों को ‘प्लग एण्ड प्ले’ की सुविधा देने के लिए आगरा, कानपुर नगर व गोरखपुर में फ्लैटेड फैक्ट्री कॉम्पलेक्स की परियोजना को भी आगे बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है। जनवरी-फरवरी, 2023 में ‘यू0पी0 ग्लोबल इन्वेस्टर समिट’ का आयोजन किया जाएगा। इसके माध्यम से 10 लाख करोड़ रुपये के नये निवेश का लक्ष्य है। इसके माध्यम से रोजगार, स्किल डेवलपमेन्ट के साथ ही, प्रदेश के प्रत्येक परिवार के एक व्यक्ति को रोजगार के साथ जोड़ने के वृहद कार्यक्रम को भी आगे बढ़ाया जाएगा।


प्रदेश के सभी तबकों के हितों के लिए कार्य किया जा रहा है। बेटियों को उज्ज्वल भविष्य की ओर अग्रसर करने के उद्देश्य से संचालित मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में 13 लाख बेटियों को वर्तमान में लाभान्वित किया गया है। दहेज रहित विवाह के लिए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के माध्यम से 02 लाख बेटियों का विवाह सम्पन्न हुआ है। प्रदेश में छात्र-छात्राओं को प्राप्त होने वाली स्कॉलरशिप को कई गुना बढ़ाया गया है, जिससे अधिक से अधिक छात्र-छात्राएं इसका लाभ ले सकें। श्रमिकों के बच्चों तथा निराश्रित बच्चों की निःशुल्क शिक्षा के लिए 18 मण्डलों में अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त अटल आवासीय विद्यालयों की स्थापना की जा रही है। सरकार का प्रयास है कि वर्ष 2023 में इन विद्यालयों का सत्र प्रारम्भ हो जाए। प्रदेश में स्वामित्व योजना के अन्तर्गत 34 लाख से अधिक परिवारों को घरौनी उपलब्ध कराई गई है। इससे गृह स्वामी को भूमि का मालिकाना हक प्राप्त हुआ है। महिलाओं के आर्थिक स्वावलम्बन के लिए 10 लाख स्वयं सहायता समूह गठित किये गये हैं। इनके माध्यम से 01 करोड़ से अधिक महिलाएं स्वरोजगार से जुड़कर आर्थिक स्वावलम्बन के मार्ग पर आगे बढ़ी हैं।


प्रदेश में राजस्व संग्रह के बड़े लक्ष्य को प्राप्त किया गया है। राज्य की जी0डी0पी0 को दोगुना करने में सफलता प्राप्त हुई है। वर्तमान सरकार ने प्रत्येक क्षेत्र में प्रदेशवासियों को पारदर्शी व जवाबदेह शासन तथा ईमानदार व संवेदनशील प्रशासन प्रदान किया है। ई-गवर्नेन्स के क्षेत्र में ई-पेंशन पोर्टल की शुरुआत की गयी है। पेंशनधारकों को यह सुविधा उपलब्ध कराने वाला प्रदेश देश का प्रथम राज्य है। विगत 05 वर्षाें में विकास और सुशासन की नींव तैयार की गयी है। आगामी 05 वर्षाें में प्रदेश की प्रगति व समृद्धि की भव्य इमारत आकार लेगी। उन्होंने आह्वान किया कि भारत की आजादी को अक्षुण्ण बनाये रखने के पवित्र संकल्प के साथ सभी जुड़ें। अपने-अपने क्षेत्र में कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए हम ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ के प्रधानमंत्री जी के सपने को साकार करें।