डाकघरों में होगा स्कूली बच्चों का आधार पंजीकरण


पहल :-स्कूली बच्चों का डाकघरों में आसानी से होगा आधार पंजीकरण, डीबीटी हेतु भी तुरंत खुलेंगे खाते।स्कूली बच्चों का डाकघरों में आसानी से हो सकेगा आधार पंजीकरण, पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने दिए निर्देश।

            परिषदीय स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के आधार पंजीकरण को लेकर डाक विभाग ने पहल की है और अब इन बच्चों का डाकघरों में आसानी से आधार पंजीकरण हो सकेगा। वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव से मुलाकात कर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, वाराणसी डॉ. राकेश सिंह ने इस संबंध में अनुरोध किया, जिसे स्वीकारते हुए उन्होंने इस पर त्वरित कार्यवाही के आदेश दिए हैं। इसके अलावा इन बच्चों और उनके अभिभावकों के डाक विभाग द्वारा इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में खाते भी खोले जायेंगे ताकि डीबीटी के तहत मिलने वाली शासकीय योजनाओं का लाभ भी इन्हें तुरंत प्राप्त हो सके। पोस्टमास्टर जनरल ने परिषदीय स्कूलों में पढ़ने वाली बच्चियों के सुकन्या समृद्धि खाता खोलने की पहल पर भी जोर दिया, ताकि इन बच्चियों का भविष्य अभी से सुरक्षित किया जा सके। प्रधानमंत्री द्वारा ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान के तहत आरम्भ इस योजना में मात्र 250 रूपये से 10 साल तक की बच्चियों का सुकन्या खाता खुलवाया जा सकता है। इसी क्रम में बच्चों के उज्ज्वल भविष्य हेतु   डाकघरों में न्यूनतम 500 रुपये से पीपीएफ खाते भी खुलवाए जा सकेंगे।

            वाराणसी पश्चिमी मंडल के अधीक्षक डाकघर पीसी तिवारी ने बताया कि वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल महोदय के निर्देशानुसार समय-समय पर डाक विभाग द्वारा आधार नामांकन और अपडेशन के लिए विशेष कैम्पों का आयोजन किया जा रहा है। इसी क्रम में अब परिषदीय स्कूलों के बच्चों के लिए भी चिन्हित डाकघरों में शीघ्र विशेष व्यवस्था की जाएगी, ताकि उन्हें इसके लिए परेशान न होना पड़े। डाकघरों में आधार नामांकन पूर्णतया निःशुल्क है। इसके अलावा ऑनस्पॉट बच्चों और उनके अभिभावकों के आईपीपीबी खाते और सुकन्या समृद्धि योजना खाते भी खोले जायेंगे। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, वाराणसी डॉ. राकेश सिंह ने बताया कि उत्तर प्रदेश शासन के निर्देश के क्रम में स्कूल चलो अभियान के अंतर्गत वाराणसी जनपद के परिषदीय विद्यालयों में 78,000 बच्चों का नामांकन किया गया है, जिनमें से एक बड़ी संख्या में बच्चों का आधार पंजीकरण नहीं हुआ है। डाकघरों में इन बच्चों के आधार पंजीकरण और बच्चों/अभिभावकों के खाते खोलने हेतु विशेष व्यवस्था करने से काफी सहूलियत होगी।