दशकों बाद उ0प्र0 में औद्योगिक वातावरण बना-मुख्यमंत्री

राजू यादव

राज्य सरकार ने 05 वर्ष के सफलतम कार्यकाल के उपरान्त दूसरी पारी के 100 दिन पूरे किये, 100 दिन की कार्य योजना को प्रभावी ढंग से लागू किया गया है।सभी के सहयोग से राज्य सरकार 06 माह, 01 वर्ष, 02 वर्ष तथा 05 वर्ष की कार्य योजना को भी लागू करने में सफल होगी।प्रदेश मंत्रिमण्डल ने विभिन्न विभागों को 10 सेक्टर में विभाजित कर राज्य की अर्थव्यवस्था को 01 ट्रिलियन डॉलर बनाने की कार्य योजना बनायी है।हमने अभी प्रदेश का परसेप्शन बदला है, अब पहचान बदलेंगे। दशकों बाद उ0प्र0 में औद्योगिक वातावरण बना, वर्ष 2017 से पहले यह सपना था, जो वर्तमान में हकीकत बन गया।प्रधानमंत्री का मानना है कि उ0प्र0 में अपार सम्भावना, यह भारत की अर्थव्यवस्था का ग्रोथ इंजन बनने की सामर्थ्य रखता है।

लखनऊ। प्रदेश में बेहतर कानून व्यवस्था, 21 सेक्टरवार नीतियां लागू करने, निवेश एवं उद्यमिता को प्रोत्साहित करने, एक जनपद एक उत्पाद योजना, विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना आदि के क्रियान्वयन का परिणाम यह रहा कि सी0एम0आई0ई0 के आकड़ों के अनुसार प्रदेश में वर्ष 2016-17 में बेरोजगारी दर जो 18 प्रतिशत थी, वह अब घटकर 2.9 प्रतिशत रह गयी। प्रधानमंत्री जी देश की अर्थव्यवस्था को 05 ट्रिलियन डॉलर बनाने के लिए प्रयासरत हैं। इसमें उत्तर प्रदेश की महत्वपूर्ण भूमिका है। प्रदेश मंत्रिमण्डल ने इसके लिए विभिन्न विभागों को 10 सेक्टर में विभाजित कर राज्य की अर्थव्यवस्था को 01 ट्रिलियन डॉलर बनाने की कार्य योजना बनायी है। इसके लिए हर सेक्टर के लिए एक वरिष्ठ अधिकारी को जिम्मेदारी दी गयी है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में हाल ही में प्रदेश में सम्पन्न हुए विधान सभा आम चुनाव में जनता ने हमारी पार्टी के गठबंधन को प्रचण्ड बहुमत दिया। जनविश्वास का यह सिलसिला निरन्तर नये प्रतिमान स्थापित कर रहा है। विधान सभा चुनाव के बाद प्रदेश विधान परिषद के स्थानीय प्राधिकारी की 36 सीटों पर हुए चुनाव में हमारी पार्टी को 33 सीटों पर विजय प्राप्त हुई। अभी हाल में रामपुर और आजमगढ़ के महत्वपूर्ण लोकसभा उपचुनाव में स्थानीय जनता ने प्रधानमंत्री जी की नीतियों में अभूतपूर्व विश्वास व्यक्त किया है।मुख्यमंत्री ने कहा कि 25 मार्च, 2022 को राज्य सरकार ने शपथ ली। 37 साल बाद पहली बार प्रदेश के इतिहास में ऐसा हुआ, जब कोई सरकार लगातार दूसरी बार निर्वाचित होकर आयी। प्रदेश के इतिहास में यह भी पहली बार है जब राज्य के मुख्यमंत्री ने 05 वर्ष का कार्यकाल सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद पुनः निर्वाचित होकर प्रदेश की बागडोर संभाली। उन्होंने कहा कि आज पुनः हम ‘जो कहा सो किया’ के अपने परम्परागत अभियान के तहत आप सभी के बीच में उपस्थित हैं।

37 साल बाद पहली बार प्रदेश के इतिहास में ऐसा हुआ, जब कोई सरकार लगातार दूसरी बार निर्वाचित होकर आयी है।प्रदेश के इतिहास में यह भी पहली बार है जब राज्य के मुख्यमंत्री ने 05 वर्ष का कार्यकाल सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद पुनः निर्वाचित होकर प्रदेश की बागडोर संभाली है।वर्तमान राज्य सरकार ने विगत 05 वर्ष में प्रदेश में कानून का राज स्थापित किया है।वर्तमान राज्य सरकार द्वारा अपराध और अपराधियों के विरुद्ध जीरो टॉलरेन्स की नीति क्रियान्वित की गयी, वर्ष 2017 से अब तक माफिया और पेशेवर अपराधियों से कुल 2,925 करोड़ रु0 की अवैध सम्पत्ति जब्त की गयी है।राज्य का बजट वर्ष 2016-17 के 03 लाख करोड़ रु0 से दोगुना बढ़कर अब 06 लाख 15 हजार करोड़ रु0 से अधिक का हो गया है।लोक कल्याण संकल्प पत्र-2022 के 130 संकल्पों में से 97 संकल्पों को वित्तीय वर्ष 2022-23 के बजट में सम्मिलित किया गया, शेष 33 संकल्पों को आगामी 02 वर्ष में पूरा किया जाएगा‘एक जनपद एक उत्पाद’ की अभिनव योजना प्रदेश को एक्सपोर्ट का हब बना रही है।वर्ष 2017 में हमारी सरकार ने पहली कैबिनेट बैठक में ही 86 लाख लघु और सीमान्त किसानों का 36 हजार करोड़ रु0 का फसली ऋण माफ करने का निर्णय लिया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आज सेवा, सुरक्षा और सुशासन के 100 दिन पूर्ण होने पर कहा कि आबादी की दृष्टि से उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का मानना है कि उत्तर प्रदेश में अपार सम्भावना है। यह भारत की अर्थव्यवस्था का ग्रोथ इंजन बनने की सामर्थ्य रखता है। वर्ष 2017 से 2022 के बीच हमारी सरकार ने इसकी आधारशिला तैयार की। अब एक बार पुनः प्रदेश की जनता-जनार्दन का आशीर्वाद हमें प्राप्त हुआ है और हम इस दिशा में अपनी यात्रा आगे बढ़ा रहे है। दशकों बाद उत्तर प्रदेश में औद्योगिक वातावरण बना है। वर्ष 2017 से पहले यह सपना था, जो वर्तमान में हकीकत बन गया है। हमने अभी प्रदेश का परसेप्शन बदला है, अब पहचान बदलेंगे।


उत्तर प्रदेश ‘सरकार जनता के द्वार’ अभियान के लिए राज्य मंत्रिमण्डल के 18 मंत्री समूहों ने हर मण्डल में 72-72 घण्टे प्रवास किया। मंत्री समूह जनपदों और गांवों में भी गया, संस्थाओं से मिला, विभिन्न परियोजनाओं का भौतिक निरीक्षण किया। अब तक मंत्री समूहों द्वारा 02-02 मण्डलों का प्रवास किया जा चुका है। यह व्यवस्था जमीनी स्तर पर योजनाओं को लागू करने में प्रभावी है। इस कार्यक्रम के माध्यम से प्रदेश की अर्थव्यवस्था को गति देने में टीमवर्क देखने को मिल रहा है। विभिन्न सेक्टर्स के लिए 100 दिन, 06 माह, 01 वर्ष, 02 वर्ष तथा 05 वर्ष की कार्य योजना तैयार की गयी है। वर्ष 2017 से पहले प्रदेश को परिवारवाद, जातिवाद, भ्रष्टाचार, दंगों, अराजकता के लिए जाना जाता था। प्रदेश के युवाओं के समक्ष पहचान का संकट था। वर्ष 2014 के बाद प्रधानमंत्री जी द्वारा अनेक गरीब कल्याण एवं लोक कल्याण की योजनाएं लागू की गयीं। वर्तमान राज्य सरकार ने विगत 05 वर्ष में प्रदेश में कानून का राज स्थापित किया है। इससे प्रदेश के सम्बन्ध में आम जनमानस में विश्वास पैदा हुआ है। इसके परिणामस्वरूप प्रदेश में निवेश की सम्भावनाएं बढ़ी हैं। रोजगार के अवसर बढ़े हैं। वर्तमान राज्य सरकार द्वारा अपराध और अपराधियों के विरुद्ध जीरो टॉलरेन्स की नीति क्रियान्वित की गयी। वर्ष 2017 से अब तक माफिया और पेशेवर अपराधियों से कुल 2,925 करोड़ रुपये की अवैध सम्पत्ति जब्त की गयी है।

प्रदेश सरकार के 100 दिन की उपलब्धियों पर केन्द्रित सूचना विभाग की पुस्तिका का विमोचन।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रभावी पैरवी करके पॉक्सो एक्ट तथा महिलाओं एवं बालिकाओं के प्रति हुए अपराधों में दोषियों को सजा दिलायी गयी। प्रदेश सरकार अगले 02 वर्ष में प्रत्येक तहसील में अग्निशमन केन्द्र की स्थापना के लक्ष्य के साथ कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि विगत 05 वर्ष में राज्य की जी0डी0पी0 में दोगुनी वृद्धि हुई है। प्रति व्यक्ति आय में भी लगभग दोगुने की वृद्धि दर्ज की गयी है। राज्य का बजट वर्ष 2016-17 के 03 लाख करोड़ रुपये से दोगुना बढ़कर अब 06 लाख 15 हजार करोड़ रुपये से अधिक का हो गया है। लोक कल्याण संकल्प पत्र-2022 के 130 संकल्पों में से 97 संकल्पों को वित्तीय वर्ष 2022-23 के बजट में सम्मिलित किया गया है। शेष 33 संकल्पों को आगामी 02 वर्ष में पूरा किया जाएगा। यह जनता के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है।वर्ष 2018 में यू0पी0 दिवस पर ‘एक जनपद एक उत्पाद’ की अभिनव योजना लागू की गयी थी। यह योजना प्रदेश को एक्सपोर्ट का हब बना रही है। राज्य से इस वर्ष 1.56 लाख करोड़ रुपये का निर्यात हुआ है। वर्ष 2016-17 में यह 80,000 करोड़ रुपये था। एक जनपद एक उत्पाद योजना के माध्यम से परम्परागत उद्यम में नई सम्भावना के साथ ही रोजगार के अवसर बढ़े हैं।


वर्ष 2017 में पहली बार सत्ता में आने के बाद हमारी सरकार ने पहली कैबिनेट बैठक में ही 86 लाख लघु और सीमान्त किसानों का 36 हजार करोड़ रुपये का फसली ऋण माफ करने का निर्णय लिया था। मार्च, 2022 में दोबारा सरकार गठन के बाद राज्य मंत्रिमण्डल ने पहला फैसला लेते हुए प्रदेश की 15 करोड़ जनता के व्यापक हित में निःशुल्क खाद्यान्न वितरण कार्यक्रम को 03 माह के लिए आगे बढ़ाने का निर्णय लिया। वृद्धावस्था एवं निराश्रित महिला पेंशन के पात्र लाभार्थियों को इन पेंशन योजनाओं से जोड़ने के लिए विशेष अभियान चलाकर लाभान्वित किया गया।राज्य सरकार अन्नदाता किसानों के हित और कल्याण के लिए समर्पित है। विगत 05 वर्षों में दशकों से लम्बित बाणसागर, अर्जुन सहायक, मध्य सरयू नहर परियोजनाओं सहित एक दर्जन सिंचाई परियोजनाओं को पूर्ण कर प्रदेश में 21 लाख हेक्टेयर अतिरिक्त सिंचन क्षमता सृजित की गयी है। शेष सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करने के लिए प्रदेश सरकार पूरी प्रतिबद्धता से कार्य कर रही है। वर्ष 2017 में सत्ता में आने के बाद हमारी सरकार किसानों के लिए प्रोक्योरमेन्ट पॉलिसी लेकर आयी। इसके अन्तर्गत किसानों से सीधी खरीद एवं लागत का डेढ़ गुना मूल्य प्रदान करने का कार्य किया गया। वर्तमान राज्य सरकार के कुल कार्यकाल में अब तक गन्ना किसानों को 01 लाख 76 हजार 638 करोड़ रुपये के गन्ना मूल्य का भुगतान किया जा चुका है। पी0एम0 किसान सम्मान निधि में प्रदेश के 2.55 करोड़ किसानों को 47,265 करोड़ रुपये हस्तान्तरित किये गये हैं।

मार्च 2022 में दोबारा सरकार गठन के बाद राज्य मंत्रिमण्डल ने पहला फैसला लेते हुए प्रदेश की 15 करोड़ जनता के व्यापक हित में निःशुल्क खाद्यान्न वितरण कार्यक्रम को 03 माह के लिए आगे बढ़ाने का निर्णय लिया है।राज्य सरकार अन्नदाता किसानों के हित और कल्याण के लिए समर्पित है।पी0एम0 किसान सम्मान निधि में प्रदेश के 2.55 करोड़ किसानों को 47,265 करोड़ रु0 हस्तान्तरित किये गये है।मार्च, 2020 से अब तक प्रदेश के 34 लाख परिवारों को घरौनी वितरित है।बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का कार्य पूर्ण, प्रधानमंत्री जी द्वारा अगले सप्ताह इसका लोकार्पण किया जाएगावर्ष 2017 में प्रदेश में मात्र 02 एयरपोर्ट क्रियाशील तथा 02 एयरपोर्ट आंशिक रूप से क्रियाशील थे, वर्तमान में 09 एयरपोर्ट क्रियाशील, 10 पर कार्य चल रहा है।वैश्विक महामारी कोरोना प्रदेश में पूरी तरह नियंत्रण में, प्रदेश ने विगत 05 वर्षाें में दिमागी बुखार पर नियंत्रण करने में सफलता प्राप्त की, प्रदेश को कालाजार नियंत्रण के लिए भारत सरकार का प्रतिष्ठित सम्मान प्राप्त हुआ है।‘108’ एम्बुलेन्स सर्विस के रिस्पॉन्स टाइम को कम करने के साथ ही इसके बेड़े में नई एम्बुलेन्सेज जोड़ी गयीं।


उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री के ग्रामीणों को ग्रामीण आवासीय अभिलेख प्रदान करने का विज़न, ग्रामोदय से राष्ट्रोदय की परिकल्पना साकार कर सकता है। मार्च, 2020 से अब तक प्रदेश के 34 लाख परिवारों को घरौनी वितरित की जा चुकी है। प्रदेश में ग्राम सचिवालय की परिकल्पना साकार हो रही है। ग्राम सचिवालय को बेहतरीन इण्टरनेट कनेक्टिविटी से जोड़ा जा रहा है। बैंकिंग कॉरेस्पॉण्डेण्ट (बी0सी0 सखी) गांव में बैंकिंग सुविधाएं उपलब्ध करा रही हैं। विगत 100 दिनों में प्रदेश में इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेन्ट के भी बेहतरीन कार्य हुए हैं।बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का कार्य पूर्ण हो चुका है। प्रधानमंत्री जी द्वारा अगले सप्ताह इसका लोकार्पण किया जाएगा। उन्होंने कहा प्रदेश में एयर कनेक्टिविटी को बढ़ाया गया है। वर्ष 2017 में प्रदेश में मात्र 02 एयरपोर्ट क्रियाशील तथा 02 एयरपोर्ट आंशिक रूप से क्रियाशील थे। वर्तमान में 09 एयरपोर्ट क्रियाशील हैं। 10 पर कार्य चल रहा है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना प्रदेश में पूरी तरह नियंत्रण में है। प्रदेश ने विगत 05 वर्षाें में दिमागी बुखार पर नियंत्रण करने में सफलता प्राप्त की है। प्रदेश को कालाजार नियंत्रण के लिए भारत सरकार का प्रतिष्ठित सम्मान प्राप्त हुआ है। मलेरिया, डेंगू, दिमागी बुखार पर नियंत्रण करने की दिशा में प्रदेश तेजी से आगे बढ़ा है। दिमागी बुखार से पूर्वी उत्तर प्रदेश सहित राज्य के 38 जनपद प्रभावित थे। भारत सरकार के सहयोग से प्रदेश में इस पर प्रभावी नियंत्रण किया जा चुका है। इंसेफेलाइटिस से होने वाली 95 प्रतिशत मौतों पर नियंत्रण करने में भी प्रदेश सरकार को सफलता मिली है। ‘108’ एम्बुलेन्स सर्विस के रिस्पॉन्स टाइम को कम करने के साथ ही इसके बेड़े में नई एम्बुलेन्सेज जोड़ी गयी हैं।राज्य सरकार ने 05 वर्ष के सफलतम कार्यकाल के उपरान्त दूसरी पारी के 100 दिन पूरे किये हैं। 10 सेक्टर के प्रस्तुतीकरण के बाद 100 दिन, 06 माह, 01 वर्ष, 02 वर्ष तथा 05 वर्ष की जो कार्य योजना तैयार हुई थी। उसमें से विगत 100 दिनों में, 100 दिन की कार्य योजना को प्रभावी ढंग से लागू किया गया है। उन्होंने भरोसा जताया कि सभी के सहयोग से राज्य सरकार 06 माह, 01 वर्ष, 02 वर्ष तथा 05 वर्ष की कार्य योजना को भी लागू करने में सफल होगी।मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने सम्बोधित किया। प्रदेश सरकार के 100 दिन की उपलब्धियों पर केन्द्रित सूचना विभाग की पुस्तिका का विमोचन भी किया गया। इस दौरान सूचना विभाग द्वारा तैयार की गयी लघु फिल्म भी प्रदर्शित की गयी।इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, ब्रजेश पाठक, वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना, जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह, प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशीष पटेल सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा शासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

[/Responsivevoice]