अखिलेश का बड़ा दावा

विधान सभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक बड़ा दावा किया है. पहले चरण के चुनाव में समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल का गठबंधन 50 से ज्यादा सीटें जीतेगा, पहले चरण में 10 फरवरी को प्रदेश की 58 सीटों पर मतदान होंगे. एक इंटरव्यू में अखिलेश यादव ने कहा कि राज्य के लोग बदलाव और विकास चाहते हैं. वह समाजवादी पार्टी और आरएलडी गठबंधन को सपोर्ट करेंगे.यही कारण है की हेलीकॉप्टरों में यात्रा करने वाले बड़े-बड़े नेताओं को अब छोटी-छोटी गलियों में कैंपेन करना पड़ रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि हमने पूर्व में अपने सभी चुनावी वादों को पूरा करके दिखाया है.

अखिलेश यादव की रथयात्रा को भारी समर्थन मिल रहा था,रथ यात्रा की भीड़ देख सत्ता दल घबरागया था.सपा की विजय यात्रा की भीड़ देख रोक लगा दी गई. उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने यूपी चुनाव को लेकर बड़ा दावा किया है. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में 400 से सीटें जीतेगी. भाजपा को सत्ता छोड़नी पड़ेगी. सपा को चुनाव के लिए काफी जन समर्थन मिल रहा है.

महंगाई, बेरोजगारी को लेकर सरकार के पास कोई जबाव नहीं,अखिलेश यादव ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि बीजेपी चुनाव ऐसे मुद्दों पर लड़ना चाहती जिनका विकास से कोई मतलब नहीं है, क्योंकि विकास को लेकर, महंगाई और बेरोजगारी को लेकर भाजपा के पास कोई जवाब नहीं है. लखीमपुर खीरी कांड और हाथरस दुष्कर्म कांड को लेकर के भी समाजवादी पार्टी प्रमुख ने भाजपा पर निशाना साधा. अखिलेश ने कहा कि हमें ना सुने, आप नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) का डेटा देखें, महिलाओं के विरुद्ध हो रहे अपराध को लेकर के मुख्यमंत्री क्या कहेंगे? अखिलेश ने यह भी कहा कि उन्होंने महिलाओं के लिए शुरू की गई 1090 हेल्पलाइन नंबर को भी बंद कर दिया, आखिर क्यों ऐसा किया.

भाजपा पहले से जानती थी कि चुनाव प्रचार डिजिटल होंगे.अखिलेश यादव ने दावा किया कि चुनाव आयोग की औपचारिक घोषणा से पहले ही भाजपा को पता था कि इस बार चुनाव अभियान डिजिटल होगा. उन्होंने कहा कि उनके पास अपने अभियान संदेश को विभिन्न हिस्सों में ले जाने के लिए ये वैन हैं. वे इतनी जल्दी उस डिजिटल बुनियादी ढांचे के साथ कैसे तैयार थे? कोई भी इसे दस दिनों में नहीं कर सकता. उन्हें पहले से पता था कि अभियान डिजिटल होगा. उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा ने जानबूझकर रैलियों पर प्रतिबंध लगा दिया था क्योंकि उन्हें पता था कि उनकी रैली में खाली कुर्सियां ही आएंगी.आगामी विधानसभा चुनावों से पहले समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने एक बड़ा दावा किया है. उन्होंने कहा है कि वे पहले चरण की 58 में से 50 सीटें जीतने जा रहे हैं.