डीबीटी के माध्यम से 1 करोड़ 92 लाख बच्चों एवं अभिभावकों के बैंक कैश ट्रान्सफर

लखनऊ। यूपी सीएम ने डीबीटी के माध्यम से 1 करोड़ 92 लाख बच्चों अभिभावकों के बैंक खाते में भेजे। एंकर सोमवार को लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान मेंबेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में छात्र छात्राओं को ड्रेस, स्वेटर, स्कूल बैग, जूता-मोजा एवं स्टेशनरी क्रय हेतु प्रति छात्र-छात्रा ₹1200 की धनराशि उनके अभिभावकों के बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से 1 करोड़ 92 लाख बच्चों के खाते में बटन दबाकर पैसे किए ट्रांसफर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार के तहत उत्तर प्रदेश के 9 विद्यालयों के प्रधानाचार्य एवं प्रधानों को सम्मानित किया।इस मौके पर उच्च शिक्षा मंत्री योगेन्द्र उपाध्याय, महिला कल्याण व बाल विकास मंत्री बेबी रानी मौर्य, माध्यमिक शिक्षा मंत्री गुलाब देवी, प्राथमिक शिक्षा मंत्री संदीप सिंह सहित इन सभी विभागों के अपर मुख्य सचिव व प्रमुख सचिव आदि मौजूद रहे।सीएम योगी ने विद्यालय की बेहतरी को लेकर शिक्षकों और प्रधानों दिलाई शपथ। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि बेसिक शिक्षा की बुनियादी आवश्यकता शिक्षक का इंटरेक्शन है वही वह दौर गया जब प्राथमिक विद्यालयों में बच्चे नंगे पांव पढ़ने आते थे अब सरकार जूता मोजा के साथ यूनिफार्म स्वेटर स्कूल बैग कापी पेंसिल व निश्शुल्क पाठ्य पुस्तकें उपलब्ध करा रही है।उन्होंने कहा कि शिक्षकों की जिम्मेदारी है कि वे अभिभावकों से संपर्क करके उन्हें स्कूल परिधान में बच्चों को भेजने के लिए प्रेरित करें। 

पहले स्कूलों की स्थिति बेहतर नहीं थी स्कूलों में भवनों पर पेड़ और झाड़ी उगी थी 2017 में कही स्कूल भवन नही तो कही शिक्षक नहीं वाली स्थिति थी पहले अभिभावक अपने बच्चे को प्राइवेट स्कूल भेजना सही समझते थे आज हम सब के प्रयास से हमारे स्कूलों में बच्चे बढ़े और 1.62 लाख शिक्षकों की भर्ती की गई ऑपरेशन कायाकल्प से विद्यालयों की तस्वीर बदली  विद्यालय के लिए धार्मिक स्थल जैसा भाव होना चाहिए महापुरुषों के विषय मे भी बच्चों को बताएं आंगनबाड़ी केंद्र पर भी और वहां की व्यवस्था देखें अपने बच्चों को कान्वेंट स्कूल के बजाए प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ने भेजें उन्हें समाज से जोड़े वरना बच्चे त्रिशंकु हो जाएंगे और ये स्थिति बिल्कुल सही नहीं है।  

बेसिक शिक्षा मंत्री संदीप सिंह ने कहा कीमुख्यमंत्री योगी ने सबसे बड़ा काम बेसिक शिक्षा में किया है टेक्नोलॉजी के साथ हम सभी बच्चों को जोड़ रहे अच्छी परफार्मेंस के लिए शिक्षकों का योगदान छात्रों के व्यक्तित्व के निर्माण की जिम्मेदारी भी शिक्षकों पर अभिभावकों के साथ छात्रों का भी आधार वेरिफिकेशन किया गया निपुण भारत के लक्ष्य को प्राप्त करना है।