भाजपा सरकार भ्रष्टाचार और झूठ के सहारे

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार भ्रष्टाचार और झूठे प्रचार के सहारे ही सत्ता में बने रहना चाहती है। बढ़ती महंगाई भाजपा रोकना नहीं चाहती है। राज्य मंत्रिमण्डल में दरार सामने आ रही है और सरकार तथा अफसरशाही के बीच खींचतान थमने का नाम नहीं ले रही है। एक के बाद एक चुनाव चक्र में भाजपा की डबल इंजन सरकार येनकेन प्रकारेण सत्ता पर काबिज रहने के लिए सत्ता  का दुरुपयोग कर रही है।


    ‘बहुत हुई महंगाई की मार, अबकी बार भाजपा सरकार‘ का नारा देकर सत्ता में आयी भाजपा सरकार ने महंगाई की बेरहम मार से जनता का जीवन मुश्किल में डाल दिया है, लेकिन भाजपा की डबल इंजन सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंग रही है। महंगाई आम आदमी की कमाई खा गई है। भाजपा राज में इसे खुली छूट है। बड़े पूंजीघराने मुनाफा कमाने की होड़ में गरीब का शोषण करने में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं। सब्जियां महंगी, अमूल के बाद पराग ने भी दही-मट्ठा के दाम बढ़ा दिए हैं। बाजार में सामान की तौल घट रही है, यह जेब पर डाका है।


    भाजपा सरकार को गरीबों की खुशी बर्दाश्त नहीं। शादी ब्याह और दूसरे पारिवारिक उत्सवों के लिए लोग आवास विकास परिषद के सामुदायिक केन्द्रों का उपयोग कर लेते हैं सरकार इन्हें निजी हाथों में सौंप कर ठेकेदारों को मालामाल करने का इरादा कर लिया है। भाजपा सरकार ने एक और सर्वेक्षण कराने का मन बना लिया है जिसके तहत चार एकड़ से अधिक जमीन और 10 लाख की कार के मालिक अमीर मान लिए जाएंगे। बच्चों की पढ़ाई, ट्यूशन, महीने में कपड़ों की खरीद, शैम्पू, मोबाइल, ड्राईफ्रूट्स के इस्तेमाल का भी हिसाब लिया जाएगा।

    सवाल है कि प्रदेश में हो रहे घोटालों और बढ़ती महंगाई पर भाजपा नेतृत्व कब चुप्पी तोड़ेगा? मंत्रियों ने अपनी ही सरकार के कामकाज पर जो आरोप लगाए हैं उनकी जांच कब होगी? भाजपा सरकार की ‘जीरो टालरेंस‘ का फायदा दबंग भ्रष्टाचारी उठा रहे हैं। इस तरह की सभी अवांछित करतूतों को झूठ से छुपाने का काम भाजपा सरकार कर रही है। महंगाई, भ्रष्टाचार, अन्याय करने वाली भाजपा सरकार से अब जनता तंग आ चुकी है।