भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव की चुनौती..!

2017 से अभी नियुक्ति या पोस्टिंग में एक पैसे का भ्रष्टाचार मिल जाये तो मुझे -स्वतंत्र देव सिंह

लखनऊ। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह जल शक्ति विभाग की 100 दिनों की किये गए कार्यो को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की सिचाई मंत्री के साथ सहयोगी मंत्री राम कृष्ण निषाद ,दिनेश खटीक मौजूद रहे। प्रदेश अध्यक्ष एवं जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने कहा की ईमानदारी के साथ बताना चाहता हूँ की सिचाई विभाग में नियुक्ति या पोस्टिंग में एक पैसे का भ्रष्टाचार मिल जाये तो मुझे बताइये । जब से योगी सरकार बनी है तब से लेकर आज तक ऊपर से लेकर निचे तक सब व्यवस्थित है और आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में जो 100 दिनों का लक्ष्य मिला था उसको जल शक्ति विभाग ने शत-प्रतिशत पूरा किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में हर घर तक नल से शुद्ध जल पहुंचाने का अभियान प्रदेश में युद्धस्तर पर चल रहा है। हर घर तक नल से जल पहुंचाने के साथ गांव-गांव तक रोजगार भी पहुंचाने का काम किया जा रहा है। ग्रामीण महिलाओं की घर बैठे आय बढ़ा कर उन्हें सशक्त बनाने की योजना पर भी विभाग तेजी से काम कर रहा है।

जलशक्ति मंत्री ने नमामि गंगे एवं ग्रामीण जलापूर्ति विभाग की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए बताया कि 100 दिनों में जल जीवन मिशन ने प्रदेश के 574 गांवों में पाइप पेयजल योजनायें पूरी की हैं। इनमें बुन्देलखण्ड / विन्ध्य की 64 पेयजल योजनाएं शामिल हैं। इन योजनाओं से 3.76 लाख घरों में पानी के कनेक्शन दिए गये हैं।वही बुंदेलखंड में 100 दिनों में कुल 63 योजनाओं का कार्य पूरा किया गया। 50 हजार घरों में पेयजल कनेक्शन के लक्ष्य के सापेक्ष 66 हजार से अधिक घरों में हाउस होल्ड टैप कनेक्शन दिए गए। योजना से 33 हजार से अधिक घरों में नल कनेक्शन के साथ पानी की सप्लाई भी शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा विंध्य क्षेत्र के मिर्जापुर और सोनभद्र में 17 परियोजनाओं से कुल 1236 ग्राम पंचायतों को फायदा मिलने जा रहा है। 2961 राजस्व गांव लाभान्वित होंगे। उन्होंने बताया कि विंध्य क्षेत्र में दिसंबर 2022 तक 6.5 लाख से अधिक फंक्शनल हाउसहोल्ड टैप कनेक्शन(एफएचटीसी) देने का लक्ष्य है जिससे 40 लाख से अधिक आबादी को पाइप पेयजल योजना से शुद्ध पेयजल मिलेगा।गंगा को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए तेजी से किये जा रहे प्रयास वाराणसी में 7.5 किमी लम्बे शाही नाले की सिल्ट सफाई एवं लाइनिंग कर जीणोद्धार का कार्य पूरा किया गया। कानपुर के पनकी और मथुरा में यमुना में गिरने वाले नालों को टैप किया गया। मसानी,जौनपुर और बागपत में नए एसटीपी का निर्माण पूरा कराया। मिर्जापुर,गाजीपुर,फर्रुखाबाद,फतेहगढ़ एवं बरेली में 34 नालों को टैप किया।


मुख्यमंत्री लघु सिंचाई योजना से हुआ 46,172 उथले नलकूपों का निर्माण। मुख्यमंत्री लघु सिंचाई योजना से 46,172 उथले नलकूपों का निर्माण किया गया।लखीमपुर खीरी में घाघरा, शारदा का कटान रोकने के लिए सीतापुर में स्टड निर्माण, बरेली, मुरादाबाद, बिजनौर, रामपुर, श्रावस्ती, गाजीपुर में भी कटाव निरोधक कार्य की परियोजनाएं तेजी से पूरी की गई हैं।हर घर नल योजना से प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में 756522 लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने जा रहे हैं। गांव में रहने वालों को प्लंबर, फिटर, ऑपरेटर, केयरटेकर, सिक्योरिटी गार्ड जैसे पदों पर संविदा के आधार पर रोजगार दे रहे हैं 600 जूनियर इंजीनियरों की संविदा के आधार पर भर्ती पूरी तरह कंप्यूटराइजड इस भर्ती प्रक्रिया को इसी महीने पूरा कर इंजीनियरों को नियुक्ति पत्र वितरित किया जाएगा 487700 महिलाओं को पानी के सैंपल की जांच करने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है । इन महिलाओं को पानी की हर जांच के लिए 20 रुपये दिए जा रहे हैं। प्रदेश भर में 1 लाख से अधिक महिलाओं ने प्रशिक्षण पूरा कर लिया है । प्रशिक्षित महिलाओं ने गांवों में पानी के एक लाख से अधिक सैम्पलों की जांच की है। [/Responsivevoice]