आकर्षण का केंद्र बना कैक्टस गार्डन

  • पंचकूला बस स्टैंड और बस स्टैंड से कैक्टस गार्डन तक की दूरी 0.5 किमी है।
  • चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन और स्टेशन से कैक्टस गार्डन तक की दूरी 8 किलोमीटर है।
  • चंडीगढ़ अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा और हवाई अड्डे से कैक्टस गार्डन तक की दूरी 25 किलोमीटर है।

पंचकूला हरियाणा राज्य में एक प्रमुख जनपथ है जो राजधानी चंडीगढ़ से सिर्फ 10 किमी दूर स्थित है। पंचकूला अपने हरे भरे वातावरण के लिए और हरियाणा के घने जंगलों के क्षेत्र में आवास के लिए जाना जाता है। इस शहर की खूबसूरत पर्वत श्रृंखलाओं का आनंद लेने के लिए बड़ी संख्या में आगंतुकों आकर्षित होते हैं। पंचकूला पांच प्राचीन जल नहरों के लिए भी जाना जाता है और हरियाणा राज्य की पानी की जरूरतों को पूरा करता है। शिवालिकों की खूबसूरत रेंज से लेकर प्राचीन मंदिरों तक और घनीभूत जंगलों से बेहद सुखद मौसम का आन्नद लेने के लिए पंचकूला आमंत्रीत करता है। उक्त स्थानो के अलावा, यह शहर अपने विषय आधारित क्लब और भव्य खाद्य जोड़ों के लिए भी लोकप्रिय है।

फूलों से तो सब मुहब्बत करते हैं लेकिन क्या कभी आपने कांटों का चमन देखा है? रतलाम में एशिया का सबसे बड़ा कैक्टस गार्डन है। कांटों की इस दुनिया में कैक्टस की 2000 प्रजातियां हैं। ये कैक्टस गार्डन सैलाना के महाराज दिगविजय सिंह ने लगवाया था। बताते हैं वो 1958 में जर्मनी गए थे। वहां उन्होंने तरह-तरह के कैक्टस देखे, इसके बाद उन्होंने सैलाना में कैक्टस का बगीचा बनाने का फैसला किया। इसके लिए जर्मनी, टेक्सास, मेक्सिको, चिली समेत कई देशों से पौधे मंगवाए गए। पौधे जीवित रहें. इसके लिए मिट्टी भी विदेश से ही मंगवाई गई थी।

कैक्टस गार्डन का नाम बदलकर राष्ट्रीय कैक्टस और सस्कुलेट बॉटनिकल गार्डन और रिसर्च सेंटर रखा गया है, जोकी चंडीगढ़ के सैटेलाइट शहर पंचकूला के केंद्र में स्थित है। इस उद्यान के विकास के पीछे उद्देश्य कैक्टस और सुकुलुओं की लुप्तप्राय प्रजातियों के संरक्षण और संरक्षण के साथ-साथ पर्यटकों को आकर्षित करना था। सात एकड़ जमीन के क्षेत्र में फैला हुआ यह एशिया के सबसे बड़े आउटडोर भू-भाग के कैक्टस और सूक्कुल गार्डन के रूप में माना जाता है जिसमें 2500 से अधिक प्रजातियों के कैक्टस और सुकुलेंट हैं। बगीचे में भारतीय सुकलों का एक व्यापक संग्रह है, जो दुनिया में सबसे बड़ा है, इनमें से कुछ बहुत दुर्लभ हैं और पहले से ही लुप्तप्राय प्रजातियों के रूप में घोषित कर चुके हैं।

जिसमें भारतीय मूल के जीनस कार्लुमा का पूरा संग्रह शामिल है। बगीचे में तीन हरे घरों का घर है कैक्टस और सुकुलु भी औषधीय मूल्यों के लिए जाना जाता है क्योंकि सदियों से भारतीय शर्करा का उपयोग आयुर्वेद और यूनानी दवाओं में किया जा रहा है। यह न केवल पर्यटकों के लिए बल्कि वनस्पतिविदों के लिए आकर्षण का एक बड़ा स्रोत है। यह पार्क अप्रेल से सितंबर के बीच मे सुबह 9 से 1 बजे तक और शाम 3 से 7 बजे तक तथा अक्तुबर से मार्च तक सुबह 9 बजे से 1 बजे तक और शाम 2 से 6 बजे तक खुला रहता है। इसका प्रवेश शुल्क 10 रु प्रति व्यक्ति है।

यह गार्डन कुल 7 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है, जो एशिया का सबसे बड़ा कैक्‍टस गार्डन है। पर्यटक यहां हजारों की संख्‍या में इस दुर्लभ कैक्‍टस गार्डन को देखने आते रहते हैं।