Thursday, October 6, 2022
Advertisement
Home साहित्य जगत

साहित्य जगत

भारत के धरती और आकाश केसरिया हो गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत का आत्मविश्वास सातवें आसमान पर है। अब भारत की ओर दुनिया की कोई भी महाशक्ति आंख नहीं उठा सकती। एक नई तरह का सांस्कृतिक पुनर्जागरण चल रहा है। हम भारत के लोग अपनी...
जो इस धरती पर स्वर्ग का निर्माण करती है वही माँ होती है। एक हिन्दी फिल्म का अत्यंत चर्चित डायलॉग है और वो ये कि मेरे पास माँ है। इससे सिद्ध होता है कि इस संसार में माँ से बढ़कर न तो कोई रिश्ता है और...
भारतीय दर्शन का उद्देश्य लोकमंगल है। कुछ विद्वान भारतीय चिंतन पर भाववादी होने का आरोप लगाते हैं। वे ऋग्वेद में वर्णित कृषि व्यवस्था पर ध्यान नहीं देते। अन्न का सम्मानजनक उल्लेख ऋग्वेद में है, अथर्ववेद में है। उपनिषद् दर्शन ग्रन्थ हैं। उपनिषदों में अन्न की महिमा है। तैत्तिरीय उपनिषद्...
भारतीय संस्कृति परंपरा में सामूहिक उपलब्धि आनंदकारी है। भारत में ऋग्वेद के रचनाकाल के पहले से ही सामूहिक जीवनशैली का विकास हो चुका था। वैदिक धर्म में ‘हम‘ भाव का लगातार विकास हुआ।  "मैं" से "हम" की अंतर्यात्रा आनंददायी है। "मैं" होना एकाकी है। एकाकी में उदासी है और विषाद...
पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने पूर्व शिक्षा अधिकारी राम बचन सिंह यादव की तीन पुस्तकों का किया विमोचन। साहित्य समाज में संस्कारों और संस्कृति का संवाहक,आजमगढ़ में साहित्य की समृद्ध परम्परा रही है । डॉ. अभय प्रताप यादव साहित्य समाज में संस्कारों व संस्कृति का संवाहक है। ऐसे में साहित्यकारों...
हम जो कुछ भी पढ़ते है, सुनते है, समझते है, उसे जीवन में कितना उतार पाते है...? हर व्यक्ति को सफल जीवन और किसी भी तरह की कठिनाइयों का सामना करने के लिए आत्म मंथन अवश्य करना चाहिए।आत्म ज्ञान से व्यक्ति अपने अंदर के अज्ञान को समाप्त कर सकता है....
🙏🏻 🧡🙏🏻❤🙏🏻💛🙏🏻अधजल गगरी छलकत जाय।थोंथा चना देख मुसकाय।गूंगा गावे गीत सुरीला,बहरा देखो धूम मचाय।🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿अंधा बोले सब दिखता है,मूरख पोथी देख लजाय।अंधों में कनवां राजा है,एक आंख से निरखत जाय।🌱🌱🌱🌱🌱🌱🌱चोर उचक्का बने मदारी,जनता को सब रहे नचाय।बिन पानी परजा सब रोवे,नलिनी पानी में कुंभलाय।🙋‍♂️🙋‍♂️🙋‍♂️🙋‍♂️🙋‍♂️🙋‍♂️🙋‍♂️मेघा - मेघा पानी लाओ,लयिका घूम -घूम...
ब्रह्माण्ड रहस्यपूर्ण है। हम सब इसके अविभाज्य अंग हैं। यह विराट है। हम सबको आश्चर्यचकित करता है। इसकी गतिविधि को ध्यान से देखने पर तमाम प्रश्न उठते हैं। भारतीय ऋषि वैदिककाल से ही प्रकृति के गोचर प्रपंचों के प्रति जिज्ञासु रहे हैं।...
ह्रदय नारायण दीक्षित धर्म एक है। इसे सनातन धर्म कहते हैं। सनातन का अर्थ - सदा से है। इसे वैदिक धर्म भी कहते हैं। इसका विकास वैदिक दर्शन से हुआ है। यह सतत् विकासशील है। वैदिककाल के मानव जीवन का लक्ष्य आनंद है। सभी प्राणी आनंद के प्यासे हैं। प्रकृति...
कान्हा की गोवर्धन लीला,बच्चों ने नृत्यों की संतरंगी छ्ठा बिखेरी। अजय सिंह लखनऊ। मित्तल परिवार की ओर से अमीनाबाद रोड स्थित न्यू गणेशगंज में छह दिवसीय श्रीकृष्ण जन्मोत्सव एवं डिजिटल मूविंग झांकियों की श्रृंखला में पांचवे दिन मंगलवार को गोवर्धन लीला और सांस्कृतिक कार्यक्रम संध्या में बच्चों की नृत्य स्पर्धा, पपेट...

Popular Posts

Breaking News

अनुकंपा नियुक्ति के लिए विवाहित बेटी को मां पर आश्रित नहीं कहा जा सकता:...

0
🔘 सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में फैसला सुनाया कि एक विवाहित बेटी को उसकी मृत मां पर निर्भर नहीं कहा जा सकता है...

15 नवम्बर तक गड्ढामुक्त होगा उत्तर प्रदेश योगी

0
मुख्यमंत्री योगी का निर्देश, 15 नवम्बर तक गड्ढामुक्त हो उत्तर प्रदेश। गड्ढामुक्त सड़कों के लिए अविलंब प्रारम्भ करें प्रदेशव्यापी अभियान। बोले मुख्यमंत्री, गांव हो...

आई.टी.आई. प्रवेश पंजीकरण अन्तिम तिथि 29 अक्टूबर

0
राजकीय आई.टी.आई. के प्रवेश पंजीकरण हेतु आवेदन 14 अक्टूबर, 2022 तथा निजी आई.टी.आई. के प्रवेश पंजीकरण हेतु आवेदन 29 अक्टूबर, 2022 रात्रि 12 बजे...

छात्रवृत्ति के लिए छात्र 07 नवम्बर तक करें आवेदन

0
छात्रवृत्ति हेतु कक्षा 11-12 व अन्य समस्त दशमोत्तर कक्षाओं के छात्र 07 नवम्बर तक करें आवेदन। प्रतापगढ़। जिला समाज कल्याण...

अन्त्योदय व पात्र गृहस्थी कार्डधारक 12 अक्टूबर तक प्राप्त करें खाद्यान्न

0
अन्त्योदय व पात्र गृहस्थी कार्डधारकों को 12 अक्टूबर तक खाद्यान्न का किया जायेगा वितरण। प्रतापगढ़। जिला पूर्ति अधिकारी ने बताया है कि माह अगस्त 2022...
hi Hindi
X