आत्मनिर्भरता रोजगार सृजन के लिए आवश्यक-मुख्यमंत्री

देश-दुनिया के अंदर मऊ, आजमगढ़ और बलिया के लोगों ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। देश प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में नित नई विकास परियोजनाओं के साथ आगे बढ़ रहा भारत ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था को पीछे छोड़कर दुनिया की पाचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया। प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं को सफलतापूर्वक क्रियान्वित किया जा रहा। पूर्वान्चल एक्सप्रेस-वे ने मऊ से लखनऊ के बीच की दूरी सीमित कर दी।

मुख्यमंत्री ने जनपद मऊ में विभिन्न विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों को स्मार्ट फोन, प्रतीकात्मक चेक, प्रमाण-पत्र व स्वीकृति पत्र प्रदान किए। पं0 दीनदयाल उपाध्याय की मूर्ति पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित की,जनपद मऊ के क्रांतिकारी कवि पं0 श्याम नारायण पाण्डेय ने अपनी हल्दीघाटी रचना के माध्यम से भारत की विरासत के प्रति आम नागरिकों का ध्यान आकर्षित किया था। पं0 श्याम नारायण पाण्डेय जैसे क्रांतिकारी कवि ने अपनी हल्दीघाटी रचना के माध्यम से भारत की विरासत के प्रति आम नागरिकों का ध्यान आकर्षित किया।

प्रधानमंत्री के पंच प्रण मंत्र पर चलकर प्रत्येक नागरिक को अपने कर्तव्यों का ईमानदारीपूर्वक निर्वहन करना पड़ेगा। अपनी संस्कृति व विरासत का सम्मान व रक्षा करना प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य गुलामी का एक भी चिन्ह स्वीकार नहीं किया जा सकता। प्रदेश सरकार द्वारा बिना भेदभाव विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं से लोगों को लाभान्वित किया जा रहा। महाराजा सुहेलदेव के नाम पर पहला राज्य विश्वविद्यालय आजमगढ़ और मऊ की सीमा पर बनाया जा रहा, इसके अन्तर्गत नये कॉलेजों की सम्बद्धता, नियुक्ति और पाठ्यक्रम की शुरुआत जैसे विभिन्न कार्य किए जा रहे, यह विश्वविद्यालय इस क्षेत्र के युवाओं के बेहतर भविष्य के निर्माण में सहायक होगा।

मऊ/लखनऊ। जनपद मऊ अनेक ऋषि-मुनियों एवं क्रांतिकारियों की जन्मस्थली है। इस जनपद के क्रांतिकारी कवि पं0 श्याम नारायण पाण्डेय ने अपनी हल्दीघाटी रचना के माध्यम से भारत की विरासत के प्रति आम नागरिकों का ध्यान आकर्षित किया था। मऊ की धरती ने कल्पनाथ राय जैसा ओजस्वी नेता प्रदान किया है। स्वामी सहजानन्द की कर्मभूमि होने का सौभाग्य भी मऊ जनपद को प्राप्त हुआ है। देश-दुनिया के अंदर मऊ, आजमगढ़ और बलिया के लोगों ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है।उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद मऊ में 203 करोड़ रुपये से अधिक की 47 विभिन्न विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इनमें 161 करोड़ 70 लाख रुपये लागत की 32 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं लगभग 42 करोड़ रुपये लागत की 15 परियोजनाओं का शिलान्यास सम्मिलित है। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री जी ने विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों को प्रतीकात्मक चेक, प्रमाण-पत्र, स्वीकृति पत्र व स्मार्ट फोन प्रदान किए।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पूरा देश नित नई विकास परियोजनाओं के साथ आगे बढ़ रहा है। वर्तमान में देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। 75 वर्ष की इस यात्रा में भारत ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था को पीछे छोड़कर दुनिया की पाचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में वैश्विक मंच पर भारत ने अपनी अलग पहचान स्थापित की है। वैश्विक नीतियों के निर्माण में भी भारत अहम योगदान दे रहा है। प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं को सफलतापूर्वक क्रियान्वित किया जा रहा है।

गोरखपुर-वाराणसी 04 लेन के माध्यम से मऊ से गोरखपुर और वाराणसी की यात्रा में सुगमता प्राप्त हुई। पूर्वान्चल एक्सप्रेस-वे पर बन रहे औद्योगिक क्लस्टर आजमगढ़, मऊ और बलिया के लोगों को रोजगार प्रदान करने में सहायता प्रदान करेंगे। अब यहां के नौजवानों को रोजगार के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। जब पूरी दुनिया कोरोना से कराह रही थी, तब प्रधानमंत्री जी देश के नागरिकों के जीवन एवं जीविका को बचा रहे थे। कोरोना काल में निःशुल्क राशन, टेस्ट व उपचार की व्यवस्था प्रदान की गयी। कोरोना की 5वीं वैक्सीन शीघ्र ही नेजल वैक्सीन के रूप में आ रही, अब लोगों को बिना इंजेक्शन कोरोना की वैक्सीन प्राप्त हो सकेगी।


मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्वान्चल एक्सप्रेस-वे ने मऊ से लखनऊ के बीच की दूरी सीमित कर दी है। गोरखपुर-वाराणसी 04 लेन के माध्यम से मऊ से गोरखपुर और वाराणसी की यात्रा में भी सुगमता प्राप्त हुई है। मऊ से 02 घण्टे में वाराणसी और 02 घण्टे से कम समय में गोरखपुर की यात्रा तय की जा रही है। आवागमन व विकास कार्यों के लिए अच्छी सड़कें आवश्यक हैं। पूर्वान्चल एक्सप्रेस-वे पर बन रहे औद्योगिक क्लस्टर आजमगढ़, मऊ और बलिया के लोगों को रोजगार प्रदान करने में सहायता प्रदान करेंगे। अब यहां के नौजवानों को रोजगार के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा।


जब पूरी दुनिया कोरोना से कराह रही थी, तब प्रधानमंत्री देश के नागरिकों के जीवन एवं जीविका को बचा रहे थे। कोरोना काल में निःशुल्क टेस्ट, उपचार, राशन एवं वैक्सीन की व्यवस्था प्रदान की गयी। भारत ने मात्र 09 माह में कोरोना की वैक्सीन तैयार कर ली। कोरोना की 5वीं वैक्सीन शीघ्र ही नेजल वैक्सीन के रूप में आ रही है। अब लोगों को बिना इंजेक्शन कोरोना की वैक्सीन प्राप्त हो सकेगी। दुनिया के 25 से अधिक देशों को भारत द्वारा वैक्सीन उपलब्ध करायी गयी। यह नये भारत की नयी तस्वीर है। देश को विकसित राष्ट्र बनाने के लिए प्रधानमंत्री जी के पंच प्रण मंत्र पर चलकर प्रत्येक नागरिक को अपने कर्तव्यों का ईमानदारीपूर्वक निर्वहन करना पड़ेगा। अपनी संस्कृति व विरासत का सम्मान व रक्षा करना प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य है। गुलामी का एक भी चिन्ह स्वीकार नहीं किया जा सकता।


प्रदेश सरकार द्वारा बिना भेदभाव विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं द्वारा लोगों को लाभान्वित किया जा रहा है। इन योजनाओं में प्रधानमंत्री आवास योजना, मुख्यमंत्री आवास योजना, सौभाग्य योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, ऑपरेशन कायाकल्प जैसी कई योजनाएं शामिल हैं। महाराजा सुहेलदेव के नाम पर पहला राज्य विश्वविद्यालय आजमगढ़ और मऊ की सीमा पर बनाया जा रहा है। इसके अन्तर्गत नये कॉलेजों की सम्बद्धता, नियुक्ति और पाठ्यक्रम की शुरुआत जैसे विभिन्न कार्य किए जा रहे हैं। यह विश्वविद्यालय इस क्षेत्र के युवाओं के बेहतर भविष्य के निर्माण में सहायक होगा।

उ0प्र0 को देश की नम्बर एक अर्थव्यवस्था बनाने के लिए प्रदेश सरकार प्रयासरत,प्रदेश सरकार ग्रामीण और नगरीय क्षेत्र के लिए उ0प्र0 मातृभूमि योजना लाने जा रही, इस योजना के अन्तर्गत कोई भी नागरिक अपने पूर्वज के नाम पर कोई सार्वजनिक कार्य प्रारम्भ करा सकता, उस सार्वजनिक कार्य की लागत का 50 प्रतिशत प्रदेश सरकार वहन करेगी।जिन माफियाओं ने गलत कार्यों द्वारा अपार सम्पत्ति अर्जित की है, उन्हें पाताल से भी निकालकर कानून के अनुसार सजा दिलायी जाएगी। प्रदेश सरकार हैण्डलूम और पावरलूम को नयी तकनीक से जोड़ने का कार्य कर रही। बंद पड़ी कॉटन, चीनी और सिल्क मिलों के पुनर्संचालन की व्यापक कार्ययोजना बनायी जा रही। आत्मनिर्भरता रोजगार सृजन के लिए आवश्यक, प्रदेश सरकार गांवों की आत्मनिर्भरता की दिशा में कार्य कर रही।


विगत 05 वर्षों में प्रदेश सरकार ने 05 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी प्रदान की है। 01 करोड़ 61 लाख युवाओं को विभिन्न रोजगारपरक कार्यक्रमों से सम्बद्ध किया है। 60 लाख युवाओं को स्वतः रोजगार से जोड़ा है। डबल इंजन की सरकार प्रदेश के विकास के लिए निरन्तर प्रयत्नशील है। आजादी के बाद 70 वर्षों में केवल 12 सरकारी मेडिकल कॉलेजों का निर्माण हो पाया था। वर्तमान प्रदेश सरकार 35 मेडिकल कॉलेजों का निर्माण करा रही है। वर्तमान में जिन 14 जिलों में मेडिकल कॉलेज नहीं हैं, उन जिलों में भी मेडिकल कॉलेजों के निर्माण के लिए पॉलिसी बनायी जा रही है। मऊ व बलिया में मेडिकल कॉलेज का निर्माण कर विशेषज्ञतायुक्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करायी जाएगी। यहां के लोगों को चिकित्सा के लिए दूसरे शहरों में नहीं जाना पड़ेगा।


प्रदेश सरकार ने जीरो टॉलरेंस की नीति के माध्यम से अपराध व अपराधियों पर अंकुश लगाकर एक सुरक्षित वातावरण तैयार किया है। यह वातावरण निवेश को आकर्षित करने में अहम भूमिका का निर्वहन कर रहा है। जिन माफियाओं ने गलत कार्यों द्वारा अपार सम्पत्ति अर्जित की है, उन्हें पाताल से भी निकालकर कानून के अनुसार सजा दिलायी जाएगी। डबल इंजन की सरकार अन्नदाता किसानों के कल्याण, नवयुवकों के सुरक्षित भविष्य और महिलाओं की सुरक्षा व स्वावलम्बन के लिए कार्य कर रही है।

यह क्षेत्र हैण्डलूम के लिए प्रसिद्ध था। कपड़ा उद्योग कृषि के बाद सर्वाधिक रोजगार प्रदान करता है। प्रदेश सरकार हैण्डलूम और पावरलूम को नयी तकनीक से जोड़ने का कार्य कर रही है। बंद पड़ी कॉटन, चीनी और सिल्क मिलों के पुनर्संचालन की व्यापक कार्ययोजना बनायी जा रही है। गन्ना उत्पादन क्षेत्रों में चीनी मिल व बायोफ्यूल की यूनिट लगाने की कार्यवाही की जाएगी। यह यूनिट युवाओं को रोजगार प्रदान करने में सहायता करेंगी। रोजगार के लिए युवाओं को दूसरे शहरों में नहीं जाना पड़ेगा। उत्तर प्रदेश को देश की नम्बर एक अर्थव्यवस्था बनाने के लिए प्रदेश सरकार प्रयासरत है।


प्रदेश सरकार ग्रामीण और नगरीय क्षेत्र के लिए उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना लाने जा रही है। इस योजना के अन्तर्गत कोई भी नागरिक अपने पूर्वज के नाम पर कोई सार्वजनिक कार्य प्रारम्भ करा सकता है। उस सार्वजनिक कार्य की लागत का 50 प्रतिशत प्रदेश सरकार वहन करेगी। साथ ही, प्रदेश सरकार उनके पूर्वज के नाम से शिलापट्ट लगाने का कार्य करेगी। यह योजना पूर्वजों के प्रति कृतज्ञता दर्शाने के साथ-साथ विकास का भी माध्यम बनेगी। आत्मनिर्भरता रोजगार सृजन के लिए आवश्यक है। प्रदेश सरकार गांवों की आत्मनिर्भरता की दिशा में कार्य कर रही है। गांव के राजस्व में वृद्धि, विकास की योजनाओं और ग्राम पंचायत के खर्चों के वहन में सहायक होगी। इसलिए गांव को अपने राजस्व में वृद्धि करने का प्रयास करना चाहिए।


गाजीपुर तिराहे पर स्थित पं0 दीनदयाल उपाध्याय जी की मूर्ति पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित की। नगर विकास मंत्री अरविन्द कुमार शर्मा ने कहा कि विगत 05 वर्षों में मुख्यमंत्री के निर्देशन में मऊ व आसपास के जिलों की जनता के लिए अनेक कार्य किए गए हैं। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निर्माण से मऊ व लखनऊ के बीच की दूरी सीमित हो गयी है। आजमगढ़ और मऊ की सीमा पर महाराज सुहेलदेव राज्य विश्वविद्यालय का निर्माण, आजमगढ़ मण्डल के युवकों के लिए वरदान साबित होगा।


ज्ञातव्य है कि मुख्यमंत्री द्वारा लोकार्पित परियोजनाओं में पशु चिकित्सालय का अनावासीय भवन, जनपद कारागार परिसर की चहारदीवारी, पशु प्रयोगशाला, मधुबन-दुबारी मार्ग का चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण, करौंदी नरायनपुर से मीरपुर के मध्य नाले पर लघु सेतु, मधुबन-भैरोपुर मार्ग के कि0मी0 03 के बाएं ओर से कमरौली पुल, मेहदिया कुण्ड मार्ग तक सम्पर्क मार्ग, रसूलपुर गौतम सम्पर्क मार्ग के विशेष मरम्मत कार्य, मधुबन बेल्थरा मार्ग से खिरीकोठा गांव से घोसी-मधुबन मार्ग के विशेष मरम्मत कार्य, मधुबन बेल्थरा मार्ग पर निधियां होते हुए दुलैचा दोथपुल मार्ग के विशेष मरम्मत कार्य, पवनी मुख्य एवं दक्षिणी अनुसूचित बस्ती सम्पर्क मार्ग के विशेष मरम्मत कार्य, घोसी-मधुबन से खानपुर बुजुर्ग सम्पर्क मार्ग, वाराणसी-गोरखपुर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-29 के चैनेज कि0मी0 112.460 से 130.070 एवं 136.030 से 143.340 तक राइडिंग क्वालिटी का सुधार कार्य सम्मिलित है।


गो-संरक्षण केन्द्र, पिंजड़ा परदहा राजकीय पॉलीटेक्निक में नवीन भवन, राजकीय आई0टी0आई0, मोहम्मदाबाद गोहना, वन स्टॉप सेण्टर, परदहा राजकीय सम्प्रेक्षण गृह (किशोर) का मुख्य भवन राजकीय अलंकृत उद्यान, रोज गार्डन, चन्द्रभानपुर, तहसील बधुबन का अनावासीय भवन, सेमराजपुर, इटौलीमठ महेश, चक्कीमूसाडोही एवं माहपुर पाइप पेयजल परियोजना, जिला सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास कार्यालय भवन एवं विश्राम गृह, बस स्टेशन का मुख्य भवन एवं कार्यशाला, 100 शैय्या चिकित्सालय, घोसी का मुख्य भवन एवं पानी की टंकी, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, मझवारा का मुख्य भवन घाघरा नदी के दाएं तट पर स्थित ग्राम रसूलपुर, इमामुद्दीनपुर एवं मोर्चा के मध्य कटाव निरोधक कार्य का भी लोकार्पण किया गया।

विगत 05 वर्षों में मुख्यमंत्री जी के निर्देशन में मऊ व आसपास के जिलों की जनता के लिए अनेक कार्य किए गए-नगर विकास मंत्री

विगत 05 वर्षों में प्रदेश सरकार ने 05 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी प्रदान की, 01 करोड़ 61 लाख युवाओं को विभिन्न रोजगारपरक कार्यक्रमों से सम्बद्ध किया, 60 लाख युवाओं को स्वतः रोजगार से जोड़ा। आजादी के बाद 70 वर्षों में केवल 12 सरकारी मेडिकल कॉलेजों का निर्माण हो पाया था, वर्तमान प्रदेश सरकार 35 मेडिकल कॉलेजों का निर्माण करा रही। प्रदेश सरकार ने जीरो टॉलरेंस की नीति के माध्यम से अपराध व अपराधियों पर अंकुश लगाकर एक सुरक्षित वातावरण तैयार किया, यह वातावरण निवेश को आकर्षित करने में अहम भूमिका का निर्वहन करेगा।


मुख्यमंत्री द्वारा शिलान्यास की गई परियोजनाओं में कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय, कोपागंज, मुहम्मदाबाद एवं बड़ाव में 100-100 शैय्या छात्रावास, राजकीय आई0टी0आई0, मऊ में वर्कशॉप बिल्डिंग, सी0सी0 रोड एवं ड्रेन चचाई पार नहर की पटरी से सुल्तानीपुर होते हुए चुहिया पोखरा तक सम्पर्क मार्ग शहीद मार्ग से सिंहासी सम्पर्क मार्ग का विशेष मरम्मत कार्य, असना दरगाह सम्पर्क मार्ग का विशेष मरम्मत कार्य घोसी मझवारा मार्ग पर बरुहा चट्टी से रसड़ी होते हुए कैरमा महरूपुर सम्पर्क मार्ग का विशेष मरम्मत कार्य, दोहरीघाट मधुबन (एम0डी0आर0-170 ई0) के कि0मी0 18 से बनकटा सम्पर्क मार्ग, शाहपुर सरौदा मार्ग का निर्माण कार्य, पाइप पेयजल परियोजना खालिसपुर, रणवीरपुर एवं कोल्हुआ खास टाँस नदी के बाएं तट पर स्थित हथिनी बांध के कि0मी0 4.300 से 4.800 तक सुदृढ़ीकरण तथा लाँचिंग एप्रन एवं स्लोप पिचिंग का कार्य, चौधरी चरण सिंह दोहरीघाट पम्प नहर प्रणाली के मुख्य नहर एवं राजवाहों पर निर्मित पैदल पुल के स्थान पर वी0आर0बी0 निर्माण कार्य शामिल है।इस अवसर पर जनप्रतिनिधिगण तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।