मुख्य सचिव इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स की सर्वोच्च सदस्यता फेलो उपाधि से सम्मानित

मुख्य सचिव इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स की सर्वोच्च सदस्यता फेलो उपाधि से सम्मानित।इंजीनियरिंग कार्यों में अटूट लगन एवं क्षमता को दृष्टिगत रखते हुये किया गया सम्मानित।

लखनऊ। प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र को इंजीनियरिंग कार्यों में अटूट लगन एवं क्षमता को दृष्टिगत रखते हुये इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स की सर्वोच्च सदस्यता फेलो उपाधि से सम्मानित किया गया। यह उपाधि इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ0 हेमन्त ठाकरे द्वारा प्रदान की गई।  इस अवसर पर मुख्य सचिव ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में विगत् आठ वर्षों में देश ने हर क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रगति हासिल की है। देश के इंजीनियर्स पूरे विश्व में सफलतापूर्वक कार्य कर रहे हैं और वह हर समस्या के समाधान की क्षमता रखते हैं। उन्होंने इंजीनियर्स से देश के विकास में एकजुट होकर कार्य करने हेतु आह्वान किया।  इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ0 हेमन्त ठाकरे ने बताया कि श्री दुर्गा शंकर मिश्र ने आई0आई0टी0 कानपुर से बी0टेक की शिक्षा प्राप्त की है तथा इन्होंने 10 में से 10 ग्रेड अंक प्राप्त करके एक नया कीर्तिमान स्थापित करते हुये इंजीनियरिंग की उपाधि प्राप्त की। 

         उन्होंने बताया कि श्री मिश्र निरन्तर विकास कार्यों से जुड़े रहे हैं। चाहे वह आगरा का सौन्दर्यीकरण हो, चाहे दिल्ली का सेण्ट्रल विस्टा का निर्माण हो या देश में मेट्रो रेल का विस्तार हो। इंजीनियरिंग कार्यों में अटूट लगन एवं क्षमता को दृष्टिगत रखते हुये इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स की सर्वोच्च सदस्यता फेलो उपाधि से सम्मानित करने का निर्णय लिया गया।        उल्लेखनीय है कि इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स एशिया की सबसे बड़ी लगभग 102 वर्ष पुरानी तकनीकी संस्था है, जिसके देश-विदेश में 125 से अधिक सेण्टर हैं तथा लाखों इंजीनियर इसके सदस्य हैं। इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स निरन्तर अपने विभिन्न केन्द्रों, इंजीनियरिंग विद्यालयों एवं अन्य सम्बन्धित संस्थानों में नई-नई तकनीक के विस्तार हेतु गोष्ठी, कार्यशाला एवं कांफ्रेन्स आदि का आयोजन करती रहती है।इस मौके पर इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ई0 वी0बी0 सिंह, यू0पी0 स्टेट सेण्टर के चैयरमैन इं0 मसर्रत नूर खाँ एवं पूर्व चेयरमैन इं0 आर0के0त्रिवेदी उपस्थित थे।