मुख्य सचिव ने केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय से हर घर तिरंगा कार्यक्रम का किया शुभारंभ

????????????????????????????????????

मुख्य सचिव ने केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय में हर घर तिरंगा कार्यक्रम का शुभारंभ किया।संस्कृत हमारी सनातन परम्परा का अभिन्न अंग।संस्कृत भाषा के बारे में आम जनमानस को करें जागरूक।मुख्य सचिव ने सभी से अपने घरों पर तिरंगा फहराने तथा अपने आसपास के लोगों को प्रेरित करने का किया आह्वान।आजादी के अमृत पर्व पर हर तरफ उत्सव का माहौल।इस पर्व पर देश की आजादी के लिए अपना सबकुछ न्यौछावर करने वाले महानुभावों को याद करने का मौका।


लखनऊ। 
मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने लखनऊ के गोमती नगर स्थित केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय में मनाये जा रहे संस्कृत सप्ताह महोत्सव में ‘हर घर तिरंगा कार्यक्रम’ का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि संस्कृत हमारी सनातन परम्परा का अभिन्न अंग है। हमारी मूल भाषा संस्कृत है। हमें अपनी संस्कृति और सभ्यता पर गर्व करना चाहिये। लगभग 8 हजार साल पूर्व हमारे वेदों की रचना भी संस्कृत में की गई है। हमें हर भाषा का ज्ञान होना चाहिए। संस्कृत भाषा के साहित्य के ज्ञान में सीखने के लिये बहुत कुछ है। संस्कृत में वैदिक गणित है। विदेशों में लोग संस्कृत के बारे में रिसर्च करते हैं।


         उन्होंने कहा कि संस्कृत हमारी वैज्ञानिक भाषा है। इसमें ज्ञान का भंडार है। विश्वविद्यालय को संस्कृत को बढ़ावा देने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार करना चाहिये। संस्कृत विश्वविद्यालय में ओपन डे का आयोजन कर सकते हैं, जिसमें संस्कृत भाषा के बारे में आम जनमानस को जागरूक करें। वैदिक गणित के बारे में भी लोगों को बताएं। विश्वविद्यालय द्वारा संस्कृत सप्ताह महोत्सव का आयोजन किया जाना प्रशंसनीय है। विश्वविद्यालय के 400 विद्यार्थी देश में संस्कृत भाषा को आगे बढ़ाने का कार्य कर रहे हैं। यह गर्व का विषय है। यह नए भारत का उदय है। देश में संस्कृत को आगे बढ़ाने के लिए लगे हुए है।


         उन्होंने सभी से अपने घरों पर तिरंगा फहराने तथा अपने आसपास के लोगों को प्रेरित करने का आह्वान करते हुये कहा कि भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस विशेष तरीके से मनाया जा रहा है। आजादी के अमृत पर्व पर हर तरफ उत्सव का माहौल है। पूरे उत्तर प्रदेश में हर घर तिरंगा महोत्सव मनाया जा रहा है। देश की आजादी के लिए कई महानुभाव ने अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया था। 76वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर उन्हीं को याद करने का मौका है। इससे पूर्व, मुख्य सचिव ने पवित्रमंत्रों के साथ भगवान शंकर की पूजा की।वहीं कार्यक्रम में संस्कृत विश्वविद्यालय के निदेशक श्री सर्वनारायण झा ने ‘संस्कृत सप्ताह महोत्सव’ पर वर्तमान समय में संस्कृत की उपयोगिता को रेखांकित किया। कार्यक्रम में प्रोफेसर लोक मिश्र, प्रोफेसर शिशिर त्रिपाठी, प्रोफेसर देवी प्रसाद द्विवेदी, वेद विभागाध्यक्ष डॉक्टर डी. दयानाथ, छात्र- छात्राएं आदि मौजूद थे।


          उल्लेखनीय है कि शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देशानुसार प्रति वर्ष रक्षाबंधन के दिन संस्कृत दिवस का आयोजन हर शिक्षा संस्थानों में सुनिश्चित किया गया है। इस साल संस्कृत दिवस रक्षाबंधन के दिन 11 और 12 अगस्त को मनाया जाएगा। चूंकि पिछले कुछ सालों से संस्कृत की प्रासंगिकता और उपयोगिता को रेखांकित करने के लिए रक्षाबंधन से कुछ पूर्व ही संस्कृत सप्ताह मनाया जाने का निर्देश केंद्र सरकार की ओर से निर्गत है। अतः इस साल भी दिनांक 9 से 14 अगस्त तक संस्कृत सप्ताह का आयोजन इस परिसर में धूमधाम से किया जा रहा है।