नवनिर्मित रुदौली रेलवे क्रॉसिंग फ्लाई ओवर सर्विस रोड़ की शिकायत

फ्लाईओवर की सर्विस रोड़ को लेकर की गयी शिकायत पर संतुष्टिपूर्ण जवाब न मिलने पर शिकायतकर्ता आहत।

अब्दुल जब्बार एडवोकेट व आशीर्वाद गुप्ता

भेलसर(अयोध्या)। नवनिर्मित रुदौली रेलवे क्रॉसिंग फ्लाईओवर की सर्विस सड़कों को लेकर की गयी शिकायत पर संतुष्टिपूर्ण जवाब न मिलने पर शिकायतकर्ता विवेक चंद्र गुप्ता विभाग के गोलमोल जवाब से निराश है।उन्होंने बताया की ब्रिज से संबंधित यह उनकी तीसरी शिकायत है।सभी शिकायतों पर प्रतिक्रिया भ्रामक और अधूरी हैं।उन्होंने बताया विभाग द्वारा कोई जमीनी स्तर की जांच या सत्यापन नहीं किया जाता है।सिर्फ टेलीफ़ोनिक वार्ता करके जवाब बंद कर दिया जाता है।जो सरकारी तंत्र के दुरुपयोग व ग़ैर ज़िम्मेदाराना रवैयेको प्रदर्शित करता है।श्री गुप्ता ने बताया सेतु निगम अयोध्या की पहली प्रतिक्रिया के अनुसार ओवरब्रिज के दोनों तरफ 3.75 मीटरकी सर्विस रोड बननी थी जो वास्तविकता में 2.5 मीटर से भी कम है।सर्विस रोड के दोनों तरफ बड़ा नाला है और पैदल चलने वालों के लिए फुटपाथ नहीं बना है।इससे सभी राहगीरों के लिए गंभीर दुर्घटना का खतरा बना हुआ है।फ्लाईओवर के प्रवेश/निकास पर तीव्र यूटर्न को प्रतिबंधित करते हुए कोई ट्रैफिक साइन बोर्ड नहीं लगाया गया है और ट्रैफिक नियमों का पालन करते हुए यू टर्न लेने के लिए कोई मीडियन या डिवाइडर नहीं रखा गया है।


विदित हो कि नवनिर्मित रेलवे फ़्लाई ओवर के दोनो छोर पर जहां यू-टर्न के लिए पर्याप्त जगह न होने से निरंतर हो रही दुर्घटनाओं से आहत होकर श्री गुप्ता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,रोड एवं परिवहन मंत्री नितिन जयराम गड़करी व सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख कर यथास्थिति से अवगत कराया था। जिसपर उन्हें आश्वासन मिला था कि इसकी जाँच कराकर उचित कार्यवाही की जाएगी। पर्याप्त जगह नहीं होने के कारण यू-टर्न लेते समय छात्रों,वरिष्ठ नागरिकों और अन्य यात्रियों को बहुत समस्या का सामना करना पड़ता है।उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माँग की है कि सेतु निगम अयोध्या द्वारा गलत सूचना देने की जाँच कराकर उचित कार्यवाही की जाए।