Covid-19,जनसंवाद को प्राथमिकता

अयोध्या, प्रत्येक व्यक्ति को सुरक्षित रखने के साथ सेवा के संकल्पों को उसमें मिश्रित करते हुए मण्डल व जिला प्रशासन ने कोविड-19 संक्रमण व लाकडाउन को लेकर जनता की अपेक्षाओं को पूर्ण किया। धार्मिक व सांस्कृतिक केन्द्र अयोध्या में विभिन्न पर्वो व रामजन्मभूमि भूमि पूजन के अवसर आम जनता के भीतर जागरुकता का भाव जागृत किया गया। जिसके परिणामस्वरुप लोगो ने कोविड-19 को लेकर जारी निर्देशों का यथवत पालन किया। मण्डल के सभी जिले में नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की गयी तथा मुख्यमंत्री कार्यालय से इसकी लगातार समीक्षा भी की जाती रही। बाढ़पीड़ितों को त्वरित स्तर पर राहत सामग्री पहुंचायी गयी।

जिलाधिकारी व जिला प्रशासन के नेतृत्व में लाकडाउन में जनता को घरों में रोकने के साथ उनकी सभी आवश्यकताओं की पूर्ति करना प्रशासन की प्राथमिकताओं में रहा। प्रवासी मजदूरों के टेस्ट की समुचित व्यवस्था के साथ उनके गंतव्य तक पहुंचाने की व्यवस्था की गयी। शासन की विभिन्न योजनाओं के तहत उन्हें उनके आवास पर ही रोजगार उपलब्ध कराया गया। चिकित्सीय सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा समय समय पर अस्पतालों का निरीक्षण किया गया। राजर्षि दशरथ मेडिकल कालेज को एल-2 श्रेणी तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मसौधा, कोविड केसर चिकित्सालय झुनझुनवाला कालेज, कोविड केयर चिकित्सालय कुमारगंज को एल-1 श्रेणी के रुप में विकसित किया गया। जिसमें मिल रही बेहतर चिकित्सीय सुविधाओं के परिणाम स्वरुप कोरोना के मरीजों के स्वास्थ्य में सुधार की गति काफी तीव्र रही।
कोरोना संक्रमण को रोकने हेतु जनसंवाद को प्राथमिकता दी गयी।

मोहल्ला व ग्राम स्तर पर गठित समितियों के माध्यम से इसको व्यापकता प्रदान की गयी। इनके द्वारा संक्रमित व्यक्ति व उसके कांट्रेक्ट में आये लोगो को चिन्हित करने साथ कोविड-19 को लेकर केन्द्र व प्रदेश सरकार, स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन द्वारा जारी गाईडलाईन का शत प्रतिशत अनुपालन किया गया। सभी सरकारी व गैर सरकारी कार्यालयों, व्यवसायिक काम्पलेक्स में कोविड हेल्प सेंटर की स्थापना की गयी। कोरोना आपदा के साथ आर्थिक गतिविधियों के संचालन के लिए व्यापारियों के साथ बैठक करके रोस्टर लागू किया गया। जिससे व्यापार व कोरोना संक्रमण से बचाव साथ साथ चल सके। उक्त जानकारी उप निदेशक सूचना अयोध्या मण्डल अयोध्या डॉ0 मुरलीधर सिंह ने दी।