COVID 19,विपक्ष ही नहीं सत्ता पक्ष के सांसद और विधायक भी उठा रहे हैं सवाल

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. कोरोना से निपटने और मरीजों को बेहतर इलाज देने के लिए भले ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-11 का गठन किया हो, लेकिन सूबे की सरकारी व्यवस्थाओं को लेकर लगातार सवाल खड़े हो रहे हैं. विपक्ष ही नहीं बल्कि सत्ता पक्ष के सांसद और विधायक भी सवाल उठा रहे हैं. बहराइच जिला अस्पतालों की खस्ता हालत को लेकर पूर्व मंत्री व बीजेपी विधायक अनुपमा जयसवाल ने जिलाधिकारी को पत्र लिखा है.

बीजेपी विधायक अनुपमा जयसवाल ने जिलाधिकारी से कहा है कि बहराइच के जिला अस्पताल और चित्तौरा आइसोलेशन वार्ड में भर्ती मरीजों के मास्क, सैनिटाइजर आदि व्यवस्थाओं पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है. साथ ही यह भी कहा है कि कोरोना मरीजों को मिलने वाला भोजन भी निम्न कोटि और घटिया स्तर का दिया जा रहा है, जो खाने योग्य नहीं है. बीजेपी विधायक ने कहा कि इस संबंध में सांसद ने भी मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर शिकायत की है. उन्होंने जिलाधिकारी से कहा कि इसकी जांच कराकर उचित कार्रवाई करें और मरीजों को स्वस्थ व गुणवत्तापूर्ण भोजन उपलब्ध कराएं.

बहराइच से बीजेपी सांसद अक्षयवरलाल गोंड ने भी जिला अस्पतालों में कोरोना मरीजों दिए जा रहे खाने पर अनियमितता को लेकर सवाल उठाए थे. इसके लिए उन्होंने बकायदा बहराइच सीएमओ पर सरकार की छवि धूमिल करने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था. सांसद ने कहा था कि कोरोना के इलाज के लिए भर्ती मरीजों को पौष्टिक आहार मिले, इसके लिए सरकार ने इंतजाम किए हैं. इसके बावजूद चित्तौरा ब्लॉक में बने एलवन हॉस्पिटल और जिला अस्पताल में बने आइसोलेशन वॉर्ड में भर्ती मरीजों को घटिया स्तर का भोजन दिया जा रहा है.सांसद ने सीएम को पत्र लिखकर कहा था कि भर्ती मरीजों को समुचित चिकित्सा नहीं मिल पा रही है. उनके खाने-पीने में अनियमितता बरती जा रही है.

लॉकडाउन कोरोना-डे 133 अनलॉक 2.0-डे 36Worldometers वेबसाइट के अनुसार पिछले 24 घंटे में दुनिया के कोरोना आँकड़े.

भारत में कुल मरीज़ों की संख्या 1855331 नये मरीज 50629 कुल मौतें 38971नयी मौतें 810.
अमेरिका में कुल मरीज़ों की संख्या 4862174 नये मरीज 48622 कुल मौतें 158929नयी मौतें 568.

सीएमओ के दुर्व्यवहार के कारण सरकार की छवि धूमिल हो रही है सांसद ने सीएम से मामले को संज्ञान में लेकर कार्रवाई की मांग की थी. सांसद ने कहा कि कई बार लोगों की शिकायतें आईं तो सीएमओ से बात की गई. इसके बावजूद भी कोरोना मरीजों को बेहतर सुविधा मुहैया नहीं हो पा रही है.

एक अगस्त से पूरे देश में केंद्रीय गृहमंत्रालय द्वारा जारी अनलॉक 3 के नियम लागू कर दिए गए हैं. राज्य सरकारें अब अपनी सहूलियत और प्रदेश मे कोरोना के मामलों के आधार पर लॉकडाउन में छूट दे रही हैं. इस बीच उत्तर प्रदेश में अनलॉक की प्रक्रिया धीरे धीरे शुरू कर दी गई है. इस बीच उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर में सरकार ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए धारा 144 लागू कर दी है. धारा 144 लागू होने के बाद अब यहां अनलॉक3 के नियम नहीं माने जाएंगे. बंद के दौरान किसी को भी बिना फेस मास्क के बाहर निकलने की इजाजत नहीं होगी और सड़क पर थूकने पर भी कार्रवाई हो सकती है.कोरोना संक्रमण के लगातार फैलने की वजह से प्रशासन ने आपराधिक प्रक्रिया संहिता धारा 144 लागू की है ताकि एक स्थान पर भीड़ न लगे और न ही एक साथ चार लोग घूम सकें. नोएडा और ग्रेटर नोएडा में 31 अगस्त तक धारा 144 लागू रहेगी. नियमों का उल्लंघन करने पर पुलिस मुकदमा दर्ज करेगी और उचित कार्रवाई भी होगी. 

यूपी में फिलहाल साप्ताहिक लॉकडाउन चल रहा है. 5 दिनों तक दुकानों के खुलने व बंद होने को लेकर सीमाएं तय की गई हैं. वहीं शनिवार और रविवार के दौरान पूरे यूपी में पूर्ण लॉकडाउन लगाई जा रही है. नोएडा में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण धारा 144 लागू कर दी गई है. अब इसके तहत नियमों में कई बदलाव किए गए हैं. स्थानीय प्रशासन द्वारा जारी नियमों का पालन करना अनिवार्य है. नियमों के उल्लंघन पर आपके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है. ऐसे में सड़क पर निकलने से पहले फेस मास्क को भी अनिवार्य कर दिया गया है. साथ ही सड़क पर थूकने पर आपके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.