Covid-19,स्वास्थ्य मंत्रालय की चेतावनी- सैनिटाइज़र का ज्यादा इस्तेमाल घातक

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए हैंड सैनिटाइजर को काफी उपयोगी माना जाता है. सैनिटाइजर पिछले छह महीनों से हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है. हम कहीं भी बाहर जाते हैं तो अपने साथ छोटा सैनिटाइजर लेकर जाते हैं. लेकिन ये खबर आपको हैरान कर देने वाली है.

सैनिटाइटर को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक चेतावनी जारी की है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों को सलाह दी है कि हैंड सैनिटाइजर का वह अधिक उपयोग न करें. मंत्रालय का कहना है कि इसका बहुत अधिक उपयोग हानिकारक हो सकता है. स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त महानिदेशक डॉ. आरके वर्मा ने कहा है कि हाथों धोते रहें लेकिन सैनिटाइज़र का दुरुपयोग न करें.

उन्होंंने कहा कि ये मुश्किल समय है. किसी ने भी नहीं सोचा था कि कोरोना वायरस का प्रकोप ऐसा होगा. अपने आप को बचाए और मास्क का प्रयोग करें. उन्होंने कहा कि बार-बार गर्म पानी पिएं. इससे पहले भी स्वास्थ्य विशेषज्ञ सैनिटाइजर को लेकर चेतावनी जारी कर चुके हैं.

अपनी चेतावनी में स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा था कि सैनिटाइज़र का अधिक इस्तेमाल त्वचा को स्वस्थ रखने वाले अच्छे बैक्टीरिया को मार सकता है. इसलिए जब साबुन और पानी उपलब्ध हो तो सैनिटाइज़र की जगह पर साबुन तथा पानी का इस्तेमाल ज्यादा करना चाहिए. देश में कोरोना वायरस के प्रकोप से 13 लाख 85 हजार 494 लोग संक्रमित हो चुके हैं. अब तक 32 हजार 96 लोगों की कोरोना वायरस की चपेट में आकर मौत हो चुकी है. भारत में अब तक 8 लाख 86 हजार 235 लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं. लेकिन चार लाख 67 हजार 163 लोग अभी भी कोरोना का दंश झेल रहे हैं. पिछले 24 घंटों के दौरान यहां 48,472 नए मामले सामने आए हैं और 690 लोगों की मौत हुई है.

हाथों को साफ करने के लिए आजकल साबुन से अधिक हैंड सैनिटाइजर का प्रयोग किया जा रहा है, लेकिन क्या आप जानते हैं यह त्वचा के लिए बहुत नुकसानदेह है, यह किस तरह नुकसान पहुंचाता है, आइए हम आपको बताते हैं.

क्या आप बाहर निकलने के बाद कुछ भी छूने, किसी चीज को पकड़ने के बाद बार-बार अपने हाथों में सैनिटाइजर लगाती हैं, तो सतर्क हो जाइए. यह आदत आपको नुकसान पहुंचा सकती है, यह सही है कि हैंड सैनिटाइजर हाथों को साफ करने का सुविधाजनक तरीका है, लेकिन इस बात का ख्याल रखना भी जरूरी है कि इसका समझदारी से उपयोग किया जाए. ट्राइक्लोसन- सैनिटाइजर में ट्राइक्लोसन नामक एक केमिकल होता है, जिसे हाथ की त्वचा तुरंत सोख लेती है, अगर यह रक्त संचार में शामिल हो जाए, तो यह मांसपेशियों के समन्वय के लिए जरूरी सैल कम्युनिकेशन को बाधित करता है. इसका लंबे समय तक ज्यादा इस्तेमाल त्वचा को सूखा बनाने, बांझपन और हृदय के रोग को न्योता दे सकता है. इसलिए अगर आपको हाथ धोने की जरूरत महसूस हो रही है, तो इंतजार कीजिए और मौका मिलते ही साबुन और पानी से ही अपने हाथों को धोइए.