Covid-19 के खौफ में राजधानी लखनऊ

लखनऊ में कोरोना वायरस के आए दिन नए रिकार्ड बन रहे हैं। प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक को सांस लेने में तकलीफ होने पर  संजय गांधी में भर्ती कराया गया है। वहीं, पत्नी नम्रता पाठक के कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आने के बाद कानून मंत्री भी संक्रमित हैं। ब्रजेश पाठक अभी तक होम आइसोलेशन में थे। वहीं रविवार सुबह कोरोना के 684 नए मामले आए हैं। उधर, बहराइच में डीएम समेत 12 कोरोना पॉजिटिव मिले, जबकि दो की मौत हो गई।

उत्तर प्रदेश में राजधानी लखनऊ और कानपुर Covid-19के नए हॉटस्पॉट के तौर पर उभरे हैं। लखनऊ में तो हालात बेकाबू हो चुके हैं और जिले में इस वक्त 6300 से ज्यादा ऐक्टिव मरीज हैं। वहीं कानपुर में प्रदेश में कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। इसको देखते हुए प्रदेश सरकार ने दोनों जिलों में विशेष सचिव स्तर के दो-दो अधिकारी और तैनात करने का फैसला लिया है।कोरोना के प्रसार पर नियंत्रण के लिए अब निजी अस्पतालों की भी मॉनिटरिंग होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अपने आवास पर समीक्षा बैठक में इसके निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए सभी प्रयास जारी रखे जाएं।

बांदा, भदोही, बिजनौर, बदायूं, एटा, फर्रुखाबाद, गोंडा, जालौन, जौनपुर, रायबरेली, संभल, शामली, श्रावस्ती, महाराजगंज, महोबा, मैनपुरी, प्रतापगढ़, बागपत व हरदोई के डीएम से कहा गया है कि कमांड सेंटर में नोडल अधिकारी गायब रहे। जिन्होंने फोन उठाया वह कुछ बताने में असमर्थ रहे। मुख्यमंत्री ने इस पर अप्रसन्नता जाहिर की है। इस संबंध में नोडल अधिकारी से स्पष्टीकरण लेकर अपनी संस्तुति व कार्रवाई का प्रस्ताव तीन दिन में भेंजे।

लखनऊ में कोरोना का प्रकोप कायम है। सोमवार को कलेक्ट्रेट ऑफिस के कर्मचारियों को कोरोना हो गया जिसके बाद ऑफिस दो दिन के लिए बंद कर दिया। सैनिटाइजेशन के बाद ऑफिस बंद कर दिया गया। अस्पतालों में छह मरीजों की मौत हो गई। वहीं 147 नए मरीजों में वायरस मिला है। शहर के कई इलाके संक्रमण की जद में हैं। केजीएमयू में भर्ती इंदिरानगर निवासी 79 वर्षीय पुरुष की रव‍िवार को मौत हो गई। छह अगस्त को बुजुर्ग को भर्ती कराया गया था। उन्हें ब्लड प्रेशर व डायबिटीज की भी समस्या थी। इसके अलावा 23 जुलाई को गोमतीनगर के विभूति खंड निवासी 54 वर्षीय पुरुष को भर्ती कराया गया। उनमें गुर्दे की गंभीर बीमारी भी थी। डायलिसिस की गईं। मगर स्‍थि‍त‍ि बि‍गड़ती गई। डॉक्टरों के काफी प्रयास के बावजूद बचाया नहीं जा सका।

गोसाईंगंज की 41 वर्षीय महिला को छह जुलाई को भर्ती कराया गया। इलाज के दरम्यान आइसीयू में मौत हो गई। इसके अलावा वि‍भि‍न्न अस्पतालों में दो और शहर के मरीजों की कोरोना से मौत हो गई। एक औरैया नि‍वासी 48 वर्षीय महिला की कोरोना वार्ड में मृत्यु हो गई। मरीज को 17 जुलाई को भर्ती किया गया था। उसमें ब्रेन टीबी की भी समस्या थी। कुल छह मौतों में पांच शहर के मरीज रहे। वहीं रविवार को 684 मरीजों में कोराना मि‍ला। जुलाई के पहले सप्ताह से अगस्त के सात दि‍नों में पांच गुना मामले बढ़ गए हैं। अगस्त में वायरस का प्रसार और तेज हो गया है।