सत्ता परितर्वन का आगाज है जनसैलाब

43
सत्ता परितर्वन का आगाज है जनसैलाब
सत्ता परितर्वन का आगाज है जनसैलाब

पहले ही चार चरणों में लोकसभा चुनाव के मतदान में प्रदेश के मतदाताओं ने समाजवादी पार्टी इंडिया गठबंधन को भारी बहुमत देकर भाजपा को चारो खाने चित कर दिया है। पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र चौधरी ने कहा है कि आज 20 मई 2024 पांचवें चरण के मतदान में मतदाताओं ने समाजवादी पार्टी इंडिया गठबंधन को भारी बहुमत देकर भाजपा का पूरी तरह से सफाया कर दिया है। पांचवे चरण के चुनाव में आज मोहनलालगंज, लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, जालौन, झांसी, हमीरपुर, बांदा फतेहपुर, कौशाम्बी, बाराबंकी, फैजाबाद, गोण्डा एवं कैसरगंज लोकसभा क्षेत्रों में मतदाताओं ने भाजपा को पूरी तरह से नकार दिया है। सत्ता परितर्वन का आगाज है जनसैलाब

भाजपा की सरकार में पूरे प्रदेश में समाज का हर वर्ग आज अपने को अपमानित और उत्पीड़ित महसूस कर रहा हैै। किसान, नौजवान अपने को ठगा महसूस कर रहा है। उनकी जिंदगी में अंधेरा है। भर्ती परीक्षा के पेपर लीक से नौकरी मिलने की उम्मीदों पर पानी फिर गया है। नौजवान हताश-निराश है। व्यापारी नोटबंदी-जीएसटी के शिकार है। शासन-प्रशासन की अकर्मण्यता से लोगों में बहुत आक्रोश है।अखिलेश यादव और राहुल गांधी की जनसभाओं में जनसैलाब उमड़ रहा है। यह जनसैलाब सत्ता परितर्वन का आगाज है। देश और प्रदेश का मतदाता एकजुट होकर समाजवादी पार्टी इंडिया गठबंधन के प्रत्याशियों को भारी मतों से जिताने के लिए स्वतः स्फूर्त तरीके से विभिन्न जनसभाओं में आ रहा है। मतदाताओं के जनसैलाब को देखकर भाजपा डरी हुई है। वह प्रशासन के सहारे जनता में भय व्याप्त कर रही है। भाजपा संविधान और लोकतंत्र को कुचल रही है।

यह अजीब विडम्बना है कि मतदान के हर चरण में ईवीएम भारी संख्या में खराब हो रही है। ईवीएम खराब होने से मतदान का प्रतिशत कम हो रहा है। भाजपा के इशारे पर भाजपाई दबंग और और पुलिस प्रशासन मतदाताओं को भयभीत कर चुनाव प्रभावित करने से बाज नहीं आ रहा है। समाजवादी पार्टी इंडिया गठबंधन के पक्ष में मतदाता भाजपाई उत्पीड़न और पुलिस प्रशासन के दबाव के बावजूद भी जमकर मतदान कर रहे है। ईवीएम की खराबी और भाजपाई दबंगों की दबंगई से निष्पक्ष चुनाव प्रक्रिया पर दाग लग रहा है। चुनाव आयोग को इस पर अपेक्षित ध्यान और कार्यवाही करनी चाहिए ताकि चुनाव की पवित्रता और निष्पक्षता बनी रहे।

मोहनलालगंज (सु0) लोकसभा क्षेत्र में कमलापुर कोतवाली के एसएचओ ने तो हद कर दी। भाजपा के इशारे पर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं शिव मोहन, प्रधान संतराम, मेवालाल यादव प्रधान और शीतला प्रसाद सविता बीडीसी को जबरन उठा ले गए। जिसमें शीतला प्रसाद की पुलिस प्रताड़ना से मौत हो गयी है। यह एक गंभीर प्रकरण है। विभिन्न मतदान केन्द्रों पर भाजपा विधायकों ने भी मतदान को प्रभावित करने का दुष्कर्म किया। आतंक और सत्ता के दुरूपयोग की तमाम शिकायतें की गई है। मतदाता सूची में गड़बड़ी की शिकायतें पहले की तरह बनी रही। फैजाबाद कोतवाली के रामसनेही घाट के प्रभारी निरीक्षक सहित सभी पुलिस कर्मियों के नाम जनवरी 2024 में प्रकाशित मतदाता में भी नहीं थे।

समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी श्रेया वर्मा के अनुसार गोण्डा लोकसभा क्षेत्र के उतरौला और मनकापुर विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा के पक्ष में जबरन मतदान और फर्जी वोट डलवाते पकड़े गये। लखनऊ नगर निगम में वर्षों तक समाजवादी पार्टी पार्षद दल के नेता रहे सैय्यद यावर हुसेन रेशू का नाम मतदाता सूची से गायब हो गया। कई परिवारों में एक का नाम है तो दूसरे का गायब हो गया। आशंका है कि यह सब साजिश के तहत सांठगांठ कर चुनाव को प्रभावित करने के लिए किया गया है। लोकतंत्र में कोई भी जनभावनाओं का तिरस्कार नहीं कर सकता है। भाजपा ने अपने पूरे कार्यकाल में नफरत फैलाने के सिवाय और कोई काम नहीं किया। जनता के हर वर्ग में आक्रोश है। यह आक्रोश ही भाजपा की सत्ता से बेदखली की गारन्टी है। सत्ता परितर्वन का आगाज है जनसैलाब सत्ता परितर्वन का आगाज है जनसैलाब