जिलाधिकारी ने विभागों को उनके कार्य एवं दायित्व के दिए दिशा निर्देश

अयोध्या। जिलाधिकारी की अध्यक्षता में अन्तर्विभागीय समन्वय समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित की गयी है। जिलाधिकारी ने बैठक समीक्षा करते हुए कहा कि कोविड टीकाकरण के लक्ष्य को शत प्रतिशत पूर्ण किया जाए, जिन व्यक्तियों द्वारा प्रथम डोज की अवधि पूर्ण कर ली गई हो उनको द्वितीय डोज को अभियान चलाकर अच्छादित करें। इसके साथ ही जनपद में चल रहे किशोर-किशोरियों के टीकाकरण अभियान में तेजी लाने और आशा के मानदेय भुगतान में सुधार लाने के निर्देश दिए। जनपद स्तरीय अन्तर्विभागीय बैठक में जिलाधिकारी द्वारा विभिन्न विभागों को उनके कार्य एवं दायित्व के बारे आवश्यक में दिशा निर्देश दिए गये। उन्होंने कहा कि शासन की मंशा के अनुरूप विशेष संचारी रोग तथा दिमागी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण तथा इनका उपचार सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है। संचारी रोगों की रोकथाम हेतु 1 जुलाई  से 31 जुलाई तक  एवं दस्तक अभियान 16 जुलाई से 31 जुलाई तक संचालित किया जाएगा, संचारी रोगों तथा दिमागी बुखार पर सफलतापूर्वक नियंत्रण पाने के लिए इस विषय पर एक संपूर्ण सोच के साथ संबंधित विभागों के मध्य उचित समन्वय का होना आवश्यक है संचारी रोगों तथा दिमागी बुखार के केसों की निगरानी, लक्षण युक्त व्यक्तियों की कोविड-19 जांच करवाना, क्षय रोगों के लक्षण युक्त व्यक्तियों की जांच एवं उपचार की व्यवस्था, रोगियों के निःशुल्क परिवहन हेतु रोगी वाहन की व्यवस्था, प्रचार-प्रसार लार्वारोधी गतिविधियों, मॉनिटरिंग,पर्यवेक्षण,रिपोर्टिंग,अभिलेखीकरण तथा विश्लेषण का कार्य देखेगा। उन्होंने बताया कि नगर विकास विभाग द्वारा नगरीय निकायों के चुने हुए जनप्रतिनिधियों का संचारी रोगों की रोकथाम तथा साफ-सफाई के संबंध में स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से संवेदीकरण, नगरीय क्षेत्र में मोहल्ला निगरानी समितियों के माध्यम से कोविड-19 तथा संचारी रोगों के विषय में निरंतर जागरूकता बनाए रखना तथा कोविड-19 रोग लक्षण युक्त व्यक्तियों को मेडिसिन उपलब्ध कराने में सहयोग करना, शहरी क्षेत्रों में फागिंग करवाना, पंचायती राज विभागध्ग्राम विकास विभाग द्वारा जनसंपर्क तथा जनजागरण, शुद्ध पेयजल की व्यवस्था, वेक्टर कंट्रोल, वातावरणीय स्वच्छता का कार्य देखेगा।

उन्होंने बताया कि पशुपालन विभाग सुअर पालकों को अन्य व्यवसाय जैसे पोल्ट्री उद्योग को अपनाने हेतु जागरूक एवं प्रेरित करना, सूकर पालन स्थल पर वेक्टर नियन्त्रण एवं सीरो सर्विलेंस की व्यवस्था करना, यथासंभव सूकर बाड़े मनुष्य आबादी से दूर स्थापित करवाना, सूकर पलकों को सूकर बाड़े की साफ-सफाई, कीटनाशक छिड़काव एवं मच्छर रोधी जाली से ढकने हेतु प्रशिक्षित किया जाना, सभी प्रकार के पशु बाड़े की स्वच्छता, कचरा निस्तारण तथा मच्छर रोधी जालों का प्रयोग हेतु पशुपालकों को गहन संवेदीकरण का कार्य देखेगा। बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग द्वारा आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को संचारी रोगों तथा दिमागी बुखार हेतु प्रशिक्षण प्रदान कर संवेदीकरण किया जाना, कुपोषित बच्चों चिन्हींकरण एवं पोषाहार वितरण, कुपोषित बच्चों की सूची बनाकर पुनर्वास केंद्रों पर भेजना, विकलांग बच्चों के प्रशिक्षण एवं अन्य सुविधाओं की व्यवस्था के लिए विकलांग कल्याण विभाग से समन्वय स्थापित कर सहयोग प्राप्त करना का कार्य सौंपा गया।

शिक्षा विभाग द्वारा अभिभावकों-शिक्षकों का व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर कोविड-19, दिमागी बुखार एवं अन्य संचारी रोगों से बचाव, रोकथाम एवं उपचार हेतु संवेदीकरण किया जाए, विशेषकर सुरक्षित पीने का पानी, शौचालय का प्रयोग, खुले में शौच के नुकसान पर जोर दें, हर बुखार खतरनाक हो सकता है, दिमागी बुखार के कारण क्या है, बुखार होने पर (क्या करें क्या ना करें) कि विषयक में जागरूक करें, संचारी रोग नियंत्रण अभियान माह जुलाई 2022 को सफल बनाने में पूर्ण सहयोग की अपेक्षा है।जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि अभियान के दौरान माइक्रो प्लान के अनुसार ही तिथिवार एवं क्षेत्रवार गतिविधियां की जायेंगी,  इसमें किसी प्रकार का अन्तर नहीं होना चाहिए एवं समस्त अपर मुख्य चिकित्साधिकारी एवं विभिन्न विभागों के नोडल अधिकारी अपने अपने में क्षेत्रों में अधिक से अधिक भ्रमण एवं सघन निरीक्षण करेंगे। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्रीमती अनीता यादव, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ अजय राजा, मुख्य चिकित्सा अधीक्षकगण, नगर स्वास्थ्य अधिकारी, जिला मलेरिया अधिकारी एवं अन्य सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण व प्रतिनिधि उपस्थित रहे।