अयोध्या विजन डॉक्यूमेंट से संतुष्ट नहीं मंडलायुक्त

अयोध्या। मंडलायुक्त नवदीप रिणवा की अध्यक्षता में आज अयोध्या विजन डॉक्यूमेंट 2047 की साप्ताहिक समीक्षा बैठक आयुक्त सभागार में आहूत की गई। आयुक्त ने कहां कि बैठक का मुख्य उद्देश्य अयोध्या के श्रीराम मंदिर निर्माण के आसपास के विकास कार्यो की अद्यतन प्रगति की समीक्षा कर विभागों के अन्तर समन्वय बनाना एवं गतिरोधो को दूर कर निर्माण कार्यो में तेजी लाना है। मंडलायुक्त ने बैठक की समीक्षा करते हुए पाया कि लोक निर्माण विभाग की कार्यप्रणाली योजनाओं के प्रति ठीक नहीं है, जिस पर उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को शीघ्र कार्यवाही करते हुए कार्यों में तेजी लाने एवं सुधार करने के निर्देश दिए और कहा कि अगली बैठक में पूर्ण तैयारी के साथ प्रतिभाग करना सुनिश्चित करें।

मंडलायुक्त ने सभी कार्यदायी संस्थाओं व संबंधित विभागों को निर्देश दिए कि निर्माण कार्यों की अद्यतन स्थिति अयोध्या विजन 2047 के डैशबोर्ड पर प्रत्येक सप्ताह के सोमवार तक अनिवार्य रूप से अपडेट करें। जिलाधिकारी नितीश कुमार ने कहा की अगामी बैठकों में सभी विभागीय अधिकारी पूर्ण/अद्यतन प्रगति रिपोर्ट का अध्ययन करके बैठक में स्वयं प्रतिभाग करें, अपने सहायको को न भेजे और यदि किसी अधिकारी को अकास्मिक कारणों से बैठक में अनुपस्थित रहते है तो उसकी जानकारी जिलाधिकारी कार्यालय को उपलब्ध करायें। बिना अुनमति के अनुपस्थित रहने पर दण्डात्मक कार्यवाही की जायेंगी।

जिलाधिकारी नितीश कुमार ने बताया कि क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय परिसर, अयोध्या में आज एक दिवसीय रोजगार मेले का आयोजन किया किया गया, जिसमें 65 बेरोजगार अभ्यर्थियों ने प्रतिभाग किया, उनमें से 40 युवाओं को विभिन्न कम्पनियों के एच0आर0 के माध्यम से रोजगार प्राप्त हुआ। रोजगार मेले को सफल बनाने हेतु सहायक निदेशक, सेवायोजन ने रोजगार मेले में आये बेरोजगार युवाओं का उत्साह वर्द्धन किया। इसी के साथ ही क्षेत्रीय सेवायोजन कार्यालय में एक कैरियर कंाउन्सिलिंग कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया, जिसमें 26 युवाओं ने प्रतिभाग किया। जिला रोजगार सहायता अधिकारी ने कंाउन्सिलिंग में आये युवाओं को साक्षात्कार में सफल होने के गुण बताये। यह जानकारी सहायक निदेशक सेवायोजन ने दी है।


मंडलायुक्त ने अयोध्या विजन 2047 की समीक्षा करते हुए कार्यदायी संस्था एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के प्रगति कार्यों का जायजा लिया गया, जिसमें टर्मिनल बिल्डिंग, रन-वे, बाउंड्री वॉल आदि कार्यों की जानकारी की गई। उन्होंने कहा कि फिजिकल इंफ्रास्ट्रक्चर का कार्य माह दिसंबर 2022 के अंत तक पूर्ण कर लिया जाए व ड्रेनेज निर्माण कि जो समस्या आ रही है उसको शीघ्र निस्तारित करें तथा डोमेस्टिक फ्लाइट ऑपरेशन के लिए कितने विद्युत लोड की आवश्यकता है उसकी रिपोर्ट तैयार कर विद्युत विभाग को प्रस्तुत करें, जिससे मूल्यांकन की कार्यवाही कर शासन को भेजी जा सके।  मंडलायुक्त ने कार्यदायी संस्था सेतु निगम के कार्यों की समीक्षा करते हुए जनपद में एन0एच0 27 बाईपास से निकलकर महोबरा बाजार होते हुए बाजार/श्रीराम जन्मभूमि तक सम्पार संख्या 111 बी पर चार लेन रेल उपरिगामी सेतु का निर्माण, पंचकोसी परिक्रमा मार्ग पर बड़ी बुआ क्रॉसिंग संख्या 112 पर व चैदहकोसी परिक्रमा मार्ग पर सूर्यकुंड स्थित रेलवे क्रॉसिंग संख्या 105 पर दो लेन रेलवे उपरिगामी सेतु, आदि कार्यों की जानकारी की गई।

उन्होंने कहा कि लोक निर्माण विभाग द्वारा नजूल की जमीनों से अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही अगली बैठक से पेहले पूर्ण कर ली जाए तथा रेलवे सम्पार संख्या 107ए के पास पेड़ काटने की कार्यवाही वन विभाग द्वारा प्राथमिकता पर करा दी जाए एवं रेल सम्पार संख्या 121 बी मोदहा में आ रही समस्या के लिए रेलवे, सेतु निगम व राजस्व की संयुक्त टीम का गठन कर जॉइंट फिजिबिलिटी टेस्ट कराकर कार्यवाही आगे बढ़ाने के लिए अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व से कहा। उन्होंने उक्त के अतिरिक्त राजर्षि दशरथ राजकीय मेडिकल कालेज, भारत सरकार की स्वदेश दर्शन योजना के अन्तर्गत रामायण सर्किट अयोध्या का निर्माण कार्य, रामकथा गैलरी में पार्किंग, स्थल, ओपेन इयर थियेटर, फुट ओवरब्रिज, बेस्ट मैनेजमेंट, स्टोन बेंच, सोलर लाइट, फसाड इलुमिनेशन, साइनेज का कार्य आदि कार्यो की संक्षिप्त समीक्षा की। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्रीमती अनीता यादव, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व श्री महेन्द्र कुमार सिंह, अन्य अपर जिलाधिकारीगण आदि विभागों के अधिकारी के साथ-साथ, विकास प्राधिकरण, नगर निगम, राजस्व, लोक निर्माण, सिंचाई, पर्यटन, विद्युत, रेलवे, निर्माण निगम, स्वास्थ्य, शिक्षा आदि विभागों के अधिकारियों व प्रतिनिधियों ने प्रतिभाग किया।