11 अगस्त से 17 अगस्त तक ‘स्वतन्त्रता सप्ताह‘-मण्डलायुक्त

अयोध्या। मण्डलायुक्त नवदीप रिणवा ने बताया कि आगामी 11 अगस्त से 17 अगस्त तक ‘स्वतन्त्रता सप्ताह‘ के दौरान हर दिन अलग-अलग कार्यक्रम तैयार किए जाएं। पहले दिन स्कूलों में झण्डा गीतों का गायन हो। तिरंगा के सफर पर आधारित प्रदर्शनियों, पेन्टिंग व निबन्ध लेखन प्रतियोगिताएं आयोजित हों। दूसरे दिन हर गांव में पौधारोपण व नुक्कड़ नाटक कराए जाएं। एक दिन परिषदीय विद्यालयों में नन्हे-मुन्ने बच्चों की प्रभात फेरियां आयोजित हों तथा राष्ट्रभक्ति के गीत, कविताओं की प्रतियोगिताएं कराई जाएं। उनके बीच   सांस्कृतिक कार्यक्रम हो, स्वतन्त्रता दिवस के दिन हर बच्चे के हाथ में राष्ट्रध्वज अवश्य हो। स्वतन्त्रता सप्ताह की अवधि में हर सरकारी कार्यालय और शहीद स्मारक पर तिरंगे की आकर्षक लाइटिंग हों। इसी प्रकार प्रत्येक दिन के कार्यक्रम निर्धारित किए जाएं। ग्राम सचिवालयों का शहीदों व स्वतन्त्रता संग्राम सेनानियों के नाम पर नामकरण किया जाए। स्वतन्त्रता सप्ताह की अवधि में हर शहीद स्मारक पर प्रत्येक दिन कम से कम आधा घण्टा पुलिस बैण्ड द्वारा राष्ट्रभक्ति गीतों का वादन हो।

स्वतन्त्रता दिवस के दिन शहीदों/स्वतन्त्रता सेनानियों के परिजनों को सम्मानित किया जाए। देश की स्वाधीनता के 75 वर्ष पूर्ण होने पर प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में विगत वर्ष 12 मार्च, 2021 को अमृत महोत्सव का शुभारम्भ हुआ। हर घर तिरंगा राष्ट्रीय गौरव का आयोजन है। सभी नागरिक इससे जुड़कर अपने फहराए तिरंगे के साथ सेल्फी लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट करें। ‘हर घर तिरंगा‘ महायोजन से आमजन को जोड़ने के लिए व्यापक जागरूकता अभियान चलाया जाए। युवक मंगल दलों सहित स्वयंसेवा समूहों के माध्यम से तिरंगा स्वयंसेवक बनाए जाएंरू प्रत्येक तिरंगा स्वयंसेवक कम से कम 05 घरों को तिरंगा फहराने के लिए प्रेरित करें। इस आयोजन के प्रचार-प्रसार के लिए एनसीसी व एनएसएस तथा अन्य स्वयंसेवी संगठनों द्वारा तिरंगा यात्राएं निकाली जाएं। प्रत्येक विकास खण्ड में 75-75 पीआरडी जवान अपने गणवेश में तिरंगा लिए साइकिल रैली निकाले।

स्वतन्त्रता दिवस से एक दिन पूर्व युवक मंगल दलों द्वारा मैराथन का आयोजन हो। लोगों को झण्डे आसानी से उपलब्ध कराने के लिए राशन की दुकानों, ग्राम पंचायत भवनों, जनसेवा केंद्रों, तहसील, ब्लॉक मुख्यालयों, प्राथमिक विद्यालयों, आंगनबाड़ी केन्द्रों और पेट्रोल पम्प, एलपीजी सैन्टरों, जिलों के विकास भवन, नगर निगम, नगर पालिका, अर्बन लोकल बॉडी, इडा. विकास प्राधिकरण, सिविल डिफेन्स, रेजिडेन्ट वेलफेयर सोसाइटी, निगम पार्षद, बीट कॉन्स्टेबल, शिक्षामित्र के माध्यम से भी घरों में झण्डा का वितरण कराया जाए। जागरुकता प्रसार के लिए परिवहन विभाग द्वारा प्रत्येक बस स्टैण्ड पर झण्डा फहराने की उद्घोषणा की जाए। प्रिन्ट इलैक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया, आकाशवाणी, दूरदर्शन के माध्यम से, स्वास्थ्य केन्द्रों, स्कूलों, उचित दर की दुकानों, पुलिस थानों, कम्युनिटी रेडियो आदि के माध्यम से लोगों को कार्यक्रम की जानकारी दी जाए यह सुनिश्चित किया जाए कि राष्ट्रध्वज संशोधित झण्डा संहिता 2021 के अनुसार ही तैयार हों। हमारा राष्ट्रध्वज हमारी ‘अस्मिता‘ तथा आन बान शान का प्रतीक है। राष्ट्रध्वज संहिता के अनुरूप ध्वजारोहण में नियमों का कड़ाई से अनुपालन किया जाए। सरकारी कार्यालयों पर यथासंभव खादी निर्मित राष्ट्रध्वज ही फहराए जाने चाहिए। वरिष्ठ साहित्यकारों, लेखकों, गीतकारों को आजादी की लड़ाई. तिरंगा की यात्रा के बारे में लेख लिखने के लिए प्रोत्साहित किया जाए।