मेरी बिगड़ी बनाने वाले गोरखनाथ-योगी

296
मेरी बिगड़ी बनाने वाले गोरखनाथ-योगी
मेरी बिगड़ी बनाने वाले गोरखनाथ-योगी

मेरी बिगड़ी बनाने वाला गोरखनाथ ही तो है। गोरखनाथ मंदिर में कन्हैया मित्तल के भजनों पर झूम उठे श्रद्धालु। नौ देव विग्रहों की प्राण प्रतिष्ठा के उपलक्ष्य में भजन संध्या का आयोजन। मेरी बिगड़ी बनाने वाले गोरखनाथ-योगी

गोरखपुर। ‘मेरी विनती सुनने वाला, मेरी बिगड़ी बनाने वाला, गोरखनाथ है, गोरखनाथ है, गोरखनाथ ही तो है।’ सुर-लय-ताल की त्रिवेणी में जब ये शब्द मशहूर भजन गायक कन्हैया मित्तल के स्वरों में गोते लगाने लगे तो गोरखनाथ मंदिर के महंत दिग्विजयनाथ स्मृति भवन में जय श्रीराम और बाबा गोरखनाथ की जयघोष के बीच श्रद्धा का ज्वार देखने लायक था।अवसर था गोरखनाथ मंदिर में नौ देव विग्रहों की प्राण प्रतिष्ठा के उपलक्ष्य में रविवार शाम आयोजित भजन संध्या का। इसमें बड़ी संख्या में उमड़े श्रद्धालु सुपरिचित भजन गायक कन्हैया मित्तल की सुर लहरियों पर झूमते रहे। अपनी ख्याति के अनुरूप कन्हैया मित्तल ने हृदय को स्पंदित कर देने वाली एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां दीं।

मुख्यमंत्री एवं गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ भी भजन संध्या में सम्मिलित हुए। महंत दिग्विजयनाथ स्मृति भवन में आयोजित भजन संध्या का शुभारंभ गोरखनाथ मंदिर के प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ एवं भजन गायक कन्हैया मित्तल ने ब्रह्मलीन महंतद्वय दिग्विजयनाथ जी एवं अवेद्यनाथ जी के चित्र पर पुष्पांजलि कर किया। इसके बाद सुरों के तराने से कन्हैया मित्तल ने देवी-देवताओं का आवाहन करते हुए श्रद्धालुओं को झुमाना शुरू किया। उन्होंने ‘खाटू वाले श्याम जी कमाल हो गया’ से खाटू श्याम बाबा का गुणगान किया तो ‘मैं तो पत्थर उठाय नहीं पाई, मैं रेता ले आई’ से रामायण काल में गिलहरी की रामभक्ति का स्मरण कराया। ‘श्याम तेरे भक्तों को तेरा ही सहारा है’ और ‘हारा हूं बाबा पर तुझपे भरोसा है, जीतूंगा एक दिन मेरा दिल ये कहता है’ के बोल ऐसे फूटे की श्रद्धालु नृत्य की मुद्रा में आ गए।

भजन संध्या के बीच जैसे ही सभागार में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचे, कन्हैया की तान ‘मंदिर अब बनने लगा है, भगवा रंग चढ़ने लगा है’ ने भक्ति के माहौल में रोमांच का रंग भर दिया। रोमांच का यह रंग ‘हर हर शंभू, शिव महादेवा शंभू’, ‘रामजी की सेना चली’ और ‘श्रीराम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में’ के साथ और चटक हो गया। जोश और भक्ति के मिलन में इसके बाद कन्हैया ने ‘सोई किस्मत जाग रही है भारत, सत्य सनातन की, जहां हमारे शिव निकले हम मंदिर वहीं बनाएंगे’ का गायन कर सनातनी एकता का संदेश दिया। और फिर बारी थी विश्वभर में धूम मचा चुके गाने की।

कन्हैया ने पहले ‘पीएम चाय वाला है, सीएम गाय वाला है’ की पंक्तियों से लोगों का मन टटोला फिर ‘जो राम को लाए हैं हम उनको लाएंगे, यूपी में फिर से हम भगवा लहराएंगे’ के तान को बुलंद किया। यह गाना शुरू ही हुआ कि सभी अपनी कुर्सियों से खड़े होकर ताली बजाकर झूमने लगे। कार्यक्रम के समापन बेला पर कन्हैया मित्तल ने सुरमयी अंदाज में कहा कि जैसे तिरंगा भारत की शान है, वैसे ही योगी बाबा हिंदुओं की जान हैं। भजन संध्या के समापन पर मुख्यमंत्री एवं गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने कन्हैया मित्तल व उनकी संगीत टीम के सदस्यों को सम्मानित किया। मेरी बिगड़ी बनाने वाले गोरखनाथ-योगी