नगर निगम की उदासीनता का शिकार हो रहा हरिहर नगर

अजय सिंह

लखनऊ। राजधानी के हरिहर नगर की मुख्य सड़क का हाल कुछ ऐसा है कि यहाँ के लोग किसी दूरस्थ कस्बे की अनुभूति करते हैं। जरा सा पानी बरसता है तो सड़कें तालाब जैसी नजर आती है। जगह जगह कूड़ा फैला नजर आता है।

यहां के नागरिक विक्की अग्रवाल ने बताया कि इस वार्ड की समस्या के बारे में विभाग के लोगों को कई बार बताया लेकिन संबंधित अधिकारी इस विषय को सुन तो लेते हैं लेकिन कोई देखने तक भी जहमत नहीं उठता। स्थानीय लोगों का अपने घरों से बाहर भी निकलना मुश्किल हो रहा है। स्कूल से आते बच्चों का इस सड़क से गुजरना खतरे से खाली नहीं होता।

गंदगी का अंबार जगह जगह आसानी से देखा जा सकता है। सरकार के स्वच्छ शहर योजना को मुँह चिढ़ाता हरिहर नगर का ये इलाका शायद किसी हादसे का इंतज़ार कर रहा है। यहाँ के नागरिकों को डर समाया हुआ है कि बारिश के बाद कहीं संक्रामक रोग ना उपज जायें।