मानवता हुई शर्मसार,बेटी की थम गईं सांसें

मानवता हुई शर्मसार डेढ़ घंटे मां को थाने में बैठाए रखा, बेटी की थम गईं सांसें, पुलिस ने झाड़ा पल्ला।

अजय सिंह

हरदोई। पाली थाना क्षेत्र में पारिवारिक विवाद के मामले में पुलिस ने मानवता को शर्मसार कर दिया। दरअसल, पुलिस ने एक महिला को कार्रवाई के नाम पर थाने में बुलाकर बैठाए रखा। इस दौरान उसकी बच्ची की तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई।जिले के पाली थाने में मंगलवार की सुबह से कार्रवाई की आस में बैठी मां की गोद में मासूम बेटी की सांसे थम गईं। मासूम की मौत के बाद पुलिसकर्मियों ने मानवता को दरकिनार कर कार्रवाई करने के बजाए फटकार कर थाने से भगा दिया। गोद में बेटी का शव लेकर एसपी कार्यालय पहुंचे परिजनों ने पुलिस के अमानवीय व्यवहार की शिकायत कर न्याय की गुहार लगाई।

पाली थाना क्षेत्र के ग्राम लखमापुर निवासी पुष्पा ने बताया कि जेठ किशनपाल से विवाद चल रहा है। छह जुलाई को उसकी एक माह की बेटी आशिकी की तबीयत खराब हो गई थी। उसी दिन सुबह वह पति रामदेव के साथ बेटी की दवा लेने पाली कस्बा आ रही थी। इसी दौरान गांव के बाहर जेठ ने अपनी पत्नी और बेटों के साथ मिलकर लाठी-डंडों से हमला कर दिया था। हमलावरों ने उसकी गोद से छीनकर बेटी को भी फेंक दिया था।

इससे महिला, उसका पति और बेटी गंभीर रूप से घायल हो गई थी। पति ने थाने में तहरीर दी थी, लेकिन पुलिस ने कोई संतोषजनक कार्रवाई नहीं की थी। वह कस्बा में एक डॉक्टर के यहां बेटी का इलाज करा रही थी। उसने बताया कि मंगलवार को पुलिस ने उसे थाने बुलाया था। सुबह नौ बजे देवर महेंद्र के साथ बेटी को लेकर थाने पहुंची, जहां पर 10ः30 बजे तक किसी ने उसकी फरियाद नहीं सुनी।


इस बीच तबीयत बिगड़ने से थाने में ही बेटी ने दम तोड़ दिया। बेटी की मौत के बाद पुलिसकर्मियों से मदद की गुहार लगाई। आरोप है कि थाने में मौजूद किसी भी पुलिसकर्मी ने उसकी एक न सुनी, उल्टा फटकार लगाकर भगा दिया। शहर कोतवाली पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया।एसओ सुनील दत्त कौल ने बताया कि भाइयों के बीच विवाद हुआ था। इममें दोनों पक्षों पर शांति भंग की कार्रवाई की गई थी। सुबह से थाना परिसर में महिला गोद में बच्चे को लिए बैठी थी। वह आए फरियादियों की शिकायतें सुन रहे थे। इसी समय महिला ने बच्ची की मौत हो जाने की बात कही। सिपाहियों को भेजकर दिखवाया, तो बच्चा मृत हो गया था।