अजमेर में रीट परीक्षार्थियों को भोजन के पैकेट नि:शुल्क मिलेंगे।

अजमेर में रीट परीक्षार्थियों को भोजन के पैकेट नि:शुल्क मिलेंगे।पार्षद ज्ञान सारस्वत, रमेश सोनी, समाजसेवी विकास लालवानी तथा राजेन्द्र गुप्ता की इस पहल का अनुसरण राजस्थान भर में किया जा सकता है।इदारा-ए-दावतुल हक संस्था भी रीट परीक्षार्थियों को नि:शुल्क भोजन उपलब्ध करवाएगी।

एस0 पी0 मित्तल

राजस्थान में 26 सितंबर को होने वाली राज्य स्तरीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (रीट) में 16 लाख अभ्यर्थी भाग ले रहे हैं। इनमें से दस लाख अभ्यर्थी ऐसे हैं जो संबंधित परीक्षा केंद्र पर प्रथम और द्वितीय लेवल दोनों की परीक्षा देंगे। ऐसे में प्रदेशभर में दस लाख से भी ज्यादा अभ्यर्थी प्रात: 9 बजे से सायं 6 बजे तक अपने परीक्षा केंद्र पर रहेंगे। स्वाभाविक है कि दस लाख अभ्यर्थियों को 26 सितंबर को परीक्षा केंद्र के आसपास ही भोजन की व्यवस्था करनी होगी, ऐसी स्थिति अजमेर में भी उत्पन्न होगी। परीक्षार्थियों की परेशानी को देखते हुए अजमेर नगर निगम के पार्षद ज्ञान सारस्वत, रमेश सोनी, समाजसेवी विकास लालवानी व राजेन्द्र गुप्ता ने एक सकारात्मक पहल की है। अजमेर शहर के पुष्कर रोड, फॉयसागर रोड, वैशाली नगर क्षेत्र स्थित सभी परीक्षा केंद्रों पर 26 सितंबर को रीट परीक्षार्थियों को भोजन के पैकेट नि:शुल्क उपलब्ध करवाए जाएंगे। पार्षद सारस्वत और सोनी ने बताया कि 26 सितंबर को सुबह ही हलवाई बैठाकर पूडी, सब्जी-मिची के पैकेट तैयार करवाए जाएंगे और दोपहर को संबंधित क्षेत्रों के परीक्षा केंद्रों पर भिजवाएं जाएंगे। भोजन के पैकेट का परीक्षार्थियों से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। भोजन का खर्च कुछ मित्र वहन करेंगे। इस सकारात्मक पहल को और सफल बनाने के लिए मोबाइल नंबर 8058796562 पर ज्ञान सारस्वत, 9660368449 पर रमेश सोनी तथा 9829007144 पर विकास लालवानी से संपर्क किया जा सकता है।

पाठ की फ़ोटो हो सकती है


राजेंद्र गुप्ता का आइडिया-

कुछ रीट परीक्षार्थियों को नि:शुल्क भोजन उपलब्ध करवाने का आइडिया राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के उपनिदेशक राजेंद्र गुप्ता का है। गुप्ता चाहते थे कि राज्य सरकार द्वारा संचालित इंदिरा रसोई के माध्यम से परीक्षार्थियों को दोपहर का भोजन उपलब्ध करवाया जाए। मैंने यह आइडिया पार्षद ज्ञान सारस्वत को दिया, क्योंकि सारस्वत ही समाजसेवा के ऐसे कार्यों में हमेशा सक्रिय रहते हैं। लेकिन इंदिरा रसोई के भोजन में पात्र व्यक्ति की फोटो आदि के झंझट को देखते हुए यह व्यवस्था संभव नहीं लगी। लेकिन ज्ञान सारस्वत और पार्षद रमेश सोनी ने स्वीकार किया और अब दस हजार परीक्षार्थियों को भोजन के पैकेट नि:शुल्क उपलब्ध करवाने की व्यवस्था की जा रही है। अजमेर की इस पहल का प्रदेश के अन्य स्थानों पर भी अनुसरण किया जा सकता है। 26 सितंबर को दस लाख परीक्षार्थियों के साथ उनके परिजन भी होंगे। अभ्यर्थियों को अपने गृह जिले से निकल कर दूसरे जिले में परीक्षा देने जाना है। परीक्षार्थियों की मदद के लिए ही राज्य सरकार ने 20 से 30 सितंबर तक रोडवेज की बस में परीक्षार्थियों को नि:शुल्क यात्रा की सुविधा उपलब्ध करवाई है। यह माना कि रीट के अनेक परीक्षार्थी आर्थिक दृष्टि से संपन्न होंगे, लेकिन ऐसे बहुत से अभ्यर्थी होंगे जिन्हें दूसरे जिले में जाकर परीक्षा देने और फिर भोजन आदि की व्यवस्था करने में परेशानी है। ऐसे परीक्षार्थियों के लिए दोपहर का भोजन परीक्षा केंद्र पर ही उपलब्ध करवाना समाजसेवा का काम है।


इदारा-ए-दावतुल हक भी भोजन नि:शुल्क करवाएगी-

इदारा-ए-दावतुल हक के प्रमुख मौलाना मोहम्मद अयूब कासमी और संस्था से जुड़े एडवोकेट फैय्याज उल्ला ने बताया कि 26 सितंबर को गेगल थाना अंतर्गत ऊंटड़ा गांव स्थित उच्च माध्यमिक विद्यालय तथा आदर्श नगर थाना अंतर्गत बडग़ांव स्थित संस्था के मदरसे के परिसर में रीट परीक्षार्थियों को नि:शुल्क भोजन उपलब्ध करवाया जाएगा। इन दोनों स्थानों पर कोई भी परीक्षार्थी और उनके रिश्तेदार भोजन कर सकते हैं। भोजन की व्यवस्था 25 सितंबर की शाम से ही शुरू हो जाएगी।