वैश्विक दूरसंचार शक्ति में उभरा भारत

66
वैश्विक दूरसंचार शक्ति में उभरा भारत
वैश्विक दूरसंचार शक्ति में उभरा भारत

दूरसंचार विभाग ने विश्व दूरसंचार दिवस मनाया। केन्‍द्रीय संचार राज्य मंत्री देवुसिंह चौहान ने कहा कि आज विश्व दूरसंचार दिवस है और दुनिया के साथ आईटीयू भी इस दिन को भारत के साथ मना रहा है। भारत वैश्विक दूरसंचार शक्ति के रूप में उभरा। वैश्विक दूरसंचार शक्ति में उभरा भारत

दिल्ली। केन्‍द्रीय संचार राज्य मंत्री देवुसिंह चौहान ने नई दिल्ली स्थित डॉ. अम्बेडकर इंटरनेशनल सेंटर में विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस के उपलक्ष्य में विश्व दूरसंचार दिवस सम्मेलन का उद्घाटन किया। उन्होंने यूएसओएफ के 20 साल पूरे होने पर स्टार्टअप्‍स द्वारा दूरसंचार में नवाचारों को प्रदर्शित करने वाली प्रदर्शनी का उद्घाटन किया और स्मारक डाक टिकट जारी किया। उन्होंने [email protected] पुस्‍तक और ओपन रन (रेडियो एक्सेस नेटवर्क) टेस्ट बेड प्रोजेक्ट का भी अनावरण किया।

शीर्ष प्रदर्शन करने वाले भारत उद्यमियों का अभिनंदन किया गया। भारत की अंतिम मील कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने वाले चार शीर्ष प्रदर्शन करने वाले उद्यमियों का अभिनंदन किया गया और पहले अंतर्राष्ट्रीय क्वांटम कम्युनिकेशन कॉन्क्लेव पर रिपोर्ट भी जारी की गई। इसके अलावा, डीओटी कर्मचारियों और डीओटी की सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन वाली फील्ड इकाइयों को उनके योगदान और दूरसंचार के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित किया गया। डीओटी की फील्ड इकाई के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन का पुरस्कार एलएसए आंध्र प्रदेश, सीसीए एनई-II, और डब्‍ल्‍यूएमओ, आईएमएस चेन्नई को दिया गया। दूरसंचार के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के अधिकारियों को भी सम्मानित किया गया। लॉन्च के अवसर पर देवुसिंह चौहान ने कहा कि आज विश्व दूरसंचार दिवस है और दुनिया के साथ आईटीयू भी इस दिन को भारत के साथ मना रहा है। उन्होंने उल्लेख किया कि यह दिन आज भी उसी तरह बेहद महत्वपूर्ण है, जब 20 वर्ष पूर्व स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में डीओटी के यूएसओएफ डिवीजन का गठन किया गया था।

केन्‍द्रीय संचार राज्य मंत्री देवुसिंह चौहान

संचार राज्‍य मंत्री ने कहा कि भारत ने अमृत काल में प्रवेश किया है। उन्‍होंने आईटीयू क्षेत्र कार्यालय खोलने और भारत में 5जी सेवा शुरू करने की महत्वपूर्ण घटनाओं का उल्लेख किया। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि भारत ने सबसे तेजी से बढ़ते दूरसंचार नेटवर्क को देखा और देश के 680 से अधिक जिलों में 5जी की सबसे तेजी से शुरूआत हुई। उन्होंने कहा कि स्पेक्ट्रम आवंटन पारदर्शी तरीके से और रिकॉर्ड समय में किया गया है। उपरोक्त के साथ-साथ, स्वदेशी 4जी/5जी स्टैक के विकास ने भारत के वैश्विक दूरसंचार शक्ति के रूप में उभरने का मार्ग प्रशस्त किया है।

देवुसिंह चौहान ने आगे कहा कि यूएसओएफ और भारतनेट ने डिजिटल विभाजन को पाटने और अंतिम मील तक कनेक्टिविटी प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 6 लाख से  अधिक गाँव 4जी से जुड़ चुके हैं और 2 लाख ग्राम पंचायतों को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ा गया है जिससे डिजिटल समावेशन हुआ है। उन्‍होंने इस बात पर भी जोर दिया कि डीओटी के विभिन्न सुधारों के कारण, जीवन को सुगम बनाने, व्यवसाय करने में आसानी और नागरिक केन्‍द्रित सेवाएं प्रदान करने के लिए एक समावेशी विकास बुनियादी ढांचा विकसित किया गया है।संचार राज्‍य मंत्री ने प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा उल्लिखित पंच प्राण का भी उल्लेख किया और सभी हितधारकों को एकजुट होने, चुनौतियों पर काबू पाने और नए भारत की प्रौद्योगिकी क्रांति में योगदान देकर इस दिशा में प्रयास करने को कहा।

सचिव (दूरसंचार) डी के. राजारमन ने संचार साथी पोर्टल के विकास में शामिल अधिकारियों को सम्मानित किया। पोर्टल उपयोगकर्ताओं की रक्षा और सुरक्षा के लिए नागरिक केन्‍द्रित है। पोर्टल का लिंक (https://sancharsaathi.gov.in) है। उन्होंने एक विश्वसनीय, मजबूत और सुरक्षित दूरसंचार बुनियादी ढांचा हासिल करने के लिए मिलकर काम करने के महत्व का हवाला देते हुए सम्मेलन का समापन किया। उन्होंने अंतिम मील कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने के लिए किए जा रहे प्रयासों का उल्लेख किया और बताया कि कैसे प्रौद्योगिकी और नवाचार इसे बेहतर बनाने के लिए उत्प्रेरक साबित हुए हैं।

उन्होंने प्रौद्योगिकी परिदृश्य में चुनौतियों की चर्चा की और कहा कि इससे उबरने के लिए, नागरिकों को सस्ती और टिकाऊ सेवाएं प्रदान करने के लिए हितधारकों को एकजुट होना होगा। दूरसंचार विभाग देश भर में डिजिटल समावेशिता सुनिश्चित करने की दिशा में लगातार काम कर रहा है। आत्मनिर्भर भारत, भारतीय स्टैक और मजबूत दूरसंचार बुनियादी ढांचे के निर्माण जैसी पहलों ने नए भारत में डिजिटल क्रांति को बढ़ावा दिया है जिससे अधिक नौकरियां और वैश्विक आत्मविश्वास पैदा हुआ है।

—– पृष्ठभूमि —–

विश्व दूरसंचार दिवस आईटीयू की स्थापना और 1865 में पहले अंतर्राष्ट्रीय टेलीग्राफ कन्वेंशन पर हस्ताक्षर करने के लिए 1969 से 17 मई को प्रतिवर्ष मनाया जाता है। इसे 1973 में मलागा-टोररेमोलिनोस में संकल्प 46 के रूप में पूर्णाधिकारी सम्मेलन द्वारा स्थापित किया गया था। विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस (डब्ल्यूटीआईएसडी) इसका उद्देश्य उन संभावनाओं के बारे में जागरूकता बढ़ाने में मदद करता है जो इंटरनेट और अन्य सूचना और संचार प्रौद्योगिकियों (आईसीटी) का उपयोग समाजों और अर्थव्यवस्थाओं के साथ-साथ डिजिटल डिवाइड को पाटने के तरीकों के लिए ला सकता है। तुर्की ने दोनों घटनाओं को 17 मई को विश्व दूरसंचार और सूचना समाज दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया।

यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (यूएसओएफ) को भारत में 1 अप्रैल, 2002 से आईसीटी तक सार्वभौमिक पहुंच और सार्वभौमिक सेवाएं प्रदान करने के लिए लागू किया गया था, विशेष रूप से देश के ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों में। इस वर्ष भारत के ग्रामीण और दूरस्थ क्षेत्रों को जोड़ने वाली यूएसओएफ गतिविधियों के 20 वर्ष भी पूरे हो रहे हैं। इन 20 वर्षों में, ग्राम पंचायत टेलीफोन से लेकर ग्रामीण बीबी से मोबाइल टावर से लेकर ओएफसी परियोजनाओं और यहां तक ​​कि अनुसंधान एवं विकास परियोजनाओं तक की विभिन्न योजनाओं को लागू किया गया। यूएसओएफ इंडिया सबसे सक्रिय और जीवंत संस्थागत तंत्र में से एक है जिसमें विविधता के साथ-साथ असंबद्ध को जोड़ने का नेक उद्देश्य भी है। ।

सीडीओटी ने ओआरएएन तकनीक का परीक्षण करने के लिए नवप्रवर्तकों, स्टार्टअप्स, एमएसएमई और अन्य हितधारकों की मदद करने के लिए ओपन रन के लिए टेस्ट बेड विकसित किया है। यह पहल भारत में ओपन आरएएन इकोसिस्टम के प्रसार के लिए परीक्षण सुविधा का विस्तार करके ओपन रन (रेडियो एक्सेस नेटवर्क) के क्षेत्र में अनुसंधान और विकास में शामिल होने की सुविधा प्रदान करेगी।।

27 और 28 मार्च 2023 को विज्ञान भवन, नई दिल्ली में आयोजित “प्रथम अंतर्राष्ट्रीय क्वांटम कम्युनिकेशन कॉन्क्लेव” का आयोजन टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग सेंटर द्वारा सी-डॉट और टीएसडीएसआई के सहयोग से किया गया था। सम्‍मेलन एक शानदार सफलता थी और राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों ने रोडमैप और क्वांटम प्रौद्योगिकियों में विकास के साथ-साथ विभिन्न क्षेत्रों जैसे स्वास्थ्य सेवा, ऊर्जा, वित्त, दूरसंचार, रक्षा आदि में उनके संभावित प्रभाव और अनुप्रयोगों पर पूरी जानकारी साझा की। वैश्विक दूरसंचार शक्ति में उभरा भारत