भारत 21वीं सदी के नए भारत के नए लक्ष्यों और नई सफलताओं का प्रतीक-प्रधानमंत्री

122

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”इस समाचार को सुने”]

आज का यह कार्यक्रम, 21वीं सदी के नए भारत के नए लक्ष्यों और नई सफलताओं का प्रतीक।‘उज्ज्वल भारत-उज्ज्वल भविष्य-ऊर्जा@2047′ ऊर्जा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा देश के विभिन्न राज्यों के ऊर्जा विभाग के साथ मिलकर इस कार्यक्रम का आयोजन।प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यक्रम में सम्मिलित हुए।प्रधानमंत्री ने 03 लाख करोड़ रु0 से अधिक की बिजली वितरण के आधुनिकीकरण से जुुड़ी पुनरुत्थान आधारित योजनाओं तथा 05 हजार करोड़ रु0 की एन0टी0पी0सी0 की स्वच्छ ऊर्जा परियोजनाओं का शुभारम्भ, लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।मुख्यमंत्री ‘उज्ज्वल भारत-उज्ज्वल भविष्य-ऊर्जा@2047′ के अन्तर्गत बिजली महोत्सव एवं ऊर्जा दिवस कार्यक्रम में सम्मिलित हुए।मुख्यमंत्री ने प्रदेश में 2723.20 करोड़ रु0 की लागत से निर्मित 17 नग 400/200/132/33 के0वी0 पारेषण/वितरण उपकेन्द्रों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।अगले 25 वर्षों में भारत की प्रगति को गति देने में एनर्जी सेक्टर, पावर सेक्टर की बहुत बड़ी भूमिका,अपनी एनर्जी सिक्योरिटी को मजबूत करने के लिए भारत रीन्युएबल एनर्जी पर बल दे रहा।

लखनऊ। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज का यह कार्यक्रम, 21वीं सदी के नए भारत के नए लक्ष्यों और नई सफलताओं का प्रतीक है। आजादी के इस अमृतकाल में भारत ने, अगले 25 वर्षों के विजन पर काम करना शुरू कर दिया है। अगले 25 वर्षों में भारत की प्रगति को गति देने में एनर्जी सेक्टर, पावर सेक्टर की बहुत बड़ी भूमिका है। एनर्जी सेक्टर की मजबूती ‘ईज़ ऑफ डूइंग बिजनेस’ के साथ ही, ‘ईज़ ऑफ लिविंग’ के लिए भी अहम है। हाइड्रोजन गैस से देश की गाड़ियों से लेकर देश की रसोई तक चलें, इसको लेकर बीते वर्षों में बहुत चर्चा हुई है। आज इसके लिए भारत ने एक बड़ा कदम उठाया है। लद्दाख और गुजरात में ग्रीन हाइड्रोजन के दो बड़े प्रोजेक्ट्स पर आज से काम शुरु हो रहा है। लद्दाख में लग रहा प्लांट देश में गाड़ियों के लिए ग्रीन हाईड्रोजन का उत्पादन करेगा। ये देश का पहला प्रोजेक्ट होगा जो ग्रीन हाइड्रोजन आधारित ट्रांसपोर्ट के कमर्शियल इस्तेमाल को संभव बनाएगा। यानी लद्दाख देश का पहला स्थान होगा जहां बहुत ही जल्द फ्यूल सेल इलेक्ट्रिक वाहन चलने शुरु होंगे। ये लद्दाख को कार्बन न्यूट्रल क्षेत्र बनाने में भी मदद करेगा। देश में पहली बार, गुजरात में पाइप्ड नेचुरल गैस में ग्रीन हाइड्रोजन की ब्लेंडिंग का भी प्रोजेक्ट शुरू हुआ है। इससे नेचुरल गैस के लिए विदेशी निर्भरता में कमी आएगी और जो पैसा विदेश जाता है, वो भी देश के ही काम आएगा।

आज यहां लोक भवन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ‘उज्ज्वल भारत-उज्ज्वल भविष्य-ऊर्जा/2047’ के अन्तर्गत बिजली महोत्सव एवं ऊर्जा दिवस कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। ज्ञातव्य है कि केन्द्र सरकार के ऊर्जा मंत्रालय द्वारा देश में विभिन्न राज्यों के ऊर्जा विभाग के साथ मिलकर इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। प्रधानमंत्री जी के कार्यक्रम से विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री वर्चुअली जुड़े थे।प्रधानमंत्री ने कार्यक्रम में विभिन्न परियोजनाओं का शुभारम्भ, लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इन परियोजनाओं में 03 लाख करोड़ रुपये से अधिक की बिजली वितरण के आधुनिकीकरण से जुुड़ी पुनरुत्थान आधारित वितरण क्षेत्र योजना तथा 05 हजार करोड़ रुपये की एन0टी0पी0सी0 की स्वच्छ ऊर्जा परियोजनाएं शामिल हैं। उन्होंने नेशनल रुफटॉप सोलर पोर्टल www.solorrooftop.gov.in का शुभारम्भ भी किया।

आज जिन उपकेन्द्रों का लोकार्पण किया गया है, उनमें 220 के0वी0 उपकेन्द्र निरपुड़ा बागपत, 132 के0वी0 उपकेन्द्र मीरगंज जनपद बरेली, 220 के0वी0 उपकेन्द्र अजीजपुर जनपद शाहजहांपुर, 132 के0वी0 उपकेन्द्र बिलोचपुरा जनपद बागपत, 132 के0वी0 उपकेन्द्र मान्धाता जनपद प्रतापगढ़, 400 के0वी0 उपकेन्द्र भौखरी जनपद बस्ती, 220 के0वी0 उपकेन्द्र बबीना जनपद झांसी, 220 के0वी0 उपकेन्द्र मलवां जनपद फतेहपुर, 220 के0वी0 उपकेन्द्र अयोध्या, जनपद अयोध्या, 400 के0वी0 उपकेन्द्र रसड़ा जनपद बलिया, 220 के0वी0 उपकेन्द्र दुल्हीपार जनपद संतकबीरनगर तथा 33/11 के0वी0 उपकेन्द्र कैलहा जनपद चित्रकूट शामिल हैं। जिन उपकेन्द्रों का शिलान्यास किया गया है, उनमें 132 के0वी0 उपकेन्द्र शोहरतगढ़ जनपद सिद्धार्थनगर तथा जनपद गौतमबुद्धनगर के 220 के0वी0 उपकेन्द्र जलपुरा, 220 के0वी0 उपकेन्द्र नॉलेज पार्क-5, 132 के0वी0 उपकेन्द्र ईकोटेक-08 तथा 132 के0वी0 उपकेन्द्र ईकोटेक-10 शामिल हैं।


बिजली व्यवस्था सुधारने के लिए चार अलग-अलग दिशाओं में एक साथ काम किया गया- उत्पादन, ट्रांसमिशन, वितरण और सबसे महत्वपूर्ण कनेक्शन। ये सभी आपस में एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। इसलिए ज्यादा से ज्यादा बिजली पैदा करने के लिए, पूरे देश में बिजली के प्रभावी वितरण के लिए, ट्रांसमिशन से जुड़े पुराने नेटवर्क के आधुनिकीकरण के लिए, देश के करोड़ों घरों तक बिजली कनेक्शन पहुंचाने के लिए हमने पूरी शक्ति लगा दी।आज सिर्फ देश के हर घर तक बिजली ही नहीं पहुंच रही, बल्कि ज्यादा से ज्यादा घंटे बिजली मिलने भी लगी है। पिछले 8 वर्षों में देश में लगभग 1 लाख 70 हज़ार मेगावॉट बिजली उत्पादन की क्षमता जोड़ी गई है। वन नेशन वन पावर ग्रिड आज देश की ताकत बन चुका है। पूरे देश को जोड़ने के लिए लगभग 1 लाख 70 हज़ार सर्किट किलोमीटर ट्रांसमिशन लाइन्स बिछाई गई हैं। सौभाग्य योजना के तहत लगभग 3 करोड़ बिजली कनेक्शन देकर हम सैचुरेशन के लक्ष्य तक पहुंच रहे हैं।  


आज भारत अपनी एनर्जी सिक्योरिटी को मजबूत करने के लिए भारत रीन्युएबल एनर्जी पर बल दे रहा हैै। हमने आज़ादी के 75 साल पूरे होने तक 175 गीगावॉट रीन्युएबल एनर्जी की क्षमता हासिल करने का संकल्प लिया था। आज हम इस लक्ष्य के करीब पहुंच चुके हैं। अभी तक नॉन फॉसिल स्रोतों से लगभग 170 गीगावॉट कैपेसिटी इंस्टॉल की जा चुकी है। आज इंस्टॉल्ड सोलर कैपेसिटी के मामले में भारत, दुनिया के टॉप 4 या 5 देशों में है। दुनिया के सबसे बड़े सोलर पावर प्लांट्स में अनेक भारत में हैं। इसी कड़ी में आज दो और बड़े सोलर प्लांट्स देश को मिले हैं। तेलंगाना और केरल में बने ये प्लांट्स देश के पहले और दूसरे नंबर के सबसे बड़े फ्लोटिंग सोलर प्लांट्स हैं। अपनी ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत, बड़े सोलर प्लांट्स लगाने के साथ ही ज्यादा से ज्यादा घरों में सोलर पैनल लगाने पर भी जोर दे रहा है। लोग आसानी से रूफटॉफ सोलर प्रोजेक्ट लगा पाएं, इसके लिए आज एक नेशनल पोर्टल भी शुरू किया गया है। ये घर पर ही बिजली पैदा करने और बिजली उत्पादन से कमाई, दोनों तरह से मदद करेगा।प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार का जोर बिजली का उत्पादन बढ़ाने के साथ ही, बिजली की बचत करने पर भी है। बिजली बचाना यानि भविष्य सजाना। पी0एम0 कुसुम योजना इसका एक बेहतरीन उदाहरण है। हम किसानों को सोलर पंप की सुविधा दे रहे हैं, खेतों के किनारे सोलर पैनल लगाने में मदद कर रहे हैं। इससे अन्नदाता, ऊर्जादाता भी बन रहा है। किसान के खर्च में भी कमी आई है और उसे कमाई का एक अतिरिक्त साधन भी मिला है।भारत देश के तेज विकास के लिए पावर और एनर्जी सेक्टर के इंफ्रास्ट्रक्चर का मजबूत रहना बहुत जरूरी है। आज देश का नागरिक सुविधाएं चाहता है। बिजली सेक्टर की मजबूती हर किसी का संकल्प होना चाहिए, हर किसी का दायित्व होना चाहिए, हर किसी को इस कर्तव्य को निभाना चाहिए। [/Responsivevoice]