प्रदेश के सहकारिता क्षेत्र में अनन्त सम्भावनाएं-योगी

मुख्यमंत्री ने जनपद गौतमबुद्धनगर में आई0डी0एफ0 वर्ल्ड डेयरी समिट-2022 में आयोजित सत्र को सम्बोधित किया। केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री के नेतृत्व में सहकारिता आन्दोलन की सफलता में कोई सन्देह नहीं। प्रदेश के सहकारिता क्षेत्र में अनन्त सम्भावनाएं। प्रदेश में डेयरी सेक्टर को एक नये आयाम के साथ आगे बढ़ाने की अपार सम्भावनाएं मौजूद।

लखनऊ/गौतमबुद्धनगर। एक्सपो मार्ट जनपद गौतमबुद्धनगर में आई0डी0एफ0 वर्ल्ड डेयरी समिट-2022 में आयोजित सत्र में केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आपके नेतृत्व में सहकारिता आन्दोलन की सफलता में कोई सन्देह नहीं है। प्रदेश के सहकारिता क्षेत्र में अनन्त सम्भावनाएं हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा से राज्य सरकार द्वारा जो लक्ष्य तय किए गए हैं, उसके अनुरूप प्रदेश में रोजगार सृजन एवं ग्रामीण क्षेत्र में स्वावलम्बन को आगे बढ़ाने में सहकारिता और डेयरी सेक्टरों को मिलकर कार्य करना होगा। प्रदेश में यह सभी सम्भावनाएं मौजूद हैं।


हमारे लिए गर्व का विषय है कि उत्तर प्रदेश के एन0सी0आर0 क्षेत्र में एक विश्वस्तरीय डेयरी समिट का आयोजन हो रहा है। प्रदेश में डेयरी सेक्टर को एक नये आयाम के साथ आगे बढ़ाने की अपार सम्भावनाएं मौजूद हैं। इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए यह आयोजन एक अवसर का भी कार्य करेगा। प्रदेश के प्रत्येक परिवार, जिसके किसी भी सदस्य को शासकीय या निजी क्षेत्र में कहीं कोई नौकरी या स्वतः रोजगार प्राप्त नहीं हुआ है, उस परिवार के हर एक सदस्य को रोजगार उपलब्ध कराने की दिशा में सहकारिता और डेयरी सेक्टर की महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है। इस दृष्टि से उत्तर प्रदेश के लिए वर्ल्ड डेयरी समिट का विशेष महत्व है।

●महिला स्वयं सेवी समूहों द्वारा बुंदेलखंड क्षेत्र में ‘बलिनी मिल्क प्रोड्यूसर’ संस्था संचालित है।वर्तमान प्रतिदिन 1.35 लाख लीटर दुग्ध का कलेक्शन होता है, लगभग ₹150 करोड़ का वार्षिक टर्नओवर है, जिसमें ₹13 करोड़ का नेट प्रॉफिट होता है

●प्रदेश में जनवरी 2023 में ‘ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट’ प्रस्तावित है।इसके तहत डेयरी सेक्टर से जुड़े किसानों व पशुपालकों के जीवन में परिवर्तन लाने, उन्हें रोजगार सृजन के साथ निवेश की संभावनाओं को आगे बढ़ाने का कार्य होगा

●प्रदेश में 6,600+ गोआश्रय स्थल सरकार के स्तर पर संचालित हैं।’सहभागिता योजना’ के अंतर्गत भी 1.50 लाख गोवंश किसान व पशुपालकों को उपलब्ध कराकर पशुओं के संरक्षण के लिए एक निश्चित धनराशि भी सरकार दे रही है

●प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन व भारत सरकार के सहयोग से राज्य सरकार अपने अन्नदाता किसानों व पशुपालकों के स्वावलंबन के लिए निरंतर कार्य कर रही है


मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ल्ड डेयरी समिट में हम सभी इस संकल्प के साथ आगे बढ़ेंगे कि डेयरी सेक्टर आत्मनिर्भर बने। भारत के परिप्रेक्ष्य में डेयरी न्यूट्रीशन के साथ ही सम्पूर्ण पोषण का आधार भी है, यह सम्पूर्ण आहार भी है। डेयरी सेक्टर को भारत में सफलता की नई ऊंचाई तक पहुंचाने में प्रदेश पूरी मजबूती एवं प्रतिबद्धता के साथ जुड़कर अपनी भूमिका निभाएगा।
इस अवसर पर केन्द्रीय पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला, केन्द्रीय पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन राज्यमंत्री संजीव कुमार बालयान तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।