सेण्टर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना समस्त जनपदों में पूर्ण कराए जाने के निर्देश

मुख्यमंत्री ने प्रदेश में हाईटेक नर्सरीज़ की स्थापना की समीक्षा की।आगामी 06 माह मेें प्रदेश के समस्त 75 जनपदों में 150 हाईटेक नर्सरी (सब्जी पौध)/सेण्टर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना का कार्य पूर्ण कराए जाने के निर्देश।इन सभी नर्सरियों की स्थापना का कार्य मनरेगा के अन्तर्गत कम्युनिटी कार्यों के मद की सहायता से पूर्ण कराया जाए।हाईटेक नर्सरीज़ की स्थापना प्रदेश के कृषि विज्ञान केन्द्रों/कृषि विश्वविद्यालयों के परिसरों अथवा उद्यान विभाग के रिसर्च केन्द्रों में की जाए।सेण्टर ऑफ एक्सीलेंस फॉर वेजिटेबल्स, कन्नौज में स्थापित हाईटेक नर्सरी में मृदारहित माध्यम में सब्जियों की पौध उगाई जा रही।हाईटेक नर्सरी में कार्य तथा इसका संचालन उ0प्र0 राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत गठित स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा कराया जाए।


लखनऊ। मुख्यमंत्री आज प्रदेश में हाईटेक नर्सरीज़ की स्थापना की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हाईटेक नर्सरीज़ की स्थापना प्रदेश के कृषि विज्ञान केन्द्रों/कृषि विश्वविद्यालयों के परिसरों अथवा उद्यान विभाग के रिसर्च केन्द्रों में की जाए। इससे यह स्थान कृषकों के प्रशिक्षण के लिए भी प्रयोग किए जा सकेंगे। इन नर्सरीज़ की स्थापना इज़राइल की तकनीकी पर की जाए। शाकभाजी उत्पादन में स्वस्थ पौध की बड़ी भूमिका है। इज़राइल सरकार के सहयोग से एकीकृत बागवानी विकास मिशन के अन्तर्गत जनपद कन्नौज तथा बस्ती में सेण्टर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना की गई है। सेण्टर ऑफ एक्सीलेंस फॉर वेजिटेबल्स, कन्नौज में स्थापित हाईटेक नर्सरी में मृदारहित माध्यम (कोकोपीट, परलाइट व वर्मीकुलाइट-3ः1ः1) में सब्जियों की पौध उगाई जा रही है। हाईटेक नर्सरी से उत्पादित पौध रोगरहित एवं स्वस्थ रहती है। इससे किसानों को लाभ होता है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगामी 06 माह मेें प्रदेश के समस्त 75 जनपदों में 150 हाईटेक नर्सरी (सब्जी पौध)/सेण्टर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना का कार्य पूर्ण कराए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि विगत अप्रैल माह में मंत्रिमण्डल के समक्ष ग्राम्य विकास सेक्टर के प्रस्तुतिकरण के दौरान प्रत्येक जनपद में 02 हाईटेक नर्सरी की स्थापना के निर्देश दिए गए थे। इन सभी नर्सरियों की स्थापना का कार्य मनरेगा के अन्तर्गत कम्युनिटी कार्यों के मद की सहायता से पूर्ण कराया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हाईटेक नर्सरी में कार्य तथा इसका संचालन उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत गठित स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा कराया जाए। हाईटेक नर्सरी के संचालन में सुपरविजन एवं तकनीकी इनपुट का कार्य कृषि विज्ञान केन्द्र/विश्वविद्यालय अथवा उद्यान विभाग के रिसर्च केन्द्र के परिसर के इंचार्ज द्वारा किया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हाईटेक नर्सरी की स्थापना व संचालन के लिए सम्बन्धित कृषि विज्ञान केन्द्र अथवा जिस संस्था में हाईटेक नर्सरी का अधिष्ठापन किया जा रहा है, उस संस्था तथा उ0प्र0 राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की स्वयं सहायता समूह के मध्य एक एग्रीमेण्ट किया जाए, जिसमें लागत व होने वाली आमदनी को शेयर करने के सम्बन्ध में विस्तृत व स्पष्ट प्राविधान हों।ज्ञातव्य है कि हाईटेक नर्सरी (सब्जी पौध)/सेण्टर ऑफ एक्सीलेंस में पॉली कार्बोनेट शीट का फैन पैड सिस्टम से युक्त पॉलीहाउस, जिसमें प्लग ट्रे नर्सरी तैयार करने हेतु स्टैण्ड, थर्मोकोल के प्लग ट्रे सपोर्ट, बोने की मशीन, बूम इरीगेशन, फर्टीगेशन सिस्टम, जेनसेट आदि उपकरणों के साथ नेट हाउस, लो-टनल की व्यवस्था रहती है।