विकास का आधार बनकर उभरी ‘खाकी’

140
मुख्यमंत्री ने हीट वेव स्थिति की समीक्षा की
मुख्यमंत्री ने हीट वेव स्थिति की समीक्षा की

प्रदेश के विकास का आधार बनकर उभरी है ‘खाकी’। योगी की पुलिस ने उद्योग जगत में जगाई है उम्मीद की नई किरण। पुलिस का बढ़ा मनोबल तो कार्रवाइयों में हुई वृद्धि।

लखनऊ। ‘खाकी’, जो कभी राज्य में भय और दहशत का सिंबल बन चुकी थी, आज प्रदेश के विकास का आधार बनकर उभरी है। यही वजह है कि जिस प्रदेश से कभी उद्योगों का पलायन होता था उसे निवेशक महाकुम्भ यानी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट (जीआईएस) में 33.50 हजार करोड़ के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। पिछले छह वर्षों में यूपी से माफिया और गुंडाराज को समाप्त करके योगी की पुलिस ने उद्योग जगत में उम्मीद की नई किरण जगाई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की पुलिसिंग में आमूलचूल परिर्वतन करते हुए पुलिसकर्मियों के मनोबल को बढ़ाया है। इससे एक तरफ जहां पुलिस कार्रवाइयों में वृद्धि हुई है, वहीं प्रदेश के सभी क्षेत्रों को अधिकाधिक निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं।

प्रदेश की बागडोर संभालते हुए योगी सरकार ने कानून व्यवस्था के मोर्चे पर कार्य करते हुए पुलिस पर से राजनीतिक हस्तक्षेप को समाप्त किया। इससे पुलिस का इकबाल तो बुलंद हुआ ही, साथ ही साथ अपराध मुक्त उत्तर प्रदेश बनाने की दिशा में पूरी प्लानिंग के साथ कार्य शुरू हुए। छह वर्षों में यूपी पुलिस ने 10,713 कार्रवाइयां की, जिसमें 176 दुर्दांत अपराधी ढेर हुए। साथ ही इन कार्रवाइयों में 22,955 अपराधी गिरफ्तार किए गए। पुलिस कार्रवाइयों में 4,859 अपराधी घायल हुए। वहीं इन कार्रवाइयों में घायल होने वाले पुलिसकर्मियों की संख्या 1,416 रही तो 13 बहादुर पुलिसकर्मी वीरगति को प्राप्त हुए। पुलिस की तेज हुई गतिविधियों की वजह से पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मफिया देखते ही देखते घुटने के बल आ गये। वहीं प्रदेश के दस्यु और नक्सल प्रभावित जनपदों में भी शांति कायम हुई

READ MORE-हरी खाद पर 50 फीसदी अनुदान

पुलिस के बढ़े इकबाल का नतीजा है कि जीआईएस में प्रदेश के सभी क्षेत्रों को निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। एक समय तक प्रदेश के पश्चिमांचल और मध्यांचल तक सीमित रह जाने वाले निवेशकों ने बुंदेलखंड एवं पूर्वांचल में भी विशेष रुचि दिखाई है। निवेशक सम्मेलन के माध्यम से पश्चिमांचल को 14 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा के निवेश प्रस्ताव मिले हैं। तो वहीं 9 लाख करोड़ से ज्यादा के निवेश प्रस्ताव के साथ पूर्वांचल दूसरे नंबर पर है। इसके अलावा 4-4 लाख करोड़ से ज्यादा के निवेश प्रस्ताव प्राप्त कर बुंदेलखंड और मध्यांचल तीसरे और चौथे नंबर पर रहे। आज रिलायंस इंडस्ट्री, हिंदुजा ग्रुप, आदित्य बिड़ला, टाऊसेन इंटरनेशनल जैसी देश और विदेश की नामचीन कंपनियां उत्तर प्रदेश में निवेश कर रही है।

कई मंचों से हो चुकी है सराहना


यूपी की बदली कानून व्यवस्था की तारीफ हर कोई कर रहा है। अभी हाल ही में उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा था कि “यूपी कानून व्यवस्था के मामले में उत्तम प्रदेश बन गया है”। प्रधनमंत्री नरेन्द्र मोदी भी प्रदेश की कानून व्यवस्था की सराहना कर चुके हैं। उन्होंने पुलिसकर्मियों के नियुक्ति पत्र कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि “आज यूपी की पहचान बेहतर कानून व्यवस्था के लिए होती है”। यही नहीं इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन ओर फिक्की जैसे व्यापारिक संगठनों की ओर से भी यूपी की कानून व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रशंसा की गयी है। विकास का आधार बनकर उभरी ‘खाकी’