मनरेगा श्रमिकों को प्रशिक्षण देकर हुनरमंद बनायें-उपमुख्यमंत्री

204
गांव की समस्या-गांव में समाधान-उप मुख्यमंत्री
गांव की समस्या-गांव में समाधान-उप मुख्यमंत्री

प्रोजेक्ट उन्नति के अन्तर्गत निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप मनरेगा श्रमिकों को हर हाल में प्रशिक्षण दिलाया जाए। उन्नति प्रोजेक्ट के तहत मनरेगा श्रमिकों को प्रशिक्षण देकर बनाया जायेगा हुनरमंद। सभी मुख्य विकास अधिकारी इस कार्यक्रम की प्रगति की करें, नियमित समीक्षा। मनरेगा श्रमिकों को प्रशिक्षण देकर हुनरमंद बनायें-उपमुख्यमंत्री

लखनऊ। उपमुख्यमंत्री ने ग्राम्य विकास विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि प्रोजेक्ट उन्नति के अन्तर्गत निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप मनरेगा श्रमिकों को हर हाल में प्रशिक्षण दिलाया जाए, इस कार्य में किसी भी स्तर पर लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। निर्देश दिए हैं कि सभी मुख्य विकास अधिकारी इस कार्यक्रम की प्रगति की नियमित समीक्षा करें।मनरेगा श्रमिक मात्र श्रमिक बनकर ही न रह जाएं, इसलिए उन्हें अपने इच्छित, क्षेत्र में कुशल, हुनरमंद व काबिल बनाने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री के नेतृत्व व निर्देशन में प्रदेश में उन्नति परियोजना लागू की गयी है।

प्रोजेक्ट उन्नति के क्रियान्वयन हेतु 18-45 वर्ष तक के 100 दिनों का रोजगार पूर्ण करने वाले मनरेगा जॉब कार्ड होल्डर / परिवार के पात्र व इच्छुक सदस्यों कोग्रामीण स्व-रोजगार प्रशिक्षण संस्थान(आरसेटी) के माध्यम से प्रशिक्षण दिये जाने की व्यवस्था की गयी है। केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मनरेगा श्रमिकों को हुनरमंद बनाने से से आगे विभिन्न गतिविधियों में काम करके अपनी आमदनी में इजाफा कर सकेंगे। उपमुख्यमंत्री ने ग्राम्य विकास विभाग के अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि उन्नति परियोजना का क्रियान्वयन पूरी निष्ठा इमानदारी , संवेदनशीलता व गम्भीरता के साथ किया जाना सुनिश्चित किया जाए। श्रमिकों के हितों से जुड़ी इस परियोजना के क्रियान्वयन में किसी भी स्तर पर लापरवाही या हीलाहवाली किसी भी दशा में क्षम्य नहीं होगी।


ग्राम्य विकास आयुक्त जी एस प्रियदर्शी ने बताया कि समस्त मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वित्तीय वर्ष 2018-19 से वित्तीय वर्ष 2023-24 तक के 100 दिनों का रोजगार प्राप्त 18-45 वर्ष तक के पात्र व इच्छुक मनरेगा श्रमिकों का विकास खण्डों में मुनादी करवाकर “मोबिलाइजेशन शिविर के आयोजन द्वारा चयन करते हुये चयनित मनरेगा श्रमिकों का जिला स्तरीय कौशल विकास मिशन के माध्यम से कौशल पंजी पर पंजीकरण करवाकर जनपद के आरसेटी को पंजीकृत लाभार्थियों को प्लम्बर, इलेक्ट्रिशियन, मेन्सन आदि इच्छुक व्यवसायों में ऑनलाइन बैच बनाकर प्रशिक्षण दिलाना प्रशिक्षण सुनिश्चित किया जाए।


मिशन निदेशक राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन दीपा रंजन ने सभी मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वह निर्धारित प्रक्रियानुसार निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप लाभार्थियों का चयन सुनिश्चित करवाते हुये चयनित मनरेगा श्रमिकों का जिला स्तरीय कौशल विकास मिशन के माध्यम से कौशल पंजी पर पंजीकरण करवाकर जनपद के आरसेटी को पंजीकृत लाभार्थियों को प्लम्बर, इलेक्ट्रिशियन, मेन्सन आदि इच्छुक व्यवसायों में ऑनलाइन बैच बनाकर प्रशिक्षण आरसेटी से प्रशिक्षण दिलाने की कार्यवाही पूरी गम्भीरता से करें।मिशन निदेशक, उ०प्र० राज्य कौशल विकास मिशन, से अपेक्षा की गयी है कि वह जिला स्तरीय कौशल विकास मिशन कार्यालयों को यह निर्देशित करने का कष्ट करें कि जिले के उपायुक्त स्वतः रोजगार द्वारा उपलब्ध करायी गयी मनरेगा श्रमिकों की सूची का कौशल पंजी पोर्टल पर ससमय पंजीकरण सुनिश्चित करें।

सभी जिलों के उपायुक्त, मनरेगा को निर्देश दिए गए हैं कि वह नियमानुसार कौशल पंजी पर जनपद के अधिक से अधिक पात्र व इच्छुक मनरेगा श्रमिकों के चयन हेतु जिला व विकास खण्ड स्तर से सहयोग प्रदान करें। सभी जिलों के उपायुक्त स्वतः रोजगार, निर्देशित किया गया है कि कौशल पंजी पर जनपद के अधिक से अधिक पात्र व इच्छुक मनरेगा श्रमिकों का कौशल पंजीकरण करवाना सुनिश्चित करें। राज्य निदेशक, आरसेटी से अपेक्षा की गयी है कि वह कौशल पंजी पर पंजीकृत मनरेगा श्रमिकों को उनके इच्छुक व्यवसायों में ग्रामीण स्व-रोजगार प्रशिक्षण संस्थान (आरसेटी) से बैच बनवा कर प्रशिक्षण सुनिश्चित करवायें। प्रशिक्षण के सम्बन्ध में ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार के दिशा-निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। मनरेगा श्रमिकों को प्रशिक्षण देकर हुनरमंद बनायें-उपमुख्यमंत्री