पुलिस आधुनिकीकरण योजना के अन्तर्गत 56 जनपदों के लिए मॉडर्न प्रिजन वैन- मुख्यमंत्री

उ0प्र0 की कानून व्यवस्था देश व दुनिया के लिए नजीर प्रदेश में कानून का राज, अपराधियों में भय पुलिस बल में रिक्त पदों को भरने के लिए 01 लाख 56 हजार से अधिक पुलिस कार्मिकों की भर्ती को पारदर्शी तरीके से समयबद्ध ढंग से पूरा किया गया।पुलिस बल के आधुनिकीकरण और तकनीक से युक्त करने की प्रक्रिया के तहत प्रदेश में जिन कार्यक्रमों को समयबद्ध ढंग से आगे बढ़ाया गया, उसके परिणाम सामने।मुख्यमंत्री ने पुलिस आधुनिकीकरण योजना के अन्तर्गत 56 जनपदों के लिए मॉडर्न प्रिजन वैन को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। मॉडर्न प्रिजन वैन आधुनिक तकनीक से युक्त, इनमें कैदी को जेल से कोर्ट तक और कोर्ट से वापस जेल तक सुरक्षित पहुंचाने में मदद मिलेगी, पुलिसकर्मी भी सुरक्षित रहेंगे।उ0प्र0 पुलिस बल दुनिया का सबसे बड़ा पुलिस बल,पुलिस बल के आधुनिकीकरण के साथ ही, विगत 05 वर्षों में जिन कार्मिकों को पुलिस बल का हिस्सा बनाया गया, उनकी बुनियादी सुविधाओं का भी ध्यान रखा गया।कानून का राज स्थापित करने की दिशा में जो कार्य हुए, आज उसने प्रदेश को निवेश के एक बेहतर गंतव्य के रूप में स्थापित किया।उ0प्र0 स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेंसिक साइंसेज की स्थापना लखनऊ में की जा रही, यह हमें आधुनिक तकनीक से जोड़ेगा।

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आवास पर पुलिस आधुनिकीकरण योजना के अन्तर्गत 56 जनपदों के लिए मॉडर्न प्रिजन वैन के फ्लैग ऑफ कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री जी ने हरी झण्डी दिखाकर मॉडर्न प्रिजन वैन को रवाना किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश की 25 करोड़ की आबादी को सुरक्षा प्रदान करने तथा उनके मन में सुरक्षा का अहसास कराने की दृष्टि से सरकार ने अनेक कदम उठाए हैं। पुलिस बल में रिक्त पदों को भरने के लिए 01 लाख 56 हजार से अधिक पुलिस कार्मिकों की भर्ती को पारदर्शी तरीके से समयबद्ध ढंग से पूरा किया गया है। भर्ती किये गये पुलिस कार्मिकों की ट्रेनिंग, हर रेंज में साइबर थानों की स्थापना तथा जोन स्तर पर एफ0एस0एल0 लैब्स की स्थापना के कार्यक्रमों को प्रभावी ढंग से आगे बढ़ाया गया है। मॉडर्न प्रिजन वैन उसी श्रृंखला का हिस्सा है।उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विगत 05 वर्षों में देश की सबसे अधिक आबादी के राज्य में बेहतर कानून व्यवस्था की स्थिति के लिए पुलिस आधुनिकीकरण की प्रक्रिया को प्रारम्भ किया गया था। पुलिस बल के आधुनिकीकरण और तकनीक से युक्त करने की प्रक्रिया के तहत प्रदेश में जिन कार्यक्रमों को समयबद्ध ढंग से आगे बढ़ाया गया था, उसके परिणाम सामने हैं। उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था देश व दुनिया के लिए अनेक मामलों में नजीर बनी है। प्रदेश में अपराधियों में आज कानून का भय है, प्रदेश में कानून का राज है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि कैदियों को जेल से अदालत तथा अदालत से जेल तक लाने में जिन वाहनों का उपयोग पुलिस बल करता था, वे पुराने पड़ चुके थे। उनमें तकनीक का उपयोग नहीं किया गया था। आपराधिक गिरोह कैदियों को छुड़ाने की शरारतपूर्ण चेष्टा करते थे। आज उपलब्ध कराई जा रहीं मॉडर्न प्रिजन वैन आधुनिक तकनीक से युक्त हैं। इनमें कैदी को जेल से कोर्ट तक और कोर्ट से वापस जेल तक सुरक्षित पहुंचाने में मदद मिलेगी, पुलिसकर्मी भी सुरक्षित रहेंगे। इस वैन की प्रत्येक गतिविधि को सी0सी0टी0वी0 कैमरे के साथ जोड़ा गया है। आवश्यकता पड़ने पर पैनिक बटन का भी विकल्प दिया गया है। कानून का राज स्थापित करने की दिशा में जो कार्य हुए हैं, आज उसने प्रदेश को निवेश के एक बेहतर गंतव्य के रूप में स्थापित किया है। उत्तर प्रदेश स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेंसिक साइंसेज की स्थापना लखनऊ में की जा रही है। यह हमें आधुनिक तकनीक से जोड़ेगा। अपराध नियंत्रण में इसकी प्रभावी भूमिका होगी। प्रशिक्षण संस्थान के साथ ही, यह देश व प्रदेश के लिए दक्ष युवाओं की पूर्ति में भी सक्षम होगा।

मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में प्रदेश के प्रत्येक विभाग ने प्रगति की- कारागार राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)


उत्तर प्रदेश पुलिस बल दुनिया का सबसे बड़ा पुलिस बल है। पुलिस आधुनिकीकरण की दिशा में उठाये गये कदमों के अच्छे परिणाम सामने आये हैं। इसके माध्यम से राज्य की 25 करोड़ जनता के मन में विश्वास की भावना को सुदृढ़ करने में मदद मिलेगी। राज्य में पुलिस बल के आधुनिकीकरण के साथ ही, विगत 05 वर्षों में जिन कार्मिकों को पुलिस बल का हिस्सा बनाया गया है, उनकी बुनियादी सुविधाओं का भी ध्यान रखा गया है। उनकी आवासीय सुविधाओं की दिशा में बड़े कदम बढ़ाए गए हैं।इस अवसर पर कारागार राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मवीर प्रजापति ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में प्रदेश के प्रत्येक विभाग ने प्रगति की है। पुलिस के सभी विभागों, कारागार, होमगार्ड्स के आधुनिकीकरण के लिए मुख्यमंत्री जी के प्रयास सराहनीय हैं।

मुख्यमंत्री जी की सोच, उ0प्र0 का पुलिस बल, देश का सर्वश्रेष्ठ पुलिस बल होना चाहिए-प्रमुख सचिव गृह

प्रमुख सचिव गृह संजय प्रसाद ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने पुलिस बल को आधुनिकीकृत करने के लिए अनेक कदम उठाएं हैं। मुख्यमंत्री जी की सोच है कि उत्तर प्रदेश का पुलिस बल, देश का सर्वश्रेष्ठ पुलिस बल होना चाहिए। विगत वर्षों में मुख्यमंत्री जी ने प्रत्येक दृष्टि से नेतृत्व प्रदान किया है।इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक डी0एस0 चौहान, डी0जी0 कारागार आनन्द कुमार, डी0जी0 लॉजिस्टिक्स विजय कुमार मौर्य, प्रमुख सचिव जेल राजेश कुमार सिंह, ए0डी0जी0 कानून व्यवस्था प्रशान्त कुमार सहित अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।ज्ञातव्य है कि मुख्यमंत्री जी द्वारा आज जिन 56 जनपदों के लिए मॉडर्न प्रिजन वैन का फ्लैग ऑफ किया गया है, उनमें सहारनपुर, शामली, गाजियाबाद, हापुड़, गौतमबुद्धनगर, मुरादाबाद, बिजनौर, सम्भल, रामपुर, बरेली, बदायंू, हाथरस, एटा, कासगंज, आगरा, मथुरा, मैनपुरी, कमिश्नरेट-कानपुर, कानपुर-आउटर, फतेहगढ़, इटावा, औरैया, झांसी, चित्रकूट, हमीरपुर, महोबा, बांदा, प्रयागराज, फतेहपुर, प्रतापगढ़, कमिश्नरेट-लखनऊ, लखनऊ-ग्रामीण, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, अम्बेडकरनगर, सुलतानपुर, अमेठी, बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, सन्तकबीरनगर, गोरखपुर, महराजगंज, कुशीनगर, देवरिया, वाराणसी-ग्रामीण, गाजीपुर, चन्दौली, जौनपुर, मीरजापुर, भदोही तथा सोनभद्र शामिल हैं। इनमें से प्रत्येक जनपद के लिए 01-01 मॉडर्न प्रिजन वैन का आज फ्लैग ऑफ किया गया है।