देस म मुस्लिम आतंकवाद बढ़तय जाय रहा…..

चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से

नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान

तुरी चाचा ने प्रपंच का आगाज करते हुए कहा- उदयपुर की तालिबानी घटना ते पूरे देस का सबक लेय क चही। इ कायराना हरकत की खाली निंदा किहे ते कामु न चलि। सरकार अउ समाज का इह पय बड़ी गम्भीरता ते सोचय परी। देस म मुस्लिम आतंकवाद बढ़तय जाय रहा। यहिका कारगर इलाज होय क चही। बताव, दुई मुस्लिम आतंकी भरी बाजार म आएके धोखे त हिन्दू दर्जी क गला रेत दीहिन। दुनव कन्हैया क मारत समय वीडियो बनाईन। वाहिका सोशल मीडिया प वायरल किहिन। वीडियो म मोदी तलक मारय क धमकी दिहिन। बेचारे कन्हैया क कौनिव गलतिव नाय रहय। बस, वहिका लरिका नूपुर केर समर्थन किहिस रहय। यहिके पहिले महाराष्ट्रव म नूपुर केरे एक समर्थक का मारा गवा रहय। जम्मू-कश्मीर म तौ सालन ते हिन्दू काटा-मारा जाय रहा। आखिर हम पंच कब तलक चुप्पी साधे रहब? सोचय वाली बात हय कि हमार धैर्य जौ टूटि गवा तौ का होई…?


चतुरी चाचा अपने प्रपंच चबूतरे पर बड़ी गम्भीर मुद्रा में बैठे थे। ककुवा, कासिम चचा, मुंशीजी व बड़के दद्दा राजस्थान की आतंकी घटना पर खुसुर-पुसुर कर रहे थे। पुरई मक्के के भुट्टे भुनने की तैयारी में जुटे थे। गांव के बच्चे खेत में गुल्ली-डंडा खेल रहे थे। आज उमस भरी गर्मी थी। सूरज बादलों से लुकाछिपी खेल रहा था। भोर में हल्की बूंदाबांदी हुई थी। मेरे चबूतरे पर पहुंचते ही चतुरी चाचा ने पंचायत शुरू कर दी। वह उदयपुर के टेलर हत्याकांड से बड़े उद्देलित थे। उनका कहना था कि कन्हैया लाल की नृशंस हत्या से पूरे देश को सीख लेनी चाहिए। इस आतंकी घटना की सिर्फ भर्त्सना करने से काम नहीं चलेगा। सरकार और समाज को इस पर गम्भीरता पूर्वक विचार करना होगा। क्योंकि, मुस्लिम आतंकवाद फैलता ही जा रहा है। आखिर हिन्दू समाज कबतक धैर्यपूर्वक यह सब देखता रहेगा। मोहम्मद रियाज व गौस मोहम्मद नामक दो आतंकी भरी बाजार में एक निर्दोष टेलर का गला रेत देते हैं। वह भी सिर्फ इस बात पर कि उसके लड़के ने सोशल मीडिया में नूपुर शर्मा का समर्थन किया था। इसके पहले एक हत्या महाराष्ट्र में भी हुई थी। जम्मू कश्मीर में विगत कई वर्षों से चुन-चुनकर हिंदुओं को मारा जा रहा है। अब मुस्लिम आतंकवाद का कारगर इलाज करना ही होगा।


ककुवा ने चतुरी चाचा की चिंता को जायज ठहराते हुए कहा- चतुरी भाई, आप सही कह रहे हो। पानी अब सर ते ऊपर जाय रहा। जौने देस म एक करोड़ हिन्दू रहत हयँ। हुंवा मुट्ठी भर मुस्लिम आतंकी मारकाट कय रहे। भारत म आतंकवाद अउ नक्सलवाद केरी विष बेलि कांग्रेस बोइस रहय। आजु यहिते सगरा देस पीड़ित हय। भाजपा सरकार जब ते केन्द्र म आयी, तब ते आतंकवाद अउ नक्सलवाद पय थ्वारा लगाम लगी हय। आठ साल म अनगिनतिन आतंकवादी दफन कीन गये। मुदा, रक्तबीज की तिना आतंकी बराबर पइदा होय रहे। मुस्लिम समाज का विचार करय क चही कि आखिर सगरे आतंकी मुसलमानय काहे होत हयँ? भाई, तुम पंच अपने बच्चन का कौनि शिक्षा देत हौ? उनका मदरसन म अउ घरन म का पढ़ाव जात हय? का आपके मौलाना-मौलवी यहै सब पढ़वत हय कि गैर मुसलमानन क मारव, बात-बात म मारकाट करव, हिंसा अउ आगजनी करव, देस क संविधान न मानव, धोखे ते लोगन की हत्या करव, खाय-पीयय वाली चीजन म थूकव। हिन्दू बिटिया-बहिनन संग छल करव। दूसरे धरम की बिटियन क बहलाय-फुसलाय क निकाह करव। आतंकी बनिके देस-विदेस का तबाह करव। मुस्लिम भाइन का अब चही कि उई आतंकवादिन का अपने समाज ते बहिष्कृत करयँ। चाहे अपनय बेटवा होय। वहिके बारे म पुलिस का सूचित करयँ।


इसी दौरान चंदू बिटिया जलपान लेकर आ गई। आज हम प्रपंचियों के लिए स्वादिष्ट मक्के के भुट्टे और काला नमक, जीरे वाला मट्ठा था। हम सबने पहले नमक, नींबू लगाकर दो-दो भुट्टे चबाए। फिर एक-एक गिलास देसी मठ्ठा पीया। इसके बाद एक बार फिर प्रपंच आगे बढ़ा।मुंशीजी ने कहा- देखो, चाहे मुस्लिम हो या हिन्दू हो या फिर कोई अन्य सम्प्रदाय हो। किसी को भी कानून हाथ में नहीं लेना चाहिए। भारत में सर्वमान्य संविधान है। निष्पक्ष न्यायपालिका है। कोई समस्या है तो उसका निदान कानून के माध्यम से होना चाहिए। यदि किसी को किसी बात से दिक्कत है तो पुलिस प्रशासन की मदद लेनी चाहिए। किसी भी व्यक्ति को खुद सजा देने का अधिकार नहीं है। उदयपुर की घटना में शामिल दोनों आतंकियों और उनसे जुड़े सभी अपराधियों को फांसी की सजा होनी चाहिए। इस केस की सुनवाई फ़ास्ट ट्रैक अदालत में होनी चाहिए। कन्हैया लाल के परिजनों को त्वरित न्याय मिलना चाहिए। केंद्रीय जांच एजेंसियों को इन आतंकियों का कनेक्शन पाकिस्तान से ही नहीं, बल्कि उत्तर प्रदेश के कानपुर से भी मिला है। इस केस की गहन जांच की जाए। इनसे जुड़े हर व्यक्ति को पकड़ा जाए। सबको सूली पर चढ़ाया जाए। इस मामले में सरकार ऐसी कार्रवाई करे, जिसकी देश में नजीर बन जाए। जिससे आगे कोई तालिबानी घटना करने के बारे में सोचने की जुर्रत न करे।


बड़के दद्दा ने कहा- अगर राजस्थान में भी योगी महाराज की सरकार होती तो इस तरह की घटना ही नहीं होती। यदि घटना होती भी तो आतंकी रियाज, गौस और उसके साथी कई दिन पहले ही हूरों के पास पहुंच गए होते। राजस्थान की कांग्रेसी सरकार तुष्टीकरण पर कायम है। गहलौत सरकार रियाज और गौस जैसे दरिंदों को जेल में बिरयानी ख़िला रही है। गैर भाजपा शासित राज्यों में आतंकवाद/नक्सवाद फलता-फूलता है। क्योंकि, उन्हें सत्ता सुख के लिए एक खास तबके का वोट बैंक चाहिए। मोदी सरकार को चाहिए कि बिना देर किए देश में समान नागरिक संहिता और जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू कर दे। यही दो चीजें देश में शांति स्थापित कर सकती हैं। इनके लागू होने के बाद ही देश प्रगति के रास्ते पर तेजी से बढ़ेगा। सरकारी योजनाओं का सबसे बड़ा हिस्सा मुस्लिम समाज को मिलता है। चाहे मुफ्त का राशन हो, चाहे मुफ्त का आवास, शौचालय, बिजली, गैस कनेक्शन, सिलिंडर, चूल्हा हो या फिर आर्थिक मदद हो। सब चीजों में मुसलमान लाभार्थी सबसे ज्यादा हैं। इसके बावजूद मुस्लिम रातदिन मोदी-योगी को गाली देते हैं। इसी सम्प्रदाय के लोग राष्ट्र और समाज विरोधी गतिविधियों में संलिप्त होते हैं। इस पर मुस्लिम भाइयों को विचार करना चाहिए।


अंत में कासिम चचा बोले- मैं बड़ी देर से सबकी बातें सुन रहा हूँ। बीच में कई बार मन हुआ कि कुछ बोलूं। लेकिन, मुझे टोकाटाकी पसन्द नहीं है। इसीलिए चुप्पी मारे बैठा रहा। मुझे आप लोगों की बहुत सारी बातें ठीक लगीं। परन्तु, आतंकवाद को मुसलमानों से जोड़ना अच्छा नहीं लगा। देश के आम मुसलमान का आतंकियों से कोई वास्ता नहीं है। इस सच्चाई को स्वीकार किया जाना चाहिए। मुसलमानों को शक की दृष्टि से देखना बन्द होना चाहिए। मैं भी तो मुस्लिम हूँ। पांचों वक्त नमाज पढ़ता हूँ। आप सबको कभी मुझसे दिक्कत हुई? मेरे अलावा इस गांव-जवार में हजारों मुसलमान हैं। हम सबकी पीढ़ियां बीत गईं। कभी कहीं कोई वैमनस्यता हुई? आप लोग हमारे दीन की इज्जत करते हैं। हम लोग आपके धर्म का सम्मान करते हैं। सब लोग मिलजुलकर होली और ईद मानते हैं। मेरा मानना है कि आतंकी का कोई धर्म नहीं है। वह अधर्मी है। वह पथभ्रष्ट हैं। उनको उनके किये की सजा बराबर मिलनी चाहिए। साथ ही, हर किसी को दूसरे के मज़हब और पैग़म्बर की इज्जत करनी चाहिए। सबको धार्मिक भावनाओं को भड़काने वाले बयानों और धार्मिक कट्टरता से बचना चाहिए। तभी देश में पुर सुकून रहेगा। भारत अखण्ड रहेगा। देश तरक्की करेगा।


मैंने कोरोना अपडेट देते हुए प्रपंचियों को बताया कि विश्व में अबतक 55 करोड़ 35 लाख से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इनमें 63 लाख 59 हजार से अधिक लोग काल कलवित हो चुके हैं। इसी तरह भारत में अब तक करीब चार करोड़ 35 लाख लोग कोरोना से पीड़ित हो चुके हैं। देश में अब तक सवा पांच लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। देश में अब तक कोरोना वैक्सीन की 198 करोड़ डोज लग चुकी हैं। देश की 91.4 करोड़ आबादी को कोरोना के दोनों टीके लगाए जा चुके हैं। देश में बड़ों को कोरोना की बूस्टर डोज और बच्चों को कोरोना वैक्सीन निरंतर दी जा रही है। कोरोना की बूस्टर डोज निजी अस्पतालों में भी उपलब्ध है। भारत में बड़े पैमाने पर मुफ्त टीकाकरण होने से कोरोना महामारी नियंत्रित है।
अंत में चतुरी चाचा ने किसानों को समय से धान की रोपाई करने और अरहर, उड़द, मूंग, ज्वार, मक्का, तिल, अलसी इत्यादि बोने की तैयारी करने की सलाह दी। इसी के साथ आज का प्रपंच समाप्त हो गया। मैं अगले रविवार को चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे पर होने वाली बेबाक बतकही के साथ फिर हाजिर रहूँगा। तबतक के लिए पँचव राम-राम!