एक्सप्रेस-वे और एयरपोर्ट बनाने में न0 1

एक्सप्रेस-वे और एयरपोर्ट बनाने में उ0प्र0 मिसाल कायम कर रहा।प्रधानमंत्री द्वारा आगामी 16 जुलाई को 300 किलोमीटर की लम्बाई वाले बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण होगा।मेरठ से प्रयागराज तक बनने वाला गंगा एक्सप्रेस-वे, बाद में प्रयागराज से वाराणसी तक तथा मेरठ से हरिद्वार तक विस्तारित किया जाएगा।वर्ष 2023 तक उ0प्र0, देश का ऐसा पहला राज्य होगा, जहां 05 इण्टरनेशनल एयरपोर्ट संचालित होंगे।

एक्सप्रेस-वे और एयरपोर्ट बनाने में उत्तर प्रदेश मिसाल कायम कर रहा है। प्रधानमंत्री जी 340 किमी लम्बाई के पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को जनता को समर्पित कर चुके हैं। प्रधानमंत्री द्वारा आगामी 16 जुलाई को 300 किलोमीटर की लम्बाई वाले बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण होगा। 91 किलोमीटर लम्बाई के गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। वर्ष 2023 के मध्य तक इस पर आवागमन शुरू हो जाएगा। बलिया लिंक एक्सप्रेस-वे के लिए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है। गंगा एक्सप्रेस-वे के निर्माण की प्रक्रिया भी तेजी से आगे बढ़ाई जा रही है। मेरठ से प्रयागराज तक बनने वाला गंगा एक्सप्रेस-वे, बाद में प्रयागराज से वाराणसी तक तथा मेरठ से हरिद्वार तक विस्तारित किया जाएगा। इस एक्सप्रेस-वे के निर्माण में एस0बी0आई0 भी वित्तीय सहयोग दे रहा है। वर्ष 2017 के पहले तक प्रदेश में महज दो एयरपोर्ट थे। आज 09 एयरपोर्ट संचालित हैं। शीघ्र ही 05 एयरपोर्ट संचालित होने जा रहे हैं। वर्ष 2023 तक उत्तर प्रदेश, देश का ऐसा पहला राज्य होगा, जहां 05 इण्टरनेशनल एयरपोर्ट संचालित होंगे। प्रदेश में सुदृढ़ हुई कानून व्यवस्था से राज्य में बड़े पैमाने पर निवेश आया है। राज्य सरकार के 100 दिन पूरे होने के पहले ही, लखनऊ में आयोजित तृतीय ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी में प्रधानमंत्री जी की उपस्थिति में 80,000 करोड रुपये के निवेश प्रस्ताव धरातल पर उतारे गए। इससे नौजवानों को बड़े पैमाने पर रोजगार मिल रहा है।