ऑन लाइन कराने के 04 माह बाद भी नहीं हुआ धान क्रय

ऑन लाइन कराने के 4 माह बाद भी नहीं हो सकी धान क्रय हेतु तौल,पीड़ित ने लगाया भ्रष्टाचार का आरोप।

अब्दुल जब्बार एडवोकेट

अयोध्या/भेलसर – रुदौली क्षेत्र में सरकार के धान तौल में सीधे किसानों से धान क्रय करने के दावे खोखले साबित हो रहे हैं।केन्द्र प्रभारी व सम्बन्धित बाबू किसानों से बिना धन उगाही के धान क्रय हेतु तौल नही करते हैं।धन उगाही न होने पर किसानों को अपना धान बिचौलियों और प्राइवेट राइस मिल पर विक्रय के लिए प्रेरित करते हैं।


क्षेत्र के ग्राम सभा जखौली परगना व तहसील रूदौली निवासी अब्दुल वाहिद व ग़ुलाम मेहँदी व क़स्बा रुदौली निवासी सैय्यदा खातून ने आन लाइन शिकायती पत्र के माध्यम से आरोप लगाते हुए कहा है कि उसके द्वारा अपना धान तौल कराने हेतु 30 अक्तूबर 2020 को आन लाइन आवेदन किया था जिसकी किसान पंजीयन आई0डी0 1770063424 व 1770063446 व 1770103403 है।आन लाइन आवेदन के बाद जब निर्धारित समय पर धान तौल के लिए धान तौल केन्द्र बरौली पर सम्पर्क किया गया तो वहाॅं के प्रभारी ने बताया कि पहले दस हजार रूपये दो या सत्यापन कराके लाओ तो तौल होगी।

पीड़ित ने बताया कि उनके द्वारा उपजिलाधिकारी रूदौली से 30 दिसंबर 2020 को सत्यापन कराके उक्त तौल केन्द्र पर गए तो वहाॅं बताया गया कि किसी राइस मिल पर तौल कराओं या तौल केन्द्र पटरंगा जाओं वरना बहुत खर्चे मे पड़ जाओगें।पीड़ित ने बताया कि वे जब धान तौल केन्द्र पटरंगा पर गए तो वहाॅं भी हीवा व हवाली कर टालते है अब कह रहे है कि जाकर किसी प्राइवेट राइस मिल पर तौल कराओं।इस प्रकार पीड़ित अब तक अपना धान तौल के लिए प्रतिदिन धान तौल केन्द्र के चक्कर लगा रहे है परन्तु उनका धान क्रय के लिए तौल नही हो सका।पीड़ित ने ऑन लाइन शिकायत के माध्यम से धान क्रय हेतु तौल कराने के लिए सम्बन्धित धान तौल केन्द्र के प्रभारी को निर्देशित करने व दोषी कर्मचारियों के विरूद्व आवश्यक कार्यवाही की मांग की है।