July 27, 2021

Nishpaksh Dastak

Nishpaksh Dastak

पाँच वर्ष की अल्प आयु में इण्डिया बुक ऑफ रिकार्ड में पीहू सक्सेना का नाम

 

केजी क्लास, उम्र पाँच वर्ष और इतना बड़ा काम इण्डिया बुक ऑफ रिकार्ड में दर्ज कराया अपना नाम।

लखनऊ।  सिटी मोन्टेसरी स्कूल, राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) की के.जी. क्लास की छात्रा पीहू सक्सेना ने मात्र पाँच वर्ष की अल्प आयु में ही इण्डिया बुक ऑफ रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराकर लखनऊ का नाम पूरे देश में रोशन किया है। पीहू ने अपनी नैसर्गिक बहुमुखी प्रतिभा एवं विद्यालय द्वारा प्रदान की जा रही सर्वांगीण शिक्षा की बदौलत पाँच वर्ष की अल्प आयु में ही विभिन्न क्षेत्रों में 23 से अधिक पुरस्कार अर्जित कर इण्डिया बुक ऑफ रिकार्डस में अपना नाम दर्ज कराया है। सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी  हरि ओम शर्मा ने बताया कि पीहू की प्रतिभा व कौशल को इण्डिया बुक ऑफ रिकार्ड के संपादकीय बोर्ड द्वारा स्वीकार एवं अनुमोदित किया जा चुका है एवं इण्डिया बुक ऑफ रिकार्ड के अगले संस्करण में सी.एम.एस. छात्रा का नाम प्रकाशित किया जायेगा। विदित हो कि इण्डिया बुक ऑफ रिकार्ड देश की असाधारण एवं विलक्षण प्रतिभाओं के नाम अपने रिकार्ड में शामिल करता है एवं उन्हें एक राष्ट्रीय मंच प्रदान करता है।

श्री शर्मा ने बताया कि यह नन्हीं छात्रा ने विज्ञान, कला, खेल, टैलेन्ट हंट, मॉडलिंग, फैशन शो, फैन्सी ड्रेस, पेन्टिंग, ड्राइंग, कविता पाठ, संगीत, गायन, नृत्य एवं लेखन आदि विभिन्न क्षेत्रों में अपनी बहुमुखी प्रतिभा से लगातार लखनऊ का गौरव बढ़ा रही है। 23 पुरस्कारों के साथ इण्डिया बुक ऑफ रिकार्डस में नाम दर्ज करवाने के
साथ ही वह अब तक 30 से अधिक पुरस्कार अर्जित कर चुकी है। श्री शर्मा ने बताया कि पीहू की माता श्रीमती स्वाति सक्सेना सी.एम.एस. में शिक्षिका है एवं पिता श्री प्रतीक चन्द्रा सचिवालय में अधिकारी हैं। पीहू की माताजी ने बताया कि मेरी बेटी ने ढाई वर्ष की आयु में ही विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेना शुरू कर दिया था तथापि पीहू की इस उपलब्धि में सी.एम.एस. का अहम योगदान है। सी.एम.एस. ने समय-समय पर मेरी बेटी को विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग हेतु प्रोत्साहित किया। पीहू के माता-पिता ने विभिन्न रचनात्मक प्रतियोगिताओं हेतु अवसर उपलब्ध कराकर पीहू की प्रतिभा को निखारने व संवारने हेतु सी.एम.एस. का आभार व्यक्त किया है।