राष्ट्रपति चुनाव के उम्मीदवार घोषित

आगामी राष्ट्रपति के चुनाव में विपक्ष के मंथनों का दौर हुआ समाप्त विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार के तौर पर यशवंत सिन्हा के नाम का हुआ ऐलान। प्रमुख विपक्षी दलों ने यह फैसला लिया। यशवंत सिन्हा का नाम ऐलान करते हुए कांग्रेसी नेता जयराम रमेश ने कहा कि सर्वसम्मति से फैसला लिया गया है कि यशवंत सिन्हा राष्ट्रपति पद के संयुक्त उम्मीदवार होंगे।राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्षी दलों की ओर से संयुक्त उम्मीदवार के रूप में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को मैदान में उतारा गया है। मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है। विपक्षी उम्मीदवार के रूप में सिन्हा के नाम की घोषणा के बाद अगले राष्ट्रपति के निर्वाचन के लिए 18 जुलाई को मतदान होना अब तय माना जा रहा है। राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया जारी है। 29 जून नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि है।

राष्ट्रपति चुनाव में भाजपा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन एनडीए के उम्मीदवार के नाम पर मंथन के लिए मंगलवार को यहां पार्टी मुख्यालय में भाजपा की सर्वोच्च नीति निर्धारक संस्था, संसदीय बोर्ड की बैठक जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जे0 पी0 नड्डा, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गड़करी और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित संसदीय बोर्ड के अन्य सदस्य बैठक में मौजूद हैं। भाजपा मुख्यालय पहुंचने पर नड्डा ने प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत किया।

ओडिशा यह मंत्री नहीं रह चुकी है द्रौपदी मुर्मू।भाजपा से द्रोपति मुर्मू राष्ट्रपति के उम्मीदवार होंगी झारखंड के राज्यपाल रह चुकी हैं।द्रौपदी मुर्मू भारतीय राजनीतिज्ञ और 18 मई 2014 से झारखण्ड की राज्यपाल हैं। वो झारखण्ड की प्रथम महिला राज्यपाल हैं। वो वर्ष २००० से २००४ तक ओडिशा विधानसभा में रायरंगपुर से विधायक तथा राज्य सरकार में मंत्री भी रहीं। वो पहली ओडिया नेता हैं जिन्हें किसी भारतीय राज्य की राज्यपाल नियुक्त किया गया है। वो भारतीय जनता पार्टी और बीजू जनता दल की गठबन्धन सरकार में 06 मार्च2000 से 06 अगस्त 2002 तक वाणिज्य और परिवहन के लिए स्वतंत्र प्रभार की राज्य मंत्री तथा 06 अगस्त 2002 से 16 मई 2014 तक मत्स्य पालन और पशु संसाधन विकास राज्य मंत्री रहीं।

[/Responsivevoice]